Hindi home remedies for heart burn – छाती जलन ठीक करने के घरेलू नुस्खे

सीने में जलन, छाती जलन छाती में होने वाली एक ऐसी समस्या है जो पेट के एसिड के वापस खाने की नली में जाने से होती है। ये जलन छाती के ऊपरी एवं मध्य भाग में होती है। ज़्यादा गंभीर मामलों में सीने की जलन के साथ ही इंसान को और भी समस्याएं जैसे सांस लेने में तकलीफ तथा हाथ एवं गले में हलकी जलन होती है।

छाती जलन, ऐसे लक्षण सामने आने पर आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए एवं अपनी समस्या स्पष्ट रूप से समझनी चाहिए क्योंकि ऐसे ही लक्षण दिल का दौरा पड़ने की स्थिति में भी होती है।

छाती में जलन के कारक – सीने में जलन का कारण (Causes of heartburn)

सीने में जलन के कारण, एसोफैगस भोजन की नली होती है जो मुख को पेट से जोड़ती है और इसकी निचली मांसपेशियां काफी कड़ी होती हैं जो खाना पेट में पहुंचाने के बाद बंद हो जाती हैं। छाती में जलन, इस प्रक्रिया के फलस्वरूप पेट में मौजूद खाने का अंश वापस भोजन की नली में नहीं आ पाता।अगर ये मांसपेशियां गलत समय पर ढीली या कमज़ोर पड़ जाती हैं तो  वस्तुएं भोजन नलिका में चली जाती हैं जिससे कि सीने में जलन होती है। सीने में जलन के कारण, सीने में जलन की समस्या को कुछ ख़ास भोजन एवं पेय पदार्थों से जोड़कर देखा जाता है। कई बार जीवनशैली में परिवर्तन भी सीने में जलन का कारण बनता है जैसे कि गर्भावस्था का समय। कुछ ख़ास प्रकार की औषधियां जैसे एस्पिरिन,कुछ ख़ास एंटीबायोटिक्स एवं तनाव दूर करने वाली औषधियां भी कई बार सीने में दर्द की वजह बनती हैं। धूम्रपान करने वाला व्यक्ति, गर्भवती महिला एवं किसी मोटे व्यक्ति को जलन की समस्या ज़्यादा होती है।

सीने में जलन के प्राकृतिक उपचार (Natural home remedies for heartburn)

छाती की जलन को कम करने के घरेलू उपाय (Basil leaves for Heart Burn)

सीने में होने वाली जलन के घरेलु उपचार में तुलसी के पत्ते बहुत प्रभावी होते हैं. तुलसी के पत्तों का रस निकाल कर सीने में जलन के दौअर्न पी लें. इसके अलावा आप तुलसी की पत्तियों को दांतों से चबा कर भी खा सकते हैं.

कमज़ोरी दूर करने के घरेलू नुस्खे

छाती में जलन होना – पानी (Water)

एक गिलास पानी पी लेने से एसिड वापस पेट में चला जाता है एवं छाती में जलन, सीने में जलन से मुक्ति मिलती है।

छाती की जलन – लार (Saliva)

लार पेट के एसिड,छाती में जलन का अच्छा उपचार होता है। चीनी रहित गम,कैंडी या च्युइंग गम चबाने से अतिरिक्त लार पैदा होती है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

छाती में जलन होना – बेकिंग सोडा (Baking soda)

बेकिंग सोडा द्वारा भी एसिड वापस पेट में पहुंचाया जा सकता है। आधा चम्मच बेकिंग सोडा और नींबू के रस की कुछ बूँदें आधे कप गर्म पानी में मिलाकर पीने से सीने में जलन की स्थिति में काफी लाभ मिलता है।

छाती की जलन – सब्ज़ियों का रस (Vegetable Juices)

गाजर,खीरा,मूली एवं बीत जैसी सब्ज़ियां एल्कलाइन होती हैं। आप रस की जगह कच्ची सब्ज़ियाँ भी खा सकते हैं।

सीने में जलन का उपचार – सीधे खड़े होना (seene me jalan ka ilaj – Stand upright)

सीधे खड़े होने से एसिड अपने आप प्राकृतिक रूप से वापस पेट में चला जाता है। खाने के बाद झुके से बचें एवं खाने के उपरान्त लेटने से भी परहेज करें।

सीने में जलन का उपचार – रात को होने वाली जलन (Night time heart burn)

सोने के 2 से 3 घंटे पहले खाना खाकर आप इस जलन को होने से रोक सकते हैं। इतने समय तक एसिड की मात्रा घट जाएगी।

  • बायीं तरफ करवट लेकर सोएं क्योंकि इस तरह पेट लटका रहता है और पेट के सारे द्रव्य खाद्य नाली के निचले भाग से दूर होते रहते हैं।
  • कम एवं बार बार खाने से पेट में एसिड कम उत्पन्न होता है। कम अंतराल में बार बार भोजन ग्रहण करें।

लिवर से वसा हटाने के घरेलू नुस्खे

छाती में जलन के कुछ और प्राकृतिक तरीके (Natural Ways to Reduce chati me jalan)

1. सीने में जलन होना, किसी हुई अदरक वाली चाय एसोफैगस की मांसपेशियों को सुकून देती है और एसिड को ऊपर आने से रोकती है।

2. सौंफ एवं काले जीरे का काढ़ा जलन को दूर भगाता है। 1 चम्मच उपरोक्त दी हुई चीज़ों को पानी में गरम करके पियें।

3. सीने में जलन होना, इलायची या दालचीनी से बनी हुई चाय सीने की जलन को दूर करने का आयुर्वेदिक नुस्खा है।

4. ठंडा पानी मिश्रित दूध जलन की स्थिति में आराम दे सकता है पर अगर इसका ज़्यादा सेवन किया गया तो  इसमें मौजूद फैट्स की वजह से ये पेट में एसिड की मात्रा बढ़ाता है।

जलन से तुरंत छुटकारा (Quick relief from Heartburn)

सीने में जलन के उपाय, जलन की स्थिति में शांत बनें रहें। टाइट फिट वाली पैंट एवं स्कर्ट पहनने से परहेज करें और कमर के पास बेल्ट को ढीला कर लें। रात को जलन से बचने के लिए रात का भोजन जल्दी कर लें। सीने में जलन के उपाय, तनाव जलन को बढ़ाता है अतः तनाव दूर करने के लिए हल्का व्यायाम करे,संगीत सुनें या मसाज कराएं।

loading...