Symptoms or signs of Thyroid – थाइरोइड के लक्षण

थाइरोइड (thyroid) एक सामान्य बीमारी है जिससे महिलाएं सबसे ज़्यादा प्रभावित होती हैं। अतः इसका पता चलने के साथ ही इसका उपचार शुरू कर देना चाहिए। शुरूआती चरणों में तो ये ठीक होने की स्थिति में रहते हैं, पर इसे नज़रअंदाज़ कर देने पर ये काफी गंभीर भी हो सकते हैं। हमारे गले के पास एडम्स एप्पल (adam’s apple) के नीचे एक तितली के आकार की ग्रंथि (gland) होती है। यह काफी महत्वपूर्ण ग्रंथि होती है, क्योंकि यह हमारी चयापचय क्रिया (metabolism) को नियंत्रित करती है। सही मेटाबोलिज्म के बिना हमारा शरीर कार्य नहीं कर पाता है। यह ग्रंथि थायराइड हॉर्मोन्स (thyroid hormones) का उत्पादन करती है और ये हमारे खून में मौजूद रहते हैं।

इस ग्रंथि में थायराइड को प्रभावित करने वाला एक हॉर्मोन होता है, जो ज़रुरत पड़ने पर इनका उत्पादन शुरू या बंद कर सकता है। जब ये हॉर्मोन्स ज़्यादा निकलने लगते हैं, तब इन्हें हाइपरथाइरॉइडिस्म (hyperthyroidism) कहा जाता है,  और जब ये सामान्य से कम निकलने लगते हैं, तब इसे हाइपोथाइरॉइडिस्म (hypothyroidism) कहा जाता है।

थायराइड के लक्षण क्या है (Symptoms)

हाइपरथाइरॉइडिस्म (Hyperthyroidism)

इसके होने का मुख्य कारण हॉर्मोन्स की मात्रा शरीर में बढ़ जाना होता है। इस बीमारी के होने की संभावना महिलाओं में पुरुषों के मुकाबले 10 गुना होती है।

कुछ सामान्य लक्षण (Some common signs)

थायराइड की समस्या को दूर करने के लिए बेहतर आयोडीन युक्त पदार्थ

  • दिल की धड़कन का तेज़ होना।
  • पसीना ज़्यादा निकालना।
  • बेचैनी।
  • हाथ कांपना।
  • मांसपेशियों में कमज़ोरी।
  • काफी कम समय में काफी वज़न घट जाना।
  • त्वचा में परिवर्तन।
  • बालों का झड़ना।

आप एक ही बार में सारे लक्षण अपने अंदर नहीं पाएंगे। लेकिन अगर आपको एक से ज़्यादा लक्षण के होने का अहसास हो,  तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएँ।

हाइपोथाइरॉइडिस्म (Hypothyroidism)

यह स्थिति शरीर में थाइरोइड हॉर्मोन्स के कम हो जाने पर होती है और इससे आपके शरीर की काम करने की गति काफी धीमी हो जाती है। पुरुषों और महिलाओं दोनों को ही यह समस्या सता सकती है, पर महिलाओं में इसके होने की संभावना अधिक होती है।

कुछ सामान्य लक्षण (Some common signs)

  • थकान का अनुभव।
  • अधिक ठण्ड लगना।
  • दिल की धड़कनों का धीमा होना।
  • काफी नींद आना।
  • याददाश्त कमज़ोर होना।
  • वज़न का बढ़ना।
  • मांसपेशियों में तनाव (muscle cramps)
  • बालों का झड़ना
  • मासिक धर्म (menstruation) के द्रव्य का अधिक मात्रा में निकलना।
  • बांझपन (infertility)
  • ध्यान लगाने में तकलीफ होना।
  • त्वचा का रूखा हो जाना।
  • तनाव।
  • स्तनों से दूध जैसा कोई द्रव्य निकलना।

थायराइड का उपचार, इनमें से कई लक्षण उम्र बढ़ने से जुड़े लक्षणों से मेल खाते हैं। अगर आपको इनमें से कोई समस्या है तो आप बिना किसी देरी के अपने डॉक्टर से आज ही संपर्क करें।

ह्रदय के स्वास्थ्य को सुधारने के प्रभावी नुस्खे

कुछ और थायराइड के लक्षण (Some more Symptoms)

थाइरॉइडाइटिस (Thyroiditis)

थायराइड का उपचार, यह समस्या तब उत्पन्न होती है जब आपको गले के पास सूजन जैसा अहसास होता है। यही एक मुख्य कारण है जिसकी वजह से लोग हाइपरथाइरॉइडिस्म की बजाय हाइपोथाइरॉइडिस्म के शिकार होते हैं। आपकी ग्रन्थियां ऐसी स्थिति में काफी बड़ी हो जाती हैं और ये समय के साथ सिकुड़ने भी लगती हैं। हाशिमोटोस थाइरॉइडाइटिस (hashimoto’s thyroiditis) एक काफी सामान्य बीमारी है, जो एक परिवार में पीढ़ी दर पीढ़ी चलती रहती है। 5% वयस्क लोग इस बीमारी का शिकार होते हैं और यह समस्या महिलाओं के साथ ज़्यादा होती है। पोस्ट पार्टम थाइरॉइडाइटिस (postpartum thyroiditis) नामक एक और प्रकार के थाइरॉइडाइटिस से सबसे ज़्यादा गर्भवती महिलाएं प्रभावित होती हैं, पर एक बार बच्चे के जन्म के बाद ये समस्या दूर हो जाती है। इसके अलावा कुछ वायरल (viral) तथा बैक्टीरियल (bacterial) समस्याओं की वजह से भी ये स्थिति पैदा हो सकती है।

घेंघा (Goiter)

यह एक असामान्य सूजन को कहते हैं, जो कि एक अतिरिक्त रूप से बढ़ी हुई ग्रंथि की वजह से होती है। इसका आकार काफी बड़ा और देखने में काफी बदसूरत लग सकता है। दुनियाभर में करीब 5% लोग इस समस्या से ग्रस्त माने जाते हैं। इसके होने का मुख्य कारण शरीर में आयोडीन की कमी का होना होता है। थाइरोइड की किसी अन्य प्रकार की समस्या की वजह से भी इस बीमारी की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

गांठें (Lumps or Nodules)

गांठें ग्रंथियों के अंदर या बाहर बन सकती हैं और इन्हें नोड्यूल्स (nodules) भी कहा जाता है। दुनियाभर में करीब 7% लोग इस समस्या से पीड़ित हैं और 90% मामलों में यह कैंसर (cancer) से जुड़ा नहीं होता है। थाइरोइड का कैंसर (thyroid cancer) उन लोगों को हो सकता है, जिनके सिर या गले पर रेडिएशन (radiation) हुआ हो। इसकी वजह से आपको सांस लेने में और निगलने में तकलीफ हो सकती है, पर इलाज से यह ठीक भी हो सकता है।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday