How to control blood sugar during workout? – व्यायाम के दौरान ब्लड शुगर पर नियंत्रण कैसे करें

यदि आपको मधुमेह है तो सही दवा एवं खानपान के साथ व्यायाम करना स्वस्थ जीवन की कुंजी है। हालांकि मधुमेह से ग्रस्त मरीजों के लिए व्यायाम करते समय सावधानी बरतना काफी आवश्यक है, क्योंकि भारी शारीरिक कार्यों से रक्त में ग्लूकोस (glucose) का स्तर काफी तेज़ी से बदलता है। अतः यदि आपको मधुमेह है तो आपके लिए कुछ विशेष नियम एवं सावधानियों का पालन करते हुए व्यायाम करना आवश्यक है। भारी व्यायाम से आपके रक्त में इन्सुलिन (insulin) की मात्रा तुरंत या बाद में बढ़ जाती है। मधुमेह से पीड़ित मरीजों के लिए लम्बे व्यायाम से पहले, के दौरान एवं बाद में अपने ब्लड शुगर के स्तर पर नज़र रखना आवश्यक है।

व्यायाम से ब्लड शुगर का स्तर किस प्रकार प्रभावित होता है? (How exercising affects blood sugar levels?)

ब्लड प्रेशर के घरेलू उपाय

व्यायाम के दौरान ब्लड शुगर पर नियंत्रण रखने के लिए सबसे पहले आपके लिए यह जानना आवश्यक है कि किस प्रकार व्यायाम आपके ब्लड शुगर के स्तर को प्रभावित करता है। अब असल बात यह है कि इस स्थिति के लिए कोई एक कारगर उपाय नहीं है। व्यायाम का समय एवं प्रबलता मधुमेह से ग्रस्त मरीज़ को  भिन्न रूप से प्रभावित करता है, अतः यदि आप मधुमेह से ग्रस्त हैं तो यह अपेक्षित है कि आपका ब्लड ग्लूकोस स्तर सीधे तौर पर व्यायाम से प्रभावित होता है।

भारी एवं लंबा व्यायाम शरीर में एड्रेनैलिन (adrenalin) पैदा करता है, जो तुरंत रक्त में ग्लूकोस की मात्रा में वृद्धि करता है। अतः यदि आप मधुमेह से ग्रस्त हैं तो लंबा एवं भारी व्यायाम करना आपकी सेहत के लिए बिल्कुल अच्छा नहीं है। व्यायाम एवं ब्लड ग्लूकोस के स्तर के बीच सम्बन्ध में एक अनूठी बात यह है कि जहां भारी व्यायाम करने से रक्त में ग्लूकोस की मात्रा तुरंत बढ़ जाती है, आगे जाकर व्यायाम इन्सुलिन की मात्रा बढ़ाकर या शरीर की कोशिकाओं की इन्सुलिन के प्रति संवेदनशीलता बढ़ाकर व्यायाम रक्त में ग्लूकोस के स्तर को तुरंत बढ़ाता है। रक्त में ग्लूकोस की मात्रा व्यायाम के कुछ मिनटों से 72 घंटों के बाद कम हो जाती है एवं हर व्यक्ति में काफी अलग अलग होती है।

व्यायाम के दौरान ब्लड शुगर को नियंत्रित करने का पहला कदम (The first step to control blood sugar during workout)

व्यायाम के दौरान ब्लड ग्लूकोस के स्तर को नियंत्रित करने के लिए सबसे पहले आपके लिए यह जानना आवश्यक है कि आपकी स्थिति में व्यायाम किस प्रकार ब्लड ग्लूकोस के स्तर को प्रभावित करता है। यदि आपने अभी अभी व्यायाम करना शुरू किया है तो हमेशा हल्के व्यायाम से शुरुआत करें जिसकी अवधि एक बार में 10 मिनट से ज्यादा ना हो। व्यायाम शुरू करने से पहले अपने ब्लड ग्लूकोस के स्तर की जांच करें एवं व्यायाम करने के ठीक बाद इसकी जांच करें। सतर्क रहें एवं अगले 24 से 72 घंटों में बीच बीच में ब्लड ग्लूकोस की जांच करते रहें। इससे आपको यह पता चलेगा कि व्ययाम से आपके ब्लड ग्लूकोस का स्तर किस प्रकार प्रभावित हो रहा है।

तब तक व्यायाम न करें जब तक आपके रक्त में ग्लूकोस का स्तर कम से कम 100 एमजी/डीएल ना हो। यदि आपके रक्त में ग्लूकोस का स्तर इससे कम है एवं यदि आप व्यायाम करना चाहते हैं तो सबसे पहले एक ग्लूकोस बार खाएं, 15-20 मिनट का अंतराल लें एवं दुबारा ग्लूकोस का स्तर जांचकर यह सुनिश्चित करें कि यह करीब 100 एमजी/डीएल हो। एक बार अगर रक्त में ग्लूकोस का स्तर संतोषजनक हो तो आप 10-15 मिनट के लिए हल्का व्यायाम कर सकते हैं।

क्या व्यायाम के बीच रक्त में शुगर की मात्रा की जांच आवश्यक है? (Is it necessary to check blood sugar in between workouts?)

यदि आप दो घंटे के व्यायाम सत्र का चुनाव नहीं कर रहे हैं, जो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श लिए बिना एवं इस बात की जानकारी लिए बिना कि आपका व्यायाम आपके रक्त में ग्लूकोस की मात्रा को किस प्रकार प्रभावित कर रहा है, तो आपको अपने व्यायाम के बीच में अपने रक्त के ग्लूकोस स्तर की जांच करने की आवश्यकता नहीं है। हालांकि यदि आप लगातार 2 घंटों तक चलने वाले मध्यम से उच्च प्रबलता वाले व्यायाम का चुनाव करते हैं, तो आपको अपना व्यायाम शुरू करने के एक घंटे के बाद ग्लूकोस के स्तर की जांच करनी चाहिए।

व्यायाम के बीच रक्त में ग्लूकोस की मात्रा की जांच करना आसान होता है, पर यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि आपके रक्त में ग्लूकोस की मात्रा ज़्यादा ना गिर गयी हो, जो लगातार व्यायाम के फलस्वरूप और नीचे आ सकती है, जिससे गंभीर हाइपोग्लाईसीमिया (hypoglycemia) की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। यदि आपको पता चलता है कि आपके रक्त में ग्लूकोस का स्तर 100 एमजी/डीएल से कम है तो हल्का नाश्ता करें, छोटा अंतराल लें एवं व्यायाम जारी रखें।