Hindi tips for hiccups – शराब पीने के बाद हिचकियों से बचने के तरीके

शराब पीकर आने वाली हिचकियाँ किसी भी पार्टी का माहौल खराब कर सकती है। इन हिचकियों को आने से रोकना कोई आसान काम नहीं है। नीचे दिए गए नुस्खों में से कम से कम कोई एक नुस्खा इस मामले में आपकी मदद करेगा

कार्बोनेटेड (carbonated) शराब युक्त पेय पदार्थ जैसे बियर, शैम्पेन (beer, champagne) तथा अन्य कई मिश्रित पेय पदार्थों का सेवन करने से आपका पेट फूलकर बड़ा हो जाता है। हिचकी आने के कारण, इन पेय पदार्थों की वजह से पेट के एसिड्स (acids) हमारे भोेजन की नली (oesophagus) तक  चले जाते हैं, जिससे पेट के मध्य भाग को नियंत्रित करने वाली नसों में हलचल होती है और हिचकियाँ आनी शुरू हो जाती हैं।

इन बीच बीच में आने वाली हिचकियों को ठीक करने का कोई स्थाई या पुख्ता इलाज तो उपलब्ध नहीं है, पर कुछ घरेलू उपायों को आज़माकर आप इन हिचकियों से मुक्ति अवश्य पा सकते हैं।

पेय पदार्थ का नुस्खा (Beverage Method)

1. एक गिलास में कोई पेय पदार्थ भरें। आपके लिए फलों के रस, पानी या फिर कोई नॉन कार्बोनेटेड पेय पदार्थ ही हितकर रहेगा क्योंकि कार्बोनेशन से हिचकियाँ और ज़्यादा बढ़ती हैं। पर क्योंकि यह नुस्खा आपकी साँसों और मांसपेशियों को लक्ष्य करते हुए प्रयोग में लाया जाएगा, बियर या पानी ही फायदेमंद रहेंगे। ज़्यादा अल्कोहल वाले पेय पदार्थों से परहेज करें क्योंकि आपको हिचकियों को रोकने के लिए काफी ज़्यादा मात्रा में ये पेय पदार्थ पीना पडेगा। सीधे बोतल से ना पियें। बोतल से पीने से हवा साँसों में प्रवेश कर जाती है जिससे हिचकियाँ आने की संभावना ज़्यादा रहती है। अतः बोतल की जगह गिलास से पानी पियें।

शराब पीना रोकने के लिए सबसे अच्छे तरीके

2. अपनी नाक से बड़े धीरे धीरे सांस लेते हुए पेय पदार्थ को छोटे छोटे घूंट में जितनी देर तक हो सके पियें। धीरे और ज़बरदस्ती सांस लेने से मांसपेशियों में ऐंठन पैदा होती है जो आपके शरीर के मध्य भाग में उठ रहे मरोड़ को होने से रोकती है। शुरुआत में इसे 30 सेकंड तक करें। अगर ये पहली बार में काम ना करे तो कुछ देर का विश्राम लें और दोबारा प्रयास करें। पीते समय हवा को मुंह में खींचने से परहेज़ करें।

सांस लेने की प्रक्रिया (Breath Method)

1. शांति से बैठें। इस विधि के अंतर्गत आपको अपनी सांसें रोकनी हैं जिससे आपको चक्कर भी आ सकते हैं।

2. लम्बी सांसें लेकर अपने फेफड़ों को हवा से भर दें। इससे आपके शरीर के मध्य भाग की मांसपेशियों में उठा मरोड़ नीचे की ओर जाएगा।

3. मध्य भाग को खींचने के लिए सांस रोके रखें।

4. हवा को धीरे धीरे अपने फेफड़ों के निचले हिस्से तक खींचें। इससे आपको अपने शरीर के मध्य भाग को खींचने में ज़्यादा आसानी होगी।

5. आप जितनी देर तक सांस रोकने में सक्षम हैं उतनी देर तक इसे रोके रखें। अगर आपको चक्कर आ रहे हैं तो ज़बरदस्ती न करें।

6. अब धीरे धीरे साँस को बाहर की ओर छोड़ें।

7. अब हिचकियाँ रुकने तक पहले से लेकर 7वां कदम दोहराते रहे। आपके शरीर में मौजूद शराब आपका सिर भारी करेगी और सांस लेते समय आपको परेशानी में डालेगी। जितनी ज़्यादा देर तक अपनी सांस रोक पाएंगे, उतना ही ज़्यादा आप अपनी हिचकियाँ रोक पाएंगे।

पेट में गैस की समस्या का घरेलू इलाज

हिचकियों से बचने के नुस्खे (Tips to escape from hiccups)

हिचकियों के चक्र को बंद करने का प्रयास करें (Stop the Hiccup Cycle)

हिचकी रोकने के उपाय, ऐसा करने के लिए अपनी सांस को कुछ सेकंड के लिए रोककर बैठ जाएं। ऐसा करना संभव है, क्योंकि हिचकियाँ हमारे पेट के मध्य भाग (diaphragm) के रिफ्लेक्स एक्शन (reflex action) से जुडी होती हैं, अतः सांस को रोकने से हिचकियाँ आनी भी बंद हो जाएंगी।

हिचकियाँ बंद करने के लिए शरीर की मुद्रा को बदलें (Change the body position)

हिचकी रोकने के उपाय, इस अंदाज़ में बैठें कि आपके घुटने मुड़े हों एवं इनसे आपके पेट के मध्य भाग का स्पर्श हो रहा हो। क्योंकि हिचकियाँ डायाफ्राम के मरोड़ों से जुडी हुई होती हैं, अतः इस तरह पैरों को मोड़कर बैठने से पेट की मरोड़ें काफी कम हो जाती हैं।

हिचकियाँ बंद करने के लिए एक गिलास पानी पियें (Drink a glass of water)

हिचकी का उपचार, हिचकियाँ आने की स्थिति में बिना रुके एक घूँट में एक गिलास पानी गटागट पी जाएं। इससे पेट की मांसपेशियां हरकत में आ जाएंगी और हिचकियों का आना बंद हो सकता है। एक स्ट्रॉ (straw) की सहायता से पानी पीने से आप तेज़ी से पानी पी सकते हैं।

हिचकियाँ बंद करने के लिए खांसने का प्रयास करें (Try coughing for hichki ka upchar)

हिचकी का उपचार, ज़ोर से खांसने का प्रयास करने से हिचकियों की हरकतों में रुकावट आ सकती है, क्योंकि खांसने के समय हम पेट की मांसपेशियों की सारी शक्ति का इस्तेमाल कर लेते हैं।

हिचकियाँ बंद करने के लिए छींकने का प्रयास करें (Try to sneeze)

व्हिस्की के इस्तेमाल से बने उत्तम फेस पैक व फेस मास्क

हिचकी का इलाज, छींकने की प्रक्रिया से भी पेट की मांसपेशियां हरकत में आती हैं, जिससे हिचकियों के आने की समस्या बीच में बाधित हो सकती है तथा बंद भी हो सकती है। अगर आप इस प्रक्रिया का पालन करना चाहते हैं तो लाल मिर्च सूंघ लें या तेज़ धूप में बाहर चले जाएं।

हिचकियाँ बंद करने के लिए सिरके का सेवन करें (Take a sip of vinegar as hichki ki dawa)

कठोर पदार्थ जैसे सिरका और अचार वैसे तो शरीर को झटका देते हैं, जिसके फलस्वरूप हिचकियाँ आनी शुरू हो सकती हैं। लेकिन अगर आपको पहले से ही हिचकियाँ आ रही हैं तो सिरके की मदद से आप इन्हें रोक भी सकते हैं।

हिचकियाँ बंद करने के लिए बर्फ का इस्तेमाल (Apply Ice)

बर्फ से भरे एक छोटे बैग (bag) को अपने पेट के ऊपरी हिस्से पर रखें। ठण्ड के प्रभाव से शरीर के उस प्रभावित भाग के संचार तथा मांसपेशियों की कार्यशीलता में परिवर्तन होंगे, जिससे हिचकियाँ भी रूक सकती हैं।

हिचकियाँ बंद करने के लिए मस्तिष्क को भटकाएँ (Distract the brain for hichki ka ilaj)

किसी कठिन काम में दिमाग को पूरी तरह लगा लेने से भी हिचकियों की समस्या से छुटकारा मिल जाता है। आप हिचकियाँ बंद करने के लिए 100 से 1 तक की उल्टी गिनती गिन सकते हैं, या फिर अंग्रेजी के अक्षरों को उलटी तरफ से दोहराने से भी लाभ होगा।

हिचकियाँ बंद करने के लिए तकलीफदेह मुद्रा में पानी पियें (Drink water in an uncomfortable position)

आगे की तरफ झुककर या मेज़ पर रखे हुए गिलास को छुए बिना पानी पीने का प्रयास करने से आपका दिमाग इस तरफ काम करने लगता है कि गिलास से पानी छलक ना जाए। इस प्रक्रिया से हिचकियों का आना भी रूक जाता है।

हिचकियाँ बंद करने के लिए कुछ मीठा खाएं (Eat something sweet)

हर रोज़ एक चम्मच भरकर चीनी का सेवन करें। इससे नसों में एक मिठास का संचार होता है, जिससे हिचकियाँ दूर होने में आसानी होती है। अतः इस विधि को ज़रूर अपनाएं और चीनी के प्रभाव से हिचकियाँ दूर करें।

खाने की आम खराब आदतों से बचने के लिए

हिचकियाँ दूर करने के लिए नमक (Salt se hichaki rokne ke upay)

एक चम्मच नमक निगल लें तथा इसके बाद थोड़ा पानी पी लें हलकी सांसें लें और तनावमुक्त रहें।

कुछ और नुस्खे (More Tips)

1. हिचकी की दवा, आचार का रस पीना आपके लिए फायदेमंद रहेगा अगर आप इसे सह पाए तो।

2. अपने शरीर के बारे में जागरूक बनें और शरीर के मध्य भाग में स्थित झिल्ली के स्थान और कार्य के बारे में जानें। इससे आपको पता चलेगा कि हिचकियाँ कैसे रोकनी हैं।