How to look good during pregnancy? Tips in Hindi – गर्भावस्था के समय सुन्दर लगने के नुस्खे

गर्भावस्था के महीने मन में तरह तरह के विचार लाते हैं। एक तरफ तो आपके परिवार में नए मेहमान के आने की ख़ुशी होती है, वहीँ दूसरी तरफ शरीर में हो रहे कुछ बदलाव आपको असमंजस में डाल देते हैं। इस स्थिति में स्तन फूल जाते हैं, पेट बढ़ जाता है और कमर का भाग तो प्रायः गायब ही हो जाता है। ऐसे में महिलाएं सोचने लगती हैं कि आगे क्या होगा। ये सब सामान्य रूप में कब और कैसे आएगा। लेकिन इस स्थिति में आपको लम्बी सांस लेकर इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि ये सब कुछ ही महीनों के लिए है।

गर्भावस्था के कुछ खुशनुमा आश्चर्यजनक तथ्य (Pleasant surprises of pregnancy)

दूसरी तिमाही में पहुँचने पर गर्भावस्था का सफर काफी आसान हो जाता है। ईसिस समय एक महिला गर्भावस्था के फायदों को महसूस करती है। आसपास के लोगों का व्यवहार बदल जाता है और वे एक गर्भवती महिला की सामान उठाने तथा अपनी सीट देने जैसी चीज़ों में काफी मदद करते हैं। इन सारे पलों का आनंद लें क्योंकि ये कुछ ही महीने तक ठहरने वाले हैं।

  • इस समय यह भी ध्यान देने योग्य बात है कि दूसरी तिमाही में आपके बाल काफी स्वस्थ और खूबसूरत दिखाई देते हैं। ये बदलाव गर्भावस्था (garbhavastha ki dekhbhal) के कुछ हॉर्मोन्स का कमाल होता है।

परिवार नियोजन, खतरे, स्तनपान एवं दूसरी गर्भावस्था का सही समय

  • यही हॉर्मोन्स आपकी दमकती त्वचा और रक्त संचार में वृद्धि के लिए ज़िम्मेदार होते हैं जिससे कि आपकी त्वचा में निखार आता है।
  • इस समय आपके स्तनों का आकार एक से दो कप तक बढ़ जाता है जिससे कि आपको एक आकर्षक लुक की प्राप्ति होती है।
  • पुरुष इस नयी आई सुंदरता को काफी पसंद करते हैं। वे आपके बढ़ते हुए स्तनों तथा आकर्षक कर्व्स(curves) को देखकर काफी कामुकता का अनुभव करते हैं।

गर्भावस्था की हर तिमाही में सुन्दर तथा आकर्षक दिखने के नुस्खे (Tips to look the best during every trimester of pregnancy)

  • गर्भावस्था के दौरान त्वचा की देखभाल, आपको साधारण रूप से तैयार होना चाहिए और ठोस रंगों के कपड़े पहनने चाहिए जिनमें सामान्य लाइन्स हों और बेहतरीन कट्स हों। कपड़ों के साथ बिलकुल हलकी एक्सेसरीज पहनें और ज़ेवर भी काफी कम पहनें तो अच्छा होगा। ज़्यादा ज़ेवर पहनने से परहेज करें।
  • अपने शरीर के सकारात्मक भाग को उभारने के दृष्टिकोण से कपड़े पहनें। आपको अपने नए लुक पर नाज़ होना चाहिए और इस लुक को सबके सामने अच्छे से पेश करें।
  • अपने शरीर का रोज़ाना अच्छे से ख्याल रखें। इसके लिए निरंतर मैनीक्योर और पेडीक्योर करवाएं, नयी लिपस्टिक का प्रयोग करें और लेस वाले कपड़े पहनें।
  • अपने शरीर के हर भाग से जुड़ी सुंदरता को कई गुना बढ़ाने का प्रयास करें। इसके लिए ऐसा खानपान अपनाएं जो फल और सब्ज़ियों से भरपूर हो, प्रचुर मात्रा में विटामिन ए, सी तथा इ से युक्त हो जिससे कि आपको एक स्वस्थ त्वचा बनाए रखने में आसानी हो।
  • काफी मात्रा में पानी पियें क्योंकि शरीर की सुंदरता बढ़ाने के लिए पानी पीना काफी अहम होता है। इससे आपकी त्वचा सुन्दर और स्वस्थ बनी रहती है।

गर्भावस्था के दौरान खाए जाने वाले सर्वश्रेष्ठ फल

  • प्रेगनेंसी के दौरान त्वचा की देखभाल, एक गर्भवती महिला को जितना ज़्यादा हो सके आराम करना चाहिए। आराम करने से शरीर में शक्ति का संचार होता है और इससे आँखों के आसपास काले घेरे(dark circles)पैदा नहीं होते हैं। काले घेरों से गर्भावस्था के वक़्त आपकी सुंदरता पर बुरा प्रभाव पड़ता है।
  • कठोर सौंदर्य उत्पाद त्वचा के प्राकृतिक तेल को बेरहमी से छीन लेते हैं। अतः अगर आप साबुन का प्रयोग कर रही हैं, तो इनकी जगह सौम्य मॉइस्चराइसिंग फेस और बॉडी वाश का प्रयोग करें।
  • एक्ने की समस्या डॉक्टर के परामर्श पर प्रयोग में लाये गए टोपिकल लोशन्स से ठीक की जा सकती है।
  • गर्भावस्था में त्वचा की देखभाल, एक सौम्य क्लीन्ज़र की मदद से अपने चेहरे को दिन में दो बार अवश्य साफ़ करें। इससे त्वचा के बंद हो गए पोर्स खुल जाते हैं।
  • गर्भवती महिलाओं के लिए खास टिप्स, रोज़ाना बालों की देखभाल करें। इसके लिए रोज़ाना तेल की मसाज तथा बालों को धोने की प्रक्रिया पूरी करें। इससे बालों का झड़ना रूकता है और सिर में हो रही खुजली से भी निजात प्राप्त किया जा सकता है।
  • तौलिये, लिनन तथा अन्य एक्सेसरीज को रोज़ाना धोएं जिससे सिर में मौजूद तेल के फलस्वरूप माथे पर एक्ने की समस्या जन्म ना ले।
  • एंटीहिस्टामाइंस(Antihistamines)गर्भावस्था के दौरान एक्जिमा पर नियंत्रण करने में मदद करते हैं। सौंदर्य उत्पादों, परफ्यूम तथा घरेलू क्लीनर्स के संपर्क में कम से कम आएं।
  • गर्भावस्था में त्वचा की देखभाल, एक्जिमा की रोकथाम के लिए पसीना आने से रोकें तथा शरीर को ठंडा रखने का प्रयास करें। जैसे जैसे शरीर बढ़ता है, वैसे ही खुजली का असर ज़्यादा होने लगता है। स्क्रैचिंग या नाखूनों से नोचने के प्रभाव से बचने के लिए नाखूनों को छोटा काटकर रखें।

गर्भावस्था में खुद की देखभाल करने के नुस्खे

  • गर्भावस्था के समय पेट पर स्ट्रेच मार्क्स की रोकथाम कर पाना काफी मुश्किल होता है। अभी तक ऐसी कोई क्रीम या लोशन बाज़ार में उपलब्ध नहीं है जो स्ट्रेच मार्क्स का प्रभाव दूर कर सके। हालांकि बच्चे के जन्म के बाद कुछ हद तक इसका इलाज किया जा सकता है। यह भी देखा गया है कि कुछ समय के बाद ये मार्क्स अपने आप ही चले जाते हैं।
  • सामान्य सौंदर्य उपचार जैसे बालों की कलरिंग, फेशियल, मैनीक्योर तथा पेडीक्योर जैसे चल रहे हैं वैसे ही चलने दें। परन्तु किसी कठोर केमिकल की सहायता से किसी प्रकार का मेकअप करने से बचें। आपको यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि गर्भावस्था के समय आपकी त्वचा (pregnancy me dekhbhal) काफी ज़्यादा संवेदनशील हो जाती है।
  • गर्भावस्था के समय वैक्सिंग की प्रक्रिया ना करें। इससे त्वचा के सिकुड़ने के साथ ही वैक्सिंग से दर्द की समस्या भी हो सकती है तथा आपकी त्वचा में जलन भी हो सकती है।
  • गर्भवती महिलाओं के लिए खास टिप्स, दांतों को चमकाने के उपचार, हॉट टब, सॉना, स्टीम और टैनिंग बेड का प्रयोग गर्भावस्था के समय बिलकुल न करें। इन सारी विधियों से शरीर का तापमान बढ़ता है और संतुलन प्रभावित होता है।
loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday