How to keep breast firm after pregnancy tips in Hindi – गर्भावस्था के बाद स्तनों को सुडौल कैसे रखें?

सालों से महिलाएं स्तनों के ढीले पड़ने का दोष स्तनपान पर डालती रही हैं। अमेरिका की एक अकादमी ने उन 132 महिलाओं का इंटरव्यू लिया जो अपने स्तन बड़े कराना या उनमें हल्का संशोधन करवाना चाहती थी। इनमें से 70 महिलाओं ने 6 से 9 महीनों तक अपने बच्चों को स्तनपान करवाया था और इन सबके स्तनों के ढीलेपन में गर्भावस्था के पहले के मुकाबले कोई अंतर नहीं था।

अतः यह बात अवश्य जान लें कि स्तनपान आपके नवजात शिशु के लिए काफी अावश्यक है और इसका स्तनों के ढीलेपन से कोई सम्बन्ध नहीं है।

शोधकर्ताओं ने फिर बताया कि गर्भावस्था के कारण मिल्क ग्लैंड्स के बढ़ने और सिकुड़ने से स्तन ढीले पड़ते हैं, स्तनपान की वजह से नहीं। स्तनों के ढीले पड़ने का सबसे मुख्य कारण है उम्र का बढ़ना। उम्र बढ़ने के साथ महिलाएं अपने स्तन का लोच तथा कड़ापन गंवाती चली जाती हैं। वैसे तो यह स्थिति 40 के पहले नहीं आती, पर फिर भी गर्भावस्था के बाद सुडौल स्तन पाने का प्रयास करना काफी आवश्यक है।

गर्भावस्था के बाद स्तनों को सुडौल रखने के उपाय (Remedies to keep breasts firm after pregnancy)

गर्भावस्था के बाद देखभाल के लिए बर्फ की मसाज (Ice massage se stan ko sudol banane ke upay)

यह मसाज ढीले पड़ गए स्तनों को दोबारा सुडौल बनाने में काफी बड़ी भूमिका निभाती हैं। ठन्डे तापमान से कोशिकाएं सिकुड़ती हैं जिससे आपके स्तन उठे हुए और सुडौल लगते हैं।

गर्भावस्था के दौरान मुंह का कड़वा स्वाद कैसे हटाएं ?

  • बर्फ के टुकड़े लें और इनसे 1 मिनट तक अपने स्तनों पर गोलाकार मुद्रा में मालिश करें।
  • एक नरम तौलिये का प्रयोग करके अपने स्तनों को सुखाएं और एक ब्रा पहनें जो आपको अच्छे से फिट हो।
  • अब एक लेटी हुई अवस्था में आधे घंटे तक रहें।
  • जब भी आपको अन्य कार्यों से फुर्सत मिले तो इस प्रक्रिया को नियमित अंतराल पर करें।
  • ध्यान रखें कि बर्फ के टुकड़ों को एक मिनट से ज़्यादा समय तक अपने स्तनों पर रहने न दें। इससे आपके स्तन का भाग सुन्न पड़ सकता है।

स्तनों को सुडौल बनाने के लिए ओलिव आयल (Olive oil se stano ko firm karna)

स्तनों को ढीले पड़ने से बचाने के लिए उनपर ओलिव आयल से मालिश करें। यह फैटी एसिड्स और एंटी ऑक्सीडेंट्स का काफी बेहतरीन स्त्रोत होता है जो फ्री रेडिकल्स द्वारा शरीर को पहुंचाए गए नुकसान को पूरी तरह उलट देता है। इससे आपकी त्वचा की गुणवत्ता में भी वृद्धि होती है।

  • अपनी हथेली में ओलिव आयल लें और इन्हें आपस में रगड़कर थोड़ी गर्मी पैदा करें।
  • अपने हाथों को अपने स्तनों के ऊपर ऊपरी दिशा में घुमाएं। इस तरह 15 मिनट तक स्तनों की मालिश करें। इससे रक्त संचार में वृद्धि होती है तथा कोशिकाओं के ठीक होने की प्रक्रिया तेज़ी से होती है।
  • इस विधि को हर हफ्ते 4 से 5 बार दोहराएं।

टिप्स :आप ओलिव आयल की जगह ऑर्गन, बादाम, जोजोबा तथा नाशपाती का तेल भी प्रयोग कर सकती हैं।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

गर्भावस्था के बाद देखभाल के लिए खीरा और अंडे का पीला भाग (Cucumber with egg yolk)

उपरोक्त दोनों उत्पादों के मिश्रण से आप स्तनों का एक बेहतरीन मास्क बना सकती हैं। खीरे में त्वचा की टोनिंग करने के काफी प्रभावी गुण होते हैं और अंडे का पीला भाग आपको काफी मात्रा में विटामिन्स और प्रोटीन्स का लाभ पहुंचाता है। इस विधि का प्रयोग हफ्ते में एक बार करने से ही आपके स्तनों की कोशिकाएं मज़बूत बन जाएंगी और आपके स्तनों के ढीले पड़ने की शिकायत भी दूर हो जाएगी।

गर्भावस्था के बाद हिप्स का आकार कम कैसे करें ?

  • एक ब्लेंडर में एक छोटा खीरा डालें और इसकी प्यूरी बनाएं।
  • अब इसमें एक अंडे का पीला भाग डालें।
  • सही प्रकार से पेस्ट बनाने के लिए इसमें 1 चम्मच क्रीम या मक्खन डालें।
  • इस पेस्ट को स्तनों पर लगाएं और करीब 30 मिनट तक रहने दें।
  • तय समय के बाद इसे ठन्डे पानी से धो लें।

लूज ब्रेस्‍ट के लिए अंडे का सफ़ेद भाग (Egg whites se stano ko tight karne ke tarike)

अंडे का सफ़ेद भाग एक प्रकार का एस्ट्रिंजेंट होता है और इससे त्वचा को पोषण मिलता है। इनमें हाइड्रो लिपिड होते हैं जो ढीले पड़ गए स्तनों को उठाकर उन्हें सुडौल बनाते हैं।

  • एक अंडे का सफ़ेद भाग लें और इसे तब तक फेंटें जब तक कि यह झागदार ना हो जाए। अब इसे स्तनों पर लगाएं तथा आधे घंटे तक सूखने दें। अब इसे खीरे के रस या ठन्डे पानी से धो लें। आप खीरे के रस की बजाय प्याज का रस भी प्रयोग में ला सकती हैं।
  • आप वैकल्पिक तौर पर एक अंडे के सफ़ेद भाग को 1 चम्मच शहद या दही के साथ भी मिला सकती हैं। इस मिश्रण को अपने स्तनों पर लगाएं और करीब 20 मिनट तक सूखने दें। अब इसे ठन्डे पानी से धो लें।

ऊपर दी गयी विधियों में से कोई भी एक हफ्ते में एक बार प्रयोग में लाएं और सुडौल स्तन पाएं।

ढीली ब्रेस्‍ट के लिए मेथी (Fenugreek se loose breast ke upay hindi me)

मेथी का प्रयोग आयुर्वेदिक औषधियों में काफी मात्रा में किया जाता है। इसमें विटामिन्स और एंटी ऑक्सीडेंट्स होते हैं जो फ्री रेडिकल्स से लड़ते हैं, स्तनों को सुडौल और सख्त बनाने में मदद करते हैं तथा इसके आसपास की त्वचा को भी काफी नरम बनाते हैं।

  • एक चौथाई कप मेथी का पाउडर लें और इसमें पर्याप्त मात्रा में पानी मिलाकर एक गाढ़ा पेस्ट बनाएं। इस मिश्रण को स्तनों पर लगाएं तथा इसे 5 से 10 मिनट तक सूखने दें। अब इसे गर्म पानी से धो लें। इस विधि का प्रयोग हफ्ते में हफ्ते में 1 से 2 बार करें।
  • आप वैकल्पिक तौर पर आधा कप दही, विटामिन इ के तेल की 10 बूँदें, 1 अंडे का सफ़ेद भाग और मेथी के तेल की 10 बूँदें डालें। इस पेस्ट को तब तक हिलायें जब तक यह मुलायम न बन जाए। इस पेस्ट को अपने स्तनों पर लगाएं और धीरे धीरे मालिश करें। अब इसे 30 मिनट तक सूखने दें और फिर ठन्डे पानी से इसे धो लें। हफ्ते में एक बार इस प्रक्रिया का प्रयोग अवश्य करें।

प्रसव के बाद देखभाल के लिए अनार (Pomegranate se loose breast ka ilaj)

गर्भावस्था के दौरान बालों की देखभाल के नुस्खे

अनार में उम्र को छिपाने वाले गुण होते हैं जिसकी वजह से यह आपके स्तनों को ढीला पड़ने से रोकने में सहायता करता है। अनार के बीज का तेल फाइटो न्यूट्रिएंट्स (phyto-nutrients) से भरपूर होता है, जिसकी मदद से आपको सुडौल स्तनों की प्राप्ति होती है।

  • अनार के छिलके को लें तथा इसमें थोड़ा सा गर्म सरसों का तेल मिलाएं। इन दोनों उत्पादों का एक पेस्ट (paste) तैयार करें और इससे अपने स्तनों पर अच्छे से गोलाकार मुद्रा में मालिश करें। इसे 5 से 10 मिनट तक जारी रखें तथा इसके बाद सोने चले जाएं।
  • आप स्तनों पर दिन में दो से तीन बार मालिश करने के लिए अनार के बीज के तेल का प्रयोग कर सकते हैं।
  • एक और वैकल्पिक उपाय के तौर पर चार चम्मच नीम के तेल को एक चम्मच पाउडर के रूप में किये गए अनार के छिलके के साथ मिश्रित करें। इस मिश्रण को दो मिनट तक गर्म होने दें एवं इसके बाद इसे ठंडा कर लें। इस मिश्रण का प्रयोग अपने स्तनों की मालिश करने के लिए करें तथा कुछ हफ़्तों तक हर हफ्ते दो बार इस प्रक्रिया को दोहराएं।

ढीले स्तनों के लिए एलोवेरा (Aloe vera for dheele breast)

इसमें त्वचा में कसावट लाने के गुण होते हैं तथा इसी वजह से यह आपके स्तनों को ढीला होने से बचाने में सहायता करता है। इनमें एंटी ऑक्सीडेंटस (antioxidants) की भी प्रचुर मात्रा होती है एवं यह फ्री रेडिकल्स (free radicals) द्वारा किये गए नुकसान को भी ठीक करने की क्षमता रखता है।

  • एलो वेरा का जेल (gel) लें तथा इससे अपने स्तनों पर 10 मिनट तक मालिश करें। इस बात को सुनिश्चित करें कि यह मालिश गोलाकार मुद्रा में ही हो रही हो। इसके बाद इसे 10 मिनट तक सूखने के लिए छोड़ दें। समय समाप्त होने पर इसे गुनगुने पानी (lukewarm water) से धो लें तथा बेहतरीन परिणामों के लिए इसे हफ्ते में 4 से 5 बार दोहराएं।
  • वैकल्पिक तौर पर एक चम्मच एलोवेरा जेल लें तथा इसे एक चम्मच शहद या मयोनैस (mayonnaise) के साथ मिलाएं। इस मिश्रण का प्रयोग अपने स्तनों पर करें और इसे 15 मिनट के लिए छोड़ दें। समय समाप्त होने पर इसे पहले गुनगुने तथा बाद में सामान्य पानी से धो लें। इस प्रक्रिया का प्रयोग हर हफ्ते एक बार करें।

प्रसव के बाद भोजन से गर्भावस्था के बाद अतिरिक्त वज़न घटाएं (Lose your baby weight after pregnancy)

गर्भावस्था के स्ट्रेच मार्क्स हटाने के अद्भुत घरेलू नुस्खे

बच्चे के जन्म धीरे धीरे अपना अतिरिक्त वज़न घटाने का प्रयास करें। भले ही आपको कितनी भी जल्दी हो, आपको इस कार्य के लिए अपने शारीरिक स्वास्थ्य को बरकरार रखने के साथ ही अपने खानपान पर भी काफी ध्यान देना होगा। इस समय आपकी त्वचा दोनों तरफ खिंच जाती है, अतः इस समय त्वचा में लोच की समस्या भी दिखने लगती है। अतः अपने स्तन को खुद की मरम्मत करने का पर्याप्त समय दें। इससे आपका शरीर भी अच्छा रहेगा और आप पूरी तरह स्वस्थ अनुभव करेंगी।

ढीले ब्रेस्‍ट (ढीले स्तनों) को ठीक करने के लिए मॉइस्चराइसिंग (Moisturize to reduce sagging breasts hai pregnancy ke baad care)

आप सादे कोको मक्खन, शे मक्खन cocoa butter, shea butter), बादाम के तेल आदि से त्वचा को मॉइस्चराइस कर सकती हैं। इससे त्वचा में लोच आती है, इसकी प्रतिरोधक क्षमता बढती है तथा स्तन की त्वचा में कोलेजन (collagen) के उत्पादन को भी बढ़ावा मिलता है। अतः किसी बेहतरीन मॉइस्चराइसिंग उत्पाद से स्तनों की अच्छे से मालिश करें। मॉइस्चराइसिंग से स्ट्रेच मार्क्स (stretch marks) को रोका तथा आने से दूर किया जा सकता है। इससे त्वचा नर्म और चमकदार बनती है एवं यह रूखी त्वचा के लिए काफी बेहतरीन विकल्प है।

स्तनों का सही आकार पाने के लिए व्यायाम (Exercise to get perfect breast size)

आप सिर्फ छाती के ऊपरी भाग की मांसपेशियों का व्यायाम करके ही अपने स्तनों के आकार में वृद्धि कर सकती हैं। इसके लिए पुश अप्स (pushups) करें या कोहनियों को किनारों की तरफ करके अपनी हथेलियों को आपस में जोड़ें। इस विधि का प्रयोग करने से आपके स्तन ज्यादा तने हुए और काफी बड़े प्रतीत होंगे। आपकी कोर (core) और पीठ की मांसपेशियों पर अच्छे से ध्यान देने पर आपकी मुद्रा में भी सुधार होगा। इससे आपकी लम्बाई ज़्यादा दिखेगी तथा स्तन ढीले प्रतीत नहीं होंगे।

गर्भवती महिलाओं के लिए आहार

गर्भावस्था के बाद देखभाल गर्भावस्था के बाद सही ब्रा पहनें (Wear right bra after pregnancy)

प्रसव के बाद, गर्भावस्था के बाद अपने लिए सही ब्रा का चयन करना काफी आवश्यक होता है। इसे खरीदने से पहले अपने शरीर का सही नाप ले लें।

loading...