Hindi tips to reduce the body heat – अतिताप को कम करने के नुस्खे, भोजन जो आपके शरीर की गर्मी को नियंत्रित करता है।

शरीर के तापमान का हमारी सेहत पर काफी असर पड़ता है। जहां बहुत ज्यादा ठंडा होना भी हानिकारक है, वहीं बहुत ज्यादा गर्मी भी हद से ज्यादा हानिकारक है। गर्मियों में एक औसत इंसान के शरीर का तापमान 36.9 डिग्री तक पहुंच जाता है, जो कि केवल शरीर का ही तापमान है। यदि बाहर के तापमान से मिल रही गर्मी को भी जोड़ दिया जाए तो यह काफी हद तक बढ़ जाता है। अक्सर केवल तापमान से ही नहीं, शरीर में गर्मी कई कारणों से उत्पन्न होती हैं। गर्मियों के मौसम में शरीर सूरज की तेज किरणों के कारण गर्म होता है, वहीं दूसरे अन्य कारण भी शरीर में गर्मी को बढ़ाते हैं। मसालेदार भोजन, शराब, कैफीन (caffeine) इत्यादि ऐसी चीजें हैं, जिनसे आपको परहेज करना चाहिए, क्यूँकि ये खाद्य पदार्थ आपके शरीर को अप्रत्याशित रूप से गर्म कर देते हैं। कई बार यह भी देखा गया है कि अत्यधिक दवाइयों के सेवन से भी ऐसा होता है। शरीर में गर्मी दूर करने के उपाय हम इस आर्टिकल में आप सबसे साझा करेंगे।

अगर किसी भी कारण से शरीर के तापमान में बढ़ोत्तरी या घटोत्तरी होती है तब शरीर में गर्मी के लक्षण दिखने लगते हैं और इसका असर सीधा शरीर के अंगों पर पड़ता है। इसके कारण उन्हें काफी क्षति पहुंच सकती है। शरीर में गर्मी के उपाय यानी अतिताप को कम करने के उपाय जानने से पहले हमें यह जानना होगा कि अतिताप के मुख्य कारण क्या हैं? वे कारण आगे बताए गए हैं।

शरीर की गर्मी के कारण (Causes of body heat)

गर्मी में शरीर को ठंडा रखने के उपाय

  • अतिताप का सबसे पहला कारण हमारे कपड़े हैं। तंग कपड़े पहनने से अक्सर ही अप्रत्याशित रूप से तापमान बढ़ता है।
  • बीमार पड़ना। जैसे बुखार होना, जुकाम होना या फिर वायरल से संक्रमित हो जाना।
  • चिकित्सकीय परिस्थिति जैसे: शारीरिक रूप से अपंग हो जाना।
  • खून में गर्मी बढ़ जाना।
  • दवाई या अन्य उत्तेजक तत्वों जैसे कोकिन या अन्य कोई नशीला पदार्थों का सेवन करना।
  • यह काफी हैरान करने वाला तथ्य है कि जब हम सो रहे होते हैं, तब भी हमारे शरीर की गर्मी बढ़ रही होती है। यह मस्तिष्क की अशांति के कारण होता है।
  • सूरज की रोशनी में ज्यादा देर तक मौजूद रहने से भी आपके शरीर का तापमान बढ़ सकता है।

अतिताप को कम करने के लिए क्या ना करें (Don’ts to reduce body heat)

यहां उन खाद्य पदार्थों की सूची दी गई, जिनका सेवन आपको नहीं करना या सीमित मात्रा में करना है। यह पदार्थ शरीर को सीधे तौर पर क्षति पहुंचाते हैं।

  • सबसे पहला उपचार है कि गर्म और मसालेदार खाद्य वस्तुओं का सीमित मात्रा में सेवन करें।
  • कैफीन और शराब खून में गर्मी को बढा देते है इसलिए इन सबसे दूर रहें।
  • सोडियम का आहार कम करें।
  • खाना पकाने के लिए बादाम, तिल, मक्का या अन्य किसी भी वसायुक्त पदार्थो के तेल का प्रयोग न करें।
  • अपने दैनिक जीवन में बादाम, सुपारी या मुँगफ़ली जैसे गर्म पदार्थों का प्रयोग सीमित रूप से करें।
  • वसायुक्त भोजन का प्रभाव शरीर के ताप पर अत्यधिक होता है। मांसाहार का सेवन कम करने का प्रयास करें या फिर अगर करते भी हैं तब उसमें संचूरित तेल, मसाले का प्रयोग करें।

बॉडी हीट को कम करने के लिए क्या करें (Do’s to reduce body heat)

अब बारी आती है उन खाद्य पदार्थों की बारी जिनका सेवन आप ताप को नियंत्रित करने के लिए कर सकते हैं।

  • खाद्य पदार्थों में वसायुक्त खाद्य पदार्थो को छोड़कर, हल्के एवं ठंडे पदार्थों का प्रयोग करें।
  • हर सुबह एक गिलास ताजा अनार के रस में बादाम के तेल की कुछ बूंदें मिलाकर पीयें।
  • सोते वक़्त खसखस का सेवन करने से सहायता मिलेगी। इसका सेवन सीमित मात्रा में करें।
  • रोजाना एक चम्मच मेथी के बीज खाएं।
  • जैतून का हर्बल तेल भी अतिताप को कम करने में काफी फायदेमंद है।
  • रोज कुछ मिनट पानी में पैर डालकर रखें। यह काफी सहायक होगा।
  • ठंडे दूध में शहद मिलाकर सेवन करें।
  • पानी या ठंडे दूध में चंदन मिलाकर अपनी छाती और अपने माथे पर इसका लेप लगा लें। यह काफी ठंडक पहुंचाएगा और अतिताप को कम कर देगा।
  • दूध में दो बड़े चम्मच मक्खन डालकर पीने से सहायता मिलेगी।
  • हरी सब्जियों के सेवन की सलाह विशेष रूप से दी जाती हैं। सब्जियां शरीर के तापमान को राहत देने के लिए उत्कृष्ट खाद्य पदार्थ हैं। विटामिन सी की मात्रा अत्यधिक रखने वाली सब्जियों का प्रयोग करें। जैसे :- नींबू, नारंगी इत्यादि।

अतिताप को कम करने के घरेलू उपाय/ शरीर की गर्मी को कम करने के देसी नुस्खे (Home remedies/ tips to reduce body heat)

इस गर्मी में खाने के लिए सबसे अच्छा फल क्या हैं?

अक्सर ऐसा होता है कि हम अचानक से अत्यधिक ताप महसूस करते हैं। यह अक्सर गर्मी के मौसम में होता है। आपने देखा होगा कि कुछ लोग बस में यात्रा करने के दौरान उल्टी (vomit) कर देते हैं, यह अतिताप के कारण ही होता है। आगे उन खाद्य पदार्थों और घरेलू नुस्खों के बारे में बताया गया है जिनके सेवन के कारण, अतिताप तुरंत कम हो जाता है। इन खाद्य पदार्थों के सेवन के दौरान ध्यान रखें कि इनका सेवन केवल सीमित मात्रा में करें अन्यथा शरीर असंतुलन के कारण क्षय हो सकता है। वे खाद्य पदार्थ हैं :-

केला (Banana)

केले आसानी से एवं हर मौसम में उपलब्ध होने वाले फल हैं। आपने अक्सर सुना होगा कि ठंड में केले नहीं खाने चाहिए। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्यूँकि केले अत्यधिक ठंडे होते हैं। इनमें मौजूद पोटैशियम, मानव शरीर को तुरंत शीतल करता है। यह पाचन तंत्र को मजबूत करने में भी सहायक है। प्रतिदिन खाना खाने के बाद एक केले का सेवन अवश्य करें, क्योंकि यह भोजन के बाद कुछ मीठा खाने की आपकी इच्छा को भी पूरा करेगा, एवं आपके शरीर को गर्मी को प्राकृतिक रूप से कम भी कर देगा।

खरबूजा (Muskmelon)

खरबूजा गर्मियों में मिलने वाला फल है। यह काफी ठंडा होता है और पानी से भरपूर होता है। यह शरीर में पानी की कमी से होने वाले अतिताप को कम करता है। खरबूजे के सेवन से अतिताप से जुड़ी समस्याओं से आसानी से निपटा जा सकता है। आप चाहें तो खरबूजे को चीनी में मिलाकर कर पना भी बना सकते हैं। ये अतिताप का अचूक इलाज है।

साइट्रस फल (Citrus Fruit)

साइट्रस फल उन फलों को कहा जाता है जो स्वाद में थोड़े से अम्लीय एवं विटामिन सी से निर्मित होते हैं। नींबू, संतरे और मौसमी इन फलों के उदाहरण हैं। साइट्रस फल पाचन तंत्र को मजबूत रखने में सहायक होते हैं। इन फलों के सेवन से अतिताप से बचा जा सकता है। इस तरह के फल आसानी से उपलब्ध होते हैं। पानी से भरे यह फल पानी की कमी से होने वाली बीमारियों में भी सहायक होते हैं। साइट्रस फल हाज़मे में भी सहायक होते हैं क्योंकि ये तैलीय एवं वसायुक्त भोजन को तोड़ने में सहायता करते हैं। कुछ शोध अध्ययनों से पता चला है कि संतरे में साइट्रस फ्लेवोलोन्स (citrus flavanones), पॉलीफेनोल्स (polyphenols), अन्थोसायनिंस (anthocyanins) एवं हाइड्रोऑक्सीसिनामिक एसिड (hydroxycinnamic acids) होते हैं, जो मानव शरीर के स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद साबित होते हैं। शोधों के अनुसार, इन फलों में हरपराइडिन (herperidin) होता है, जो जलनरोधी गुणों से युक्त होता है एवं हाइपरटेंशन (hypertension) के लक्षणों को कम कर सकता है।

हरी सब्जियां (Green Vegetables)

अतिताप से बचने के लिए तुरंत हरी सब्जियों का सेवन किया जा सकता है। कई हरी सब्जियां जैसे खीरा, ककड़ी तुरंत खाई जा सकती हैं, जिससे अतिताप से तुरंत छुटकारा मिल जाता है एवं शरीर का तापमान सामान्य हो जाता है। हर प्रकार की हरी सब्जी शरीर के तापमान को सामान्य रखने में सहायक होती है।

इलायची (Cardamom)

गर्मी से बचने के लिये घर के बने हुये फेस पैक

इलायची का उपयोग आयुर्वेदा मे भी किया गया है। यह शरीर के तापमान को बहुत ही कम समय मे संतुलित करती है। इलायची का प्रयोग करने से शरीर को शीतलता मिलती है। इसका प्रयोग चाय, मिठाई या अन्य किसी भी भोजन में डालकर किया जा सकता है।

आड़ू (Peaches)

बहुत ज्यादा गर्मी के कारण कई बार पसीने से छाले जैसे चकते पड़ने लग जाते हैं। इनसे बचाव के लिए आड़ू का सेवन करना काफी लाभदायक है। इसमें मौजूद विटामिन ए, बी2 और पोटैशियम शरीर के तापमान को तुरंत कम करने में सहायक होता है।

खूबानी (Apricot)

खूबानी में मौजूद विटामिन A, C, K, E कि वजह से इसके कई फायदे हैं। खुबानी में मिनरल्स भी प्रचुर मात्रा में होते हैं। खूबानी के रस को शहद में मिलाकर पीने से प्यास कि तलब बढती है और अतिताप भी तुरंत कम होता है।

छाछ (Buttermilk)

गर्मियों में दही से निर्मित छाछ पीना काफी फायदेमंद होता है। इसमें मौजूद प्रोबायोटिक्स, खनिज और विटामिन होते हैं, जो शरीर को तुरंत ठंडक एवं ऊर्जा प्रदान करते हैं। आप चाहें तो ताज़ा छाछ में काला नमक और भुना हुआ जीरा भी पीस के मिला सकते हैं।

तरबूज (Watermelon)

शरीर के तापमान को प्रभावी रूप से कम करने के लिए जो फल काफी फायदेमंद है वो है तरबूज़। जब गर्मी आती है तो तरबूज़ आसानी से बाज़ार में मिल जाते हैं। आप इसे काट कर भी खा सकते हैं अथवा इसका रस निकालकर भी सेवन कर सकते हैं। तरबूज में लगभग 95% पानी होता है। गर्मियों में मिलने वाला यह फल ठंडक पहुंचाने और पानी की कमी से बचाव में सहायता करता है। गर्मी के दिनों में इसका जूस पीकर आप बिल्कुल तरोताजा महसूस करेंगे। शरीर का तापमान नियंत्रण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के साथ ही इसमें काफी पोषक तत्व भी होते हैं जैसे विटामिन बी, आयरन आदि।

नारियल पानी (Coconut Water)

गर्मी में हाथों से सनटैन निकालने का स्क्रब

नारियल का पानी आपके शरीर को फिर से तरोताजा और अतिताप को दूर करने का एक शानदार तरीका है। नारियल के पानी में मौजूद विटामिन्स, खनिज और इलेक्ट्रोलाइट्स अतिताप से बढ़ी हुई शरीर की गर्मी को दूर करते हैं । नारियल पानी का प्रयोग करने से शरीर को काफी ठंडक मिलती है। यह अतिताप को तुरंत ख़त्म कर देता है।

पुदीना (Mint)

शरीर के तापमान को कम करने के लिए प्राकृतिक रूप से पुदीने का सेवन भी किया जाता है। पुदीने का सेवन करने से अतिताप के कारण खराब हुई त्वचा भी ठीक होने लगती है। पुदीने का रस अतिताप के दौरान तुरंत सहायता प्रदान करता है। आप ताज़ी पुदीने की पत्तियों की मदद से एक पेय पदार्थ भी बना सकते हैं। आप गर्म पानी में सूखी पुदीने की पत्तियां डालकर इसे चाय की तरह उबाल भी सकते हैं। पत्तों को छान लें और इसे मीठा करने के लिए इसमें शहद मिश्रित करें। शरीर की गर्मी को दूर करने के लिए प्राकृतिक पुदीने की चाय का आनंद लिया जा सकता है। आप अब पुदीने की मदद से अपने शरीर को बाहर से भी ठंडक प्रदान कर सकते हैं। इसके लिए मुट्ठीभर पुदीने की पत्तियां लें और इन्हें एक पात्र में डालकर पानी के साथ उबाल लें। इसे 20 मिनट तक उबालें और पत्तों को छान लें। इस पानी का प्रयोग नहाने के पानी के साथ किया जा सकता है। इससे शरीर को काफी सुकून मिलता है। यही प्रभाव पाने के लिए आप अपने नहाने के पानी में पुदीने के तेल की कुछ बूँदें भी मिश्रित कर सकते हैं।

खीरा (Cucumber)

खीरा गर्मियों में उपलब्ध होने वाला फल है। गर्मी के दिनों में आपने रास्ते में रेहड़ी वालों को खीरे को छीलकर बेचते देखा होगा जिससे कि यह ग्राहकों की प्यास मिटा सके। गर्मी के दिनों में राहगीरों को शरीर में पानी की रखने की आवश्यकता होती है। खीरा शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है और अंदरूनी रूप से शरीर को ठंडा करता है। इसे कच्चा ही खाया जाता है। खीरा पानी से लबरेज होता है और इसमें विटामिन सी और बी मौजूद होता है। इसका सेवन करने से शरीर का तापमान नियंत्रित रखने में तुरंत सहायता मिलती है।

सौंफ (Fennel seeds)

रात में एक मुट्ठी सौंफ लें और एक गिलास पानी में भिगो लें। सुबह इसे छानकर इसका सारा पानी निकाल लें। इस पानी को हर सुबह पियें जिससे कि गर्मी के दिनों में आपके शरीर का तापमान नियंत्रित रहे। सौंफ का प्रयोग भारतीय व्यंजनों में स्वाद देने के लिए किया जाता है। स्वास्थ्य की दृष्टि से भी सौंफ को शरीर का तापमान नियंत्रित करने के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है।

मेथी के बीज (Fenugreek Seed)

मेथी के बीजों का प्रयोग प्राचीन समय से रक्तचाप को प्राकृतिक रूप से कम करने के लिए किया जाता है। गर्मी के दिन में भी आप इस बीज का सेवन करके शरीर के तापमान को नियंत्रित कर सकते हैं। मेथी के बीज को पानी में भिगोकर भी रखा जा सकता है और बाद में यह पानी पीकर शरीर की गर्मी को दूर भगा सकते हैं।

पानी के छींटे (Splash of Water)

शरीर की गर्मी को कम करने के लिए यह सबसे कारगर और आसान तरीका है। हर दिन पर्याप्त मात्रा में पानी पियें जिससे कि शरीर की सारी गर्मी चली जाए। आपके शरीर में मौजूद ऑक्सीडेंट्स शरीर की गर्मी को बढ़ाते हैं। पानी शरीर की सारी गर्मी को निकालता है और आपको गर्मी में अंदर से ठंडा रखता है। पानी तुरंत ही शीतलता प्रदान करता है। पानी के छींटे तुरंत प्रयोग करने से आप तेज धूप से बच सकते हैं।

ठंडा दूध (Cold Milk)

गर्मी में त्वचा की समस्याएं एवं उनके समाधान

कच्चे दूध को फ्रीज में रखकर ठंडा करके पी लेने से शरीर को काफी सहायता मिल सकती है। आप इसे अपने स्वाद अनुसार फीका या फिर किसी अन्य पदार्थ के साथ मिलाकर पी सकते हैं। आप इसमें अपने पसंद का फ्लेवर मिलाकर मिल्क शेक भी बना सकते हैं। चॉकलेट, संतरे और स्ट्राबेरी या अन्य किसी पदार्थ को मिलाकर शेक बनाया जा सकता है। जहां ठंडा दूध शीतलता प्रदान करता है वहीं सामान्य दूध अतिताप को बढ़ाता है। आप ठन्डे पानी में दो चम्मच शहद मिलाकर इसे सुबह सुबह पीकर अपने शरीर की गर्मी को दूर कर सकते हैं।

नींबू (Lemon)

नींबू का प्रयोग अक्सर गर्मियों में किया जाता है। यह विटामिन C से लबरेज होता है और साइट्रस फलों में गिना जाता है। गौरतलब है कि साइट्रस वे फल होते हैं जो अतिताप को तुरंत कम करने में सहायक होते हैं। नींबू को खाने में मिलाकर खाया जा सकता है। सलाद और पानी में मिलाकर खाने से भी यह लाभकारी होता है। यह पाचन तंत्र को मजबूत करता है। शरीर में पानी की कमी को रोकता है और अतिताप में मददगार तो है ही। नींबू का रस बनाने के लिए आधे नींबू को एक गिलास पानी में निचोड़ें तथा इसमें एक चुटकी नमक मिलाएं। इसमें चीनी का प्रयोग ना करें, क्योंकि यह काफी अस्वास्थ्यकर होता है। इसकी बजाय एक चम्मच शहद का प्रयोग करें। इन्हें पानी के साथ मिलाएं और इसका सेवन करें।

आंवला (Gooseberry)

गर्मियों के मौसम में जब आप अतिताप से अत्यधिक परेशान हो जाएं तब आंवले का प्रयोग अवश्य करें। आंवला विटामिन सी का बेहतरीन स्रोत है और यह तेजी से गर्मी में राहत भी पहुंचाता है। यदि आप 2 चम्मच आंवले का रस, 1 चम्मच शहद, आधे नीम्बू का रस और एक चुटकी नमक को मिलाकर पीयेंगे तो ये अत्यन्त लाभकारी होगा। आंवले से गर्मी में पैदा हुआ चिड़चिड़ापन(anxiety) भी कम होता है।

एलोवेरा का रस (Aloe vera juice)

एलोवेरा वैसे तो काफी आसानी से मिलने वाला पदार्थ, पर बरसों से लोगों को इसकी उपयोगिता का अंदाज़ा नहीं था। विभिन्न शोधों के बाद इक्कीसवीं सदी में आकर हमें एलोवेरा की उपयोगिता का पता चला। एलोवेरा की पत्ती को बीच में से काटकर इसका जेल निकाल लें। इसे अपने चेहरे पर लगाएं और 20 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके प्रयोग से आपको तुरंत ठंडक मिलेगी।

आप घर पर ही एलोवेरा का जूस भी बनाकर पी सकते हैं। एलो वेरा की पत्ती को बीच से काटें और आप दो चम्मच एलो वेरा जेल, थोड़े से नमक और पानी को मिश्रित करके एलोवेरा का रस बनाये। इसे पिएं और अंदर से ठंडक महसूस करें। गर्मियों के दिनों में अंदर से गर्मी को नियंत्रित करने का यह बेहतरीन उपाय है।

पुदीने की पत्तियों का रस (Mint leave juice)

गर्मियों में पुदीने की पत्तियों का रस बनाकर पीने से काफी सहायता मिलती है। आप अब पुदीने की पत्तियों को पीसकर एक प्रभावी रस बना सकते हैं और इसका गर्मियों के दिनों में सेवन कर सकते हैं। अच्छे स्वाद के लिए इसमें नमक मिलाकर पीया जा सकता है। यह तुरंत ही अतिताप को कम करने में सहायक होती है। यह काफी स्वास्थ्यकर होता है और शरीर को भी ठंडा करता है।

मूली का प्रयोग (Radish)

गर्मी में तैलीय त्वचा के मेकअप के नुस्खे

जब आप गर्मियों के दिनों में भोजन कर रहे होते हैं तो आप ऐसी किसी सब्ज़ी के बारे में सोच रहे होते हैं, जो आपके शरीर को ठंडक दे और तापमान को नियंत्रित करे। सलाद के तौर पर मूली का प्रयोग करने से काफी सहायता मिलती है। मूली एक ऐसी सब्जी है जिसका प्रयोग करने से तुरंत अतिताप कम होता है। यह विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है।

गन्ने का रस (Sugarcane Juice)

आपने अवश्य ही गर्मियों के दिनों में रास्ते के किनारे गन्ने का रस बिकते हुए देखा होगा। अगर आप गर्मियों में बाहर हैं तो आपको अवश्य ही यह रस पीना चाहिए। गर्मियों के दिनों में जब पानी को कमी के कारण अतिताप हो जाता है, ऐसे में गन्ने का रस पीने से शरीर में पानी की आपूर्ति भी होती है और शीतलता भी मिलती है। गन्ने का रस स्वाद में भी अद्वितीय होता है। इसमें नींबू मिलाकर पीने से काफी सहायता मिलती है।

कोल्ड कॉफ़ी (Cold coffee)

कई पेय पदार्थ गर्मियों में ठंडक प्रदान करते हैं, कोल्ड कॉफ़ी उन्ही में से एक है। कॉफ़ी में बर्फ डालकर पीने से आपको काफी शीतलता मिलेगी। आप शेकर की मदद से इसे और स्वादिष्ट बना सकते हैं। आप इसमें चाहें तो चॉकलेट वाली आइसक्रीम भी मिला सकते हैं।

सत्तू का सेवन

गाँवों में जब किसान खेत पर जाते हैं तो घर से ढेर सारा सत्तू पोटली में बांध कर ले जाते हैं। जौ को भूनकर कर उसे मोटा पीसकर जो आटा बनता है वो ही सत्तू होता है। इस सत्तू को पानी में चीनी के साथ मिलाकर पीया जाता है। ये बहुत ही सस्ता और गर्मियों में सदियों से पिया जाने वाला पेय है, ये अतिताप को होने का मौका ही नहीं देता है।

प्याज (Onion)

ये वो नुस्खा है जो राजस्थान और गुजरात जैसे मरुस्थलीय प्रदेशों में अतिताप के उपचार में लम्बे समय से प्रयोग किया जाता रहा है। इन प्रदेशों में गर्मी के दिनों में गर्म हवाएं चलती है जिनको लू कहा जाता है और इसकी वजह से अतिताप समस्या बहुत आम है। ऐसे में अतिताप के मरीज के शरीर पर प्याज का रस मलने से तुरंत ही आराम मिलता है।