Hindi tips to reduce hyperpigmentation – गंभीर रंजकता को कम करने के नुस्खे

गंभीर रंजकता पिगमेंटेशन त्वचा की एक सामान्य समस्या है जिसके कई कारण हो सकते हैं। इस समस्या की वजह से त्वचा पर काले या भूरे धब्बे उभर आते हैं। मेलेनिन एक ऐसा पदार्थ है जो कि मेलनोसाइट कोशिकाओं द्वारा उत्पादित किया जाता है। यह मेलेनिन किसी के चेहरे का टोन तथा बालों का रंग सुनिश्चित करता है।

लेकिन जब मेलनोसाइट्स द्वारा अत्याधिक मात्रा में मेलेनिन का उत्पादन होता है तो इससे गंभीर रंजकता की समस्या उत्पन्न होती है। जिन कारकों की वजह से मेलेनिन अत्याधिक रूप से बढ़ता है, वे हैं सूरज के अत्याधिक संपर्क में रहना, कुछ ख़ास औषधियों के साइड इफेक्ट्स, हॉर्मोन तथा आनुवांशिक गतिविधियों में परिवर्तन। कई बार गंभीर रंजकता एक्ने की वजह से भी होती है।

हममें से कई लोग रंजकता की समस्या से गुज़र चुके हैं, चाहे वो बड़े स्तर की हो या छोटे स्तर की। बड़े स्तर की रंजकता में त्वचा पर काले दाग, मस्से, जन्मदाग और उम्र के निशान। लेकिन गंभीर रंजकता इन हलकी रंजकताओं से काफी बड़ी समस्या है। इस समस्या को जल्दी पकड़ लेने से इसे रोका जा सकता है और इस तरह इसका इलाज भी किया जा सकता है।

गंभीर रंजकता चेहरे(chehre ki pigmentation) के दोनों तरफ तथा होंठों के ऊपरी भाग, सिर, गालों की हड्डियों तथा नाक के ऊपरी भाग में भी हो सकती है। अच्छा त्वचा विशेषज्ञ आपको बता सकता है कि आप रंजकता की किस समस्या से प्रभावित हुए हैं – मेलास्मा, लेन्टीजेन्स, लिवर स्पॉट्स, दाग धब्बे, एफेलाइड्स या फिर पोस्ट इंफ्लामेटरी रंजकता।

मेलास्मा मुख्यतः गर्भावस्था, रजोनिवृत्ति से जुडी समस्याओं या गर्भ निरोधक गोलियों के हज़म न हो पाने की वजह से होता है। अगर कोई व्यक्ति सूरज की किरणों के संपर्क में ज़्यादा देर रहा हो, उसे लिवर स्पॉट्स की समस्या घेर सकती है।

गंभीर रंजकता के कारण (What are the causes of hyperpigmentation or twacha ki ranjakta?)

चेहरे की सुन्दरता के उपाय

ताप (Heat)

अगर आप लम्बे समय से किसी प्रकार के ताप के संपर्क में आए हों तो इससे आपको गंभीर रंजकता की समस्या हो सकती है। ये रंजकता उन तंतुओं में गड़बड़ी की वजह से होती है जो मेलेनिन का उत्पादन करते हैं। यह सूरज की अल्ट्रा वायलेट किरणों की तरह काम करता है जो मेलेनिन का उत्पादन करने वाले तंतुओं को हानि पहुंचाते हैं। कभी कभी थर्मल रेडिएशन से भी इन तंतुओं को नुकसान पहुँचता है।

चोट (Injuries)

जब आपको चोट लगती है, तो कुछ दिनों के भीतर ही घाव भर जाता है तथा आपकी त्वचा पहले जैसी हो जाती है। लेकिन कुछ स्थितियों में चोट ठीक हो जाने के कई दिनों के बाद भी त्वचा पर सूजन और लालपन बरकरार रहता है और इस भाग में रंजकता अपना प्रभाव छोड़ती है।

दवाइयाँ (Medication)

कई बार दवाइयाँ ज़्यादा ले लेने की वजह से इनके साइड इफेक्ट्स हो जाते हैं और गंभीर रंजकता की स्थिति उत्पन्न होती है।

बीमारियां (Diseases)

जॉन्डिस और नीलिया जैसी बीमारियां गंभीर रंजकता की स्थिति की वजह से ही होती है। जॉन्डिस से प्रभावित व्यक्ति की त्वचा पीली तथा नीलिया से प्रभावित व्यक्ति की त्वचा नीली दिखती है, क्योंकि इनके खून में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन का संचार नहीं होता है।

पिगमेंटेशन उपाय – गंभीर रंजकता के उपचार (Hyperpigmentation can be treated by)

त्वचा की खूबसूरती के लिए 8 प्राकृतिक फेस पैक

1. लेज़र पद्दति के इलाज से यह समस्या ठीक हो सकती है।

2. ज़्यादा लम्बे समय तक सूरज की किरणों के संपर्क में रहने से परहेज करें।

3. चेहरे को साफ़ करने के लिए एक सौम्य क्लीन्ज़र या साबुन का इस्तेमाल करें।

4. त्वचा को परेशानी प्रदान करने वाले लोशन और मॉइस्चराइज़र से परहेज करें।

5. चेहरे पर थोड़ा सा अरंडी का तेल लगाएं तथा इसे आधे घंटे तक इसी प्रकार रखें। इसके बाद चेहरे को सौम्य साबुन से धो लें।

6. मुल्तानी मिटटी के फेस पैक में गुलाबजल मिलाकर इसे चेहरे पर लगाएं।

7. शरीर के सारे टॉक्सिन्स निकालने के लिए खूब ज़्यादा मात्रा में पानी पियें।

त्वचा रंजकता का नींबू का उपचार (Lemon treatment for twacha ke daag dur karne ke liye)

नींबू त्वचा को ब्लीच करता है क्योंकि इसमें सिट्रिक एसिड के गुण होते हैं। अतः यह गंभीर रंजकता दूर करने का काफी प्रभावी समाधान है। ताज़े नींबू का रस निकालें। इसे रुई के फाहे की सहायता से चेहरे पर लगाएं। इस रस को चेहरे पर 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दें। इस घरेलू नुस्खे को कुछ महीनों तक हफ्ते में 1 बार प्रयोग करें। इससे गंभीर रंजकता की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।

कच्चे आलू का उपचार (Raw potato treatment se chehre ke daag mitane ka tarika)

सूखी त्वचा ठीक करने के घरेलू नुस्खे

कच्चा आलू त्वचा के दाग धब्बों तथा अशुद्धियों को दूर करता है तथा गंभीर रंजकता को दूर करने का घरेलू उपाय है। आलू में कैथीकोलस नामक पदार्थ मौजूद होता है जो कि त्वचा की रंगत को निखारता है। आलू को छीलें तथा इसे मोटे टुकड़ों में काटें। आलू की सतह पर थोड़ा सा पानी छिड़कें और फिर इसे चेहरे पर 5 से 10 मिनट तक रगड़ें। इसके बाद गुनगुने पानी की सहायता से इसे धो दें। इस प्रक्रिया को एक महीने तक हर दिन 3 से 4 बार करें।

त्वचा रंजकता का सेब के सिरके का उपचार (Apple cider vinegar treatment se skin ki care kaise kare)

जब गंभीर रंजकता की वजह से त्वचा पर पड़े काले धब्बों को ठीक करने की बात आती है तो इस स्थिति में सेब का सिरका बिलकुल चमत्कारी ढंग से काम करता है। इसमें एस्ट्रिंजेंट तथा त्वचा के रंग में निखार लाने के अद्भुत गुण होते हैं, जिसकी वजह से त्वचा का प्राकृतिक रंग वापस आ सकता है। पानी और सेब के सिरके को बराबर मात्रा में मिलाएं। इस मिश्रण से प्रभावित भागों को अच्छे से धो दें। इस प्रक्रिया को कुछ हफ़्तों तक हर दिन दो बार दोहराते रहे। वैकल्पिक तौर पर आधा गिलास गर्म पानी लें तथा इसमें 2 चम्मच सेब का सिरका मिलाएं। इस मिश्रण को रोज़ सुबह और रात को एक चम्मच शहद के साथ पियें। इस प्रक्रिया को दो हफ़्तों तक दोहराने से आपके त्वचा की हालत में अवश्य सुधार होगा।

विटामिन इ का उपचार (Vitamin E treatment se twacha ki dekhbhal)

विटामिन इ त्वचा की गंभीर रंजकता का एक बेहतरीन इलाज है, इसी वजह से इसे त्वचा के विटामिन के तौर पर भी जाना जाता है। विटामिन इ में एंटी ऑक्सीडेंट के गुण भी होते हैं जिसकी वजह से यह सूरज की घातक अल्ट्रा वायलेट किरणों का प्रभाव कम करने की क्षमता रखता है। विटामिन इ के एक कैप्सूल को फोड़ें तथा इसके अंदर के पदार्थ को एक पात्र में निकालें। इसमें 3 से 4 अरंडी के तेल की बूँदें डालें और इसे अच्छे से मिलाएं। अब इस मिश्रण को रात में सोने से पहले प्रभावित भागों पर अच्छे से लगाएं। इसे अगली सुबह धो दें। इस प्रक्रिया को दो से तीन हफ़्तों तक रोज़ाना दोहराएं। आप विटामिन के तेल से प्रभावित भागों पर दिन में 2 बार 10 मिनट तक अच्छे परिणामों के लिए मालिश भी कर सकते हैं।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday