How to unclog ears after swimming – तैराकी के बाद कानों को साफ़ कैसे करें

तैराकी एक मज़ेदार गतिविधि है जो हर उम्र के लोग करना पसंद करते हैं। यह गर्मियों के दौरान एक बेहतरीन खेल है एवं सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद है।

लेकिन तैराकी के बाद कानों का बंद हो जाना आपके आनंद में खलल डाल सकता है एवं अन्य कई समस्याओं को भी न्योता दे सकता है। क्या आप सोच रहे हैं कि कान बंद कैसे हो जाते हैं? यह किसी के साथ भी हो सकता है और तैराकी में निपुण व्यक्ति भी इससे प्रभावित हो सकते हैं। अतः यह सोचने का प्रयास ना करें कि आपने क्या गलत किया। तैराकी के बाद पानी से बंद कानों के साथ निकलना काफी आम बात है।

अतः ऐसी समस्याओं से बचने के लिए यह बेहतर है कि आप नीचे दी गयी तकनीकों का प्रयोग करके तैराकी के बाद तुरंत कानों को साफ़ कर लें:

जम्हाई लेने, चबाने या फूंकने का प्रयास करें (Try to yawn, chew or blow that drop out)

बच्चों में कान का संक्रमण

क्या आप सोच रहे हैं कि in गतिविधियों से किस तरह पानी निकल सकता है? युस्टेशियन ट्यूब्स (Eustachian tubes) एक पासवे (pass way) है जो हवा के दबाव को नियंत्रित करता है एवं नाक के पिछले हिस्से को कान के बीच के हिस्से से जोड़ता है। जम्हाई लेने एवं चबाने की मुद्राओं से इस ट्यूब में फंसे द्रव्य निकल जाते हैं, जिससे अंततः कान से पानी निकलने में सहायता मिलती है।

भाप (Steaming)

चबाने एवं जम्हाई लेने के अलावा आप भाप देने के माध्यम से भी युस्टेशियन ट्यूब को खोल सकते हैं। यह कान खोलने के सबसे आसान तरीकों में से एक है जिसका प्रयोग आप घर बैठे ही स्टोव (stove) पर एक कटोरी पानी गर्म करके कर सकते हैं। एक बार पानी उबलना शुरू होने पर इसे उतार लें एवं मेज़ पर रख दें।

इसके बाद अपने सर को तौलिये से ढक लें एवं चेहरे को नीचे करके कटोरी के ऊपर रख दें। इसका उद्देश्य भाप को नाक से प्रवेश करवाना है जिसके बाद आप प्रभावित कान को टेढ़ा करके पानी जल्दी बाहर निकाल सकते हैं।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,199 other subscribers

फूंक की मदद से इलाज (Blow it out)

यह काफी अदभुत परन्तु फायदेमंद है। आप ब्लो ड्रायर (blow dryer) की मदद से पानी कान से बाहर निकाल सकते हैं। इसके लिए ड्रायर को सबसे निचली आंच की सेटिंग (setting) पर रखें एवं कान के पास इसे घुमाकर गर्म हवा को नम स्थान तक पहुँचने दें। सुनिश्चित करें की आप इसे कान से कम से कम 1 फुट दूर रखें क्योंकि अतिरिक्त आंच कानों के अंदरूनी भाग के लिए काफी फायदेमंद है। जिस प्रकार ताप पानी को वाष्पित करता है, उसी प्रकार ड्रायर से निकली गर्म हवा कानों को नमी से मुक्त करती है।

जैतून का तेल (Olive oil)

जैतून के तेल के बेहतरीन गुण हमसे छिपे नहीं हैं। यह पदार्थ काफी मात्रा में प्रयुक्त होता है एवं हर रसोई में पाया जाता है। यह तैराकी के पहले एवं बाद दोनों स्थितियों में काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। तैराकी करने जाने से पहले इस तेल की कुछ बूँदें कान में डाल लें। इससे पानी कानों में नहीं फंसेगा।

यदि आपके एक कान में पहले से ही पानी घुसा हुआ है तो थोड़ा सा जैतून का तेल गर्म करें एवं रुई या ड्रॉपर (dropper) की सहायता से कानों में इसकी कुछ बूँदें डालें। इस तेल को अन्दर जाने दें एवं 10 मिनट तक अपना काम करने दें। इसके बाद अपने प्रभावित कान को थोड़ा सा तिरछा करके इस द्रव्य को आराम से बाहर निकलने दें। जैतून का तेल एंटीबैक्टीरियल (antibacterial) गुणों से युक्त होता है।

कान में फंसे पानी को निकालने के ये सभी तरीके काफी आसान है। हालांकि ये तभी काम करते हैं जब आप तैराकी के तुरंत बाद कानों में पानी महसूस करें एवं सावधानी बरतें।

शुरुआत में कान का बंद होना आपके लिए काफी परेशानी भरा होगा, पर धैर्य से काम लें एवं इसे दूर करने का प्रयास करें। घबराएं नहीं तथा किसी प्रकार के खतरनाक तरीके से इसे निकालने का प्रयास ना करें। कई लोग इयर बड्स (earbuds) या नाखूनों की मदद से इस समस्या से निपटने का प्रयास करते हैं। कानों में कुछ भी डालने से परदे खराब हो जाते हैं एवं इससे अन्य समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं। अतः शांत रहें एवं आवश्यकता पड़ने पर डॉक्टर को दिखाएं।

loading...