Rainy season feet care tips to avoid infections in this rainy season – बरसात के मौसम में पैरों की देखभाल कर उन्हें इंफेक्शन से बचाने के टिप्स जाने

पैर मानव शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। पैर ही हमें दुनिया में एक जगह से दूसरी जगह जाने में मदद करता है। हर कोई चाहता है कि उनके पैर काफी स्मूथ (smooth) और साफ रहे। मॉनसून का मौसम रोमांस (romance), मस्ती, हरियाली और प्राकृतिक सौंदर्य का मौसम होता है।

सड़कों पर जमा हुए पानी में, शांत वातावरण और नमी से पैरों और पैरों की त्वचा में कई तरह की समस्याएँ पैदा हो जाती हैं। इन सभी परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए इन उपचारों को हमेशा याद रखें।

बरसात के मौसम में ज्यादा प्रभाव हमारे पैरों पर ही पड़ता हैं। बरसात के मौसम में होने वाले कीचड, गंदगी का सीधा असर हमारे पैरों पर पड़ता है, जिससे पैरों पर इंफेक्शन का खतरा बना रहता है। इसलिए आपको बरसात के मौसम में अपने पैरों की कुछ इस तरह देखभाल करनी चाहिए।

मॉनसून के मौसम में पैरों की देखभाल करने के लिए टिप्स (Monsoon foot care tips)

पैरों को सूखा रखें (Keep them dry)

हमेशा अपने पैरों को मॉनसून के मौसम के दौरान सूखा रखें। घर से बाहर जूतों को पहनकर निकलें, इस मौसम में सैंडल पहनना बिल्कुल बंद कर दें। जूते आपके पैरों की अच्छी तरह से देखभाल करेंगे। अगर आपके पैर गीले हैं, तो फंगल और बैक्टीरियल इंफेक्शन काफी जल्दी फैलने लग जाता है।

पैरों को बारिश के पानी में ना भिगोएँ (Do not soak in rain water)

पैरों से आने वाली दुर्गंध को दूर करने के घरेलू उपचार

पैरों को बारिश के पानी में ना भिगोएँ। अगर आपके पैर बारिश के मौसम में गीले हो गए हैं तो ऐसे में आप घर आकर उन्हें साफ पानी से धोना बिल्कुल ना भूलें। पानी में किसी भी तरह के एक एंटीसेप्टिक लिक्विड का इस्तेमाल करें।

फूट स्क्रबिंग (Foot scrubbing)

जब आप नाहती हैं, तो अपने पैरों को 10 मिनट के लिए पानी में भिगोकर रखें। ऐसा करने के बाद किसी भी तरह के सौप लिक्विड(soap liquid) या शैम्पू ( shampoo) को इस पानी में मिला लें। इसके 10 मिनट के बाद आप अपने पैरों को स्क्रबर से साफ कर लें और अपना नहाना पूरा करके बाथरूम से बाहर आ जाएँ।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,330 other subscribers

बरसातों में देखभाल फुट मॉइश्चराइजर (Foot moisturizer se pair ki dekbhal)

एक बार पैरों में स्क्रबिंग हो जाए तो, इसके बाद पैरों में मॉइश्चराइजर लगाएँ। ऐसा करने से पूराने मृत सेल्स (cells) की जगह नए सेल्स आ जाएँगे।

पैर में चोट हो तो बाहर ना निकलें (Not to go out with wounds)

अगर आपके पैर में किसी तरह की चोट लगी हो या फिर किसी भी तरह की तकलीफ हो तो घर से बाहर ना निकलें। इसकी बजाय आप किसी डॉक्टर से सलाह लेकर अपना उपचार करवा सकते हैं। गर्मियों या सर्दियों के मौसम से ज्यादा नुकसान बारिश में हुए चोट से होता है।

एंटीसेप्टिक जैल्स का इस्तेमाल करें (Apply antiseptic gels)

अपने पैरों में एंटीसेप्टिक जैल का इस्तेमाल करें। आप कोशिश करें कि जैल आप रात को सोते समय ही पैरों पर लगाएँ। एंटीसेप्टिक जैल फंगस और बैक्टीरिया के लिए काफी अच्छा होता है।

पैरों के देखभाल के लिए उत्पाद (Foot care products)

खूबसूरत पैरों के लिए सुझाव

आप मार्किट से पैरों के देखभाल के लिए प्रॉडक्ट खरीद सकते हैं और आप अपने पैरों को कुछ ही समय में सुंदर बना सकते हैं। आप पैरों के देखभाल के लिए उत्पाद लेते समय किसी ब्रांड (brand) का ही प्रॉडक्ट लें। किसी नए प्रॉडक्ट (product) खरीदने का बिल्कुल ना सोचे।

मानसून में फुट केयर फिश स्पा (Fish spa se pairon ki dekhbhal)

आप चाहे तो फिश स्पा के लिए भी जा सकती हैं। इस मसाज को करने से आपके पैरों के डेड सेल्स साफ हो जाएँगे और आपको बेहतरीन परिणाम देखने को मिलेगा।

बारिश के मौसम के लिए खतरा (Dangers of the rainy season)

बारिश के मौसम में ऐसा मुमकिन नहीं है कि आपके पैर बिल्कुल साफ सूथरे हो या आपके चप्पलों में किसी भी तरह की गंदगी ना लगी हुई हो। इसी गंदगी के कारण आपके पैरों में खुजली, फंगल और बैक्टीरियल इंफेक्शन होने लगता है।

खासकर आपको एक डायबिटिज (diabetes) के मरीज का इस मौसम में काफी ख्याल रखना होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि उनके घाव जल्दी सही नहीं होते हैं।

बरिश के मौसम में अधिकतर फंगल इंफेक्शन होने का खतरा होता है। यह इंफेक्शन आपके पैर की उंगलियों के बीच हो सकता है। पैरों में यह फंगल इंफेक्शन पैरों में जूते पहनने से होता है। एथलीट फुट (athlete foot) मॉनसून के मौसम के दौरान काफी बड़ी समस्या होती है। यह गंभीर स्थिति होती है, जो कि तत्काल ध्यान देने के कारण, गंदे पानी में पैरों को डालने से होता है। ऐसा करने से हमारी त्वचा सफेद और ग्रीन रंग की हो जाती हैं, जिस कारण मवाद भर जाता हैं, या फिर पैरों से बदबू आने लगती हैं।

बरसात के मौसम में पैरों की देखभाल के लिए टिप्स (Foot care tips for monsoon)

पैरों की नसों की सूजन रोकने के लिए सर्वोत्तम प्राकृतिक सुझाव

  • बरसात के मौसम में पैरों को फंगस से दूर रखने के लिए उन्हें साफ रखना काफी आवश्यक होता है। पैरों को साफ करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप जब कभी भी बारिश के मौसम के बाद घर आते हैं, तो उस गंदगी से छुटकारा पाने के लिए आपको अपने पैरों को अच्छी तरह से साफ कर लेना चाहिए। अगर आप पैरों को बारिश के बाद घर आने पर साफ नहीं करेंगे तो ऐसे में आपको कई तरह के इंफेक्शन, बैक्टीरिया या गंदगी का सामना करना पड़ सकता है। वहीं दूसरी तरफ आप पैरों को डेटोल (dettol) के पानी में या फिर किसी और एंटीसेप्टिक में थोड़ी देर के लिए डूबाकर रख लें।
  • मॉनसून के दौरान पैरों के नाखूनों को काटकर छोटा कर लें। ऐसा इसलिए क्योंकि मॉनसून के दौरान नाखूनों में गंदगी जमी रह जाती हैं, जिससे कि फंगल इंफेक्शन (fungal infection) होने का खतरा बना रहता है।
  • अपने पैरों को सूखा रखें, पैरों को धोने के बाद आप पैरों में टेलकम पाउडर भी इस्तेमाल भी कर सकते हैं। टेलकम पाउडर से आपके पैर सूखे रहते हैं। इसी के साथ बैक्टीरिया भी पैदा होने का खतरा भी कम रहता है।
  • बारिश के मौसम में हाई हिल्स के जूते पहनना बिल्कुल बंद कर दें। इस मौसम में आप खुले हुए चप्पल और फ्लिप फ्लॉप ही पहनें। इस मौसम में फ्लिप फ्लॉप (flip flop) पहनने से आपके फुटवेयर में गंदगी और मिट्टी नहीं लगेगी। अगर किसी वजह से आपके फ्लिप फ्लॉप खराब भी हो जाए तो ऐसे में आप उन्हें धो कर काम चला सकती हैं। ऐसे फुटवेयर ना पहने जिन्हें एक बार धोकर सूखने में समय ज्यादा लगे। इसके अलावा अपने जूते या फुटवेयर किसी के साथ शेयर ना करें, ऐसा करने से आपके पैरों को कई तरह की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
  • अपने पैरों को आप मॉनसून के दौरान एक्फोलेट (exflolaite) करना ना भूले। इस उपचार से आप अपने पैरों की बारिश के मौसम में बेहतरीन देखभाल कर सकते हैं। अपने पैरों को एक्फोलेट करने के लिए आप अपने पैरों को साबुन के पानी में भिगोकर स्क्रब करना शुरू कर दें। आप चाहे तो स्क्रब (scrub) करने के लिए एक पत्थर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, ऐसा करने से आपको मृत कोशिकाओं से छुटकारा मिल जाएगा।
  • आप अपने पैरों को धोने के बाद मॉइश्चराइज (moisturized) करना बिल्कुल भी ना भूलें। इसके बाद आप अपने पैरों में टेलकम पाउडर का इस्तेमाल कर अपने पैरों को सूखा भी सकते हैं।

सूखे और फटे पांव/पैर के लिये बेहतरीन पैरों की देखभाल की सलाह

मूल्तानी मिट्टी, नीम, हल्दी, लैवेंडर ऑयल (lavender oil) आदि में पानी मिलाकर एक मास्क तैयार कर लें। इस मास्क को अपने पैरों में लगाकर कम से कम आधे घंटे के लिए छोड़ दें। आप अपने पैरों को इसके बाद पानी से धोकर ऑलिव ऑयल से मसाज करना बिल्कुल ना भूलें।

  • अगर आपके मोजे गिले हो गए तो मोजों को हर दिन बदल बदलकर पहनें।
  • इस मौसम में हमेशा सूखे फुटवेयर पहनें। आप अपने पास दो जोड़ी जूते पहने, ताकि एक अगर गिला हो भी जाएँ, तो आप दूसरा फुटवेयर कैरी कर सकें।

पैरों की देखभाल करने के लिए क्या करें और क्या ना करें (Do’s and don’ts of foot care)

  • अपने पैरों को बारिश में भिगने के बाद एक अच्छे मेडिकेटिड साबुन के साथ साफ करें।
  • रबड़ के सैंडल और स्लिपर्स पहनें।
  • पेडिक्योर करवाते रहें।
  • अपने सैंडल (sandle) और स्लिपर्स (slippers) को रोजाना साफ करें।
  • अपने नाखूनों को काटकर छोटा कर लें।
  • अपने पैरों को सूखा बनाएं रखने के लिए टेलकम पाउडर (talcum powder) का इस्तेमाल करें।
  • बाहर से आने के बाद अपने पैरों को कम से कम 10 मिनट के लिए गर्म पानी में भिगोकर रखें।
  • इस मौसम में कैंवस लेदर (campus leather) के जूते ना पहनें, खासकर तब जब कि वह बंद हो।
  • इस मौसम में हाई हिल्स पहनने से भी बचें, ताकि गिरने और फिसलने का खतरा ना बना रहें।
  • नम जूते और मोजे ना पहननें।
  • बारिश में नंगे पांव ना घुमें।
  • अपने पैरों के नाखूनों के पास हुए क्योटिकल्स (cuticles) को ना निकालें।

फुटवेयर बारिश के मौसम में पैरों की देखभाल करने के लिए काफी जरूरतमंद हिस्सा बन जाती है। बारिश के मौसम में ऐेसे फुटवेयर (footwear) का चयन करें, जिनकी ग्रिप (grip) अच्छी हो और जो कि बारिश में चलना मुश्किल बिल्कुल ना हो। नीचे बताई गई यह टिप्स आपको बताएगी कि आप किस तरह से आप बारिश के मौसम में बाहर निकल सकती हैं।

पैरों के छालों का घरेलू उपचार

बारिश के मौसम के लिए बेहतर फीट केयर टिप्स (Feet care tips for rainy season – monsoon mai health)

पैरों को अच्छी तरह साफ करें (Clean your feet – barish mai foot care)

बारिश के मौसम में आप अपने पैरों को अच्छी तरह से साफ करें, यह बहुत जरूरी होता है। जैसा कि आप इस मौसम में बाहर जाते हैं, तो सड़क पर होने वाली गंदगी आपके पैरों में जम जाती हैं। सड़कों पर जमे हुए पानी के कारण आपके पैरों माइक्रोइल का विकास होने लगता है। जैसे ही आपके पैर बारिश के पानी के संबंध में आते हैं, तो आपके पैर कई तरह के माइक्रोबल इंफेक्शन के संपर्क में आ जाता है। इसलिए घर आने पर आप अपने पैरों को अच्छी तरह से धो लें। अगर संभव हो तो आप किसी भी एंटीसेप्टिक फ्लूड (antiseptic fluid) को पानी में मिलाकर पैरों को साफ करें।

बारिश के मौसम में देखभाल – मॉनसून फुटवेयर (Monsoon footwear)

इस मौसम में आप अपने शरीर के बाकि अंगों के साथ ही पैरों का भी ख्याल रखें, यह बहुत जरूरी होता है। आप सफर करते समय किसी भी तरह के जूते पहन सकते हैं। आप ने गमबूट (gumboot) के बारे में तो सुना ही होगा ? जी हाँ, यह बूट आपके पैरों को घुटनों के नीचे कवर कर लेते हैं। यह आपके पैरों का सही तरह से बचाव करता है। जब आपका पूरा पैर अच्छी तरह से कवर होगा, तो ऐसे में आपको किसी भी तरह के इंफेक्शन का खतरा नहीं होगा, इसी के साथ आप किसी भी तरह के इंफेक्शन के संपर्क में भी नहीं आएँगी।

गर्म पानी से उपचार (Warm water treatment for fungal infection treatment in hindi)

घर बैठे पैरों की वैक्सिंग करने के सरल उपाय – वैक्सिंग करने का तरीका

बारिश का पानी बैक्टीरिया (bacteria) और प्रोटोजोआ (protozoa) से भरा रहता है, जो कि आपके पैरों में इंफेक्शन को बढ़ाता हैं, आप ऐसे में अपने पैरों को इंफेक्शन से बचाने के लिए गर्म पानी से उपचार कर सकते हैं। ऐसा करने से सारे माइक्रोबिज (microbes) खत्म हो जाएगे। लेकिन इस बात का ख्याल रखें कि पानी ज्यादा गर्म ना हो। आपको इस उपचार के लिए सिर्फ गुनगुने पानी की जरूरत होगी। गुनगुने पानी में आप अपने पैरों को डुबाकर रख दें। इसके बाद इस पानी में नमक मिला लें, ऐसा करने से आपके पैरों से इंफेक्शन की शिकायत भी दूर हो जाएगी। इसलिए आप इस उपचार को बारिश के मौसम में जरूर अपनाएं।

वर्षा ऋतु में देखभाल – फुट मास्क (Foot mask)

जिस तरह आप घर में फेस मास्क बनाते हैं, ठीक उसी तरह आप पैरों के लिए भी मास्क घर में ही बना सकते हैं। आप इस मास्क को अपने स्किन टाइप (skin type) के हिसाब से बना सकती हैं। अगर आपकी त्वचा ऑयली हैं, तो आप मूल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल करें। इसके अलावा आप संतरे के छिलकों को सूखाकर उसका पाउडर (powder) से भी मास्क बना सकते हैं, इस मास्क को भी आप अपने ऑयली त्वचा में इस्तेमाल कर सकते हैं। दोनों ही मास्क आपकी त्वचा के लिए सही रहेगा। मुल्तानी मिट्टी मास्क के लिए आप मुल्तानी मिट्टी के 2 से 3 चम्मच ले लें और उसमें शहद मिला लें। इसके बाद तैयार हुए पेस्ट को पैरों में लगा लें। इसे 20 मिनट तक पैरों में ही लगा रहने दें। उसके बाद पैरों को धो लें। आप चाहे तो संतरे के छिलकों का इस्तेमाल भी पैरों पर मास्क के तौर पर इस्तेमाल कर सकती हैं। आप एक ग्राइंडर (grinder) का इस्तेमाल कर आसानी से संतरे के छिलकों को पैरों पर इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके बाद इसमें एक चम्मच दूध मिला लें। इस सभी चीजों को अच्छी तरह से मिक्स (mix) कर लें और अपने पैरों में लगाएँ। इसे 20 मिनट पैरों में रखने के बाद आप अपने पैरों को साफ कर लें।

loading...