Navratri decorations and brief info about festival and fast – नवरात्रि की सजावट और त्यौहार की जानकारी एवं उपवास

नवरात्रि आ गयी है और आप हिन्दुओं के इस सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार की तैयारी में अवश्य ही लग गए होंगे। जैसा कि नाम से ही पता चलता है, यह त्यौहार 9 रातों तक चलता है और इसे भारत के विभिन्न भागों में अलग अलग तरह से मनाया जाता है। जहां कई लोग नवरात्रि का व्रत और उपवास रखकर नारी शक्ति को खुश करने की कोशिश करते हैं, वहीँ अन्य लोग इस त्यौहार को अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ मनाना पसंद करते हैं।

आंध्र प्रदेश में नवरात्रि के दौरान बटुकम्मा पांडूगा मनाया जाता है, जबकि कर्नाटक में इन पवित्र दिनों में नादा हब्बा मनाया जाता है। पश्चिम बंगाल में इस समय दुर्गा पूजा का त्यौहार मनाया जाता है। इस समय हिन्दू लोग नारी शक्ति के विभिन्न रूपों, माँ दुर्गा, माँ लक्ष्मी और माँ सरस्वती की आराधना करते हैं। अतः यह त्यौहार उन नारी शक्तियों का त्यौहार है जो धरती और इसके कुटुम्बियों की रक्षा करती हैं।

नवरात्रि बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है और नवरात्रि के दौरान इन 9 दिनों की महत्ता के बारे में जानकारी रखना हर श्रद्धालु के लिए काफी ज़रूरी है।

नव्त्रात्री के पहले घर की सफाई करना और इसे सुन्दर रूप देना कई भारतीय हिन्दू परिवारों में एक सदियों पुरानी प्रथा है। यह ना सिर्फ त्यौहार की ख़ुशी की ओर इंगित करता है, बल्कि देवी माँ की पूजा करने और उनका आशीर्वाद लेने के का सटीक माहौल बनाने के लिए भी काफी ज़रूरी है। इससे पहले कि हम आपके घर के लिए नवरात्रि की ख़ास सजावट की बात करें, सबसे पहले नवरात्रि व्रत और उपवास पर एक नज़र डाल लेते हैं।

नवरात्रि व्रत और उपवास (The navaratri vrat and the fast)

जो लोग नवरात्रि व्रत का पालन करते हैं, वे अपने शरीर की क्षमता के हिसाब से कड़ा या हल्का उपवास रख सकते हैं। यह किसी भी उम्र के पुरुष या महिलाओं के द्वारा रहा जा सकता है। हालांकि बच्चों, बुजुर्गों, गर्भवती या दूध पिलाने वाली माओं को उपवास रखने से पहले ख़ास उपाय अपनाने की आवश्यकता है।

एक श्रद्धालु नवरात्रि के दिनों में अपने हिसाब से उपवास रख सकता है। नवरात्रि के 9 दिनों को तामसिक, राजसिक और सात्विक इन तीन भागों में बांटा गया है और 3-3 दिन इस श्रेणी में आते हैं। श्रद्धालु केवल इन 3 श्रृंखलाओं के पहले दिन ही उपवास रख सकते हैं। अगर वे चाहें तो 9 दिनों के इस पर्व के पहले और आखिरी दिन भी उपवास रखा जा सकता है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,327 other subscribers

आमतौर पर व्रत रखने वाले लोग इस दिन जल्दी स्नान कर लेते हैं और दुर्गा माँ या माता रानी के रूप में दैवीय नारी शक्ति की पूजा करते हैं। पूजा की पद्दति के अंतर्गत भगवान् की मूर्ति या तस्वीर के सामने एक दिया जलाया जाता है और दुर्गा सप्तशती से मंत्र एवं श्लोक पढ़े जाते हैं। भगवान् का भोग भी पूजा का एक अहम् भाग होता है।

नवरात्रि उपवास की प्रक्रिया (The fasting procedure – nav durga puja vidhi)

नवरात्रि पूजन विधि, नवरात्रि के दौरान उपवास की प्रक्रिया राज्य से राज्य और यहाँ तक कि अलग अलग परिवारों में भी काफी भिन्न होती है। कई श्रद्धालु दिन में एक बार सात्विक आहार ग्रहण करते हैं और शरीर की पानी की ज़रुरत को फल या सब्जियों के रस या फिर सिर्फ पानी से पूरा करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि उपवास के समय हर भोजन या द्रव्य काफी धीरे धीरे लिया जाना चाहिए, जिससे कि भोजन या द्रव्य की प्राणिक शक्ति श्रद्धालु के शरीर में अच्छे से समा सके।

ऐसा कहा जाता है कि उपवास के दौरान श्रद्धालु को कम मात्रा में भोजन करना चाहिए जिससे कि कभी भी शरीर में भोजन अतिरिक्त रूप से ना रहे। एक श्रद्धालु अपना नवरात्रि का उपवास नवरात्रि के 8वें या 9वें दिन तोड़ सकते हैं और कुमारी पूजन तथा ब्राह्मण भोजन से व्रत भी समाप्त कर सकते हैं।

नवरात्रि का व्रत रखने वाले श्रद्धालु के लिए भोजन में ख़ास अनाज और आटा शामिल करना वर्जित होता है। इन आटोंऔर अनाज में मुख्य हैं चावल या चवाल का आटा, गेहूं का आटा, मैदा, बेसन और सूजी। दलिया, पटसन के बीज, मक्के का आटा और बीज से निकाले गए तेलों का प्रयोग भी श्रद्धालुओं के लिए वर्जित होता है।

व्रत करने वालों के लिए खाने में प्याज और लहसुन का प्रयोग भी वर्जित होता है। दाल, फलियाँ, सादा नमक, हल्दी, असाफेटिडा (asafetida), सरसों, मेथी और मांसाहारी व्यंजन भी व्रत करने वालों के लिए वर्जित होते हैं। कॉफ़ी (Coffee), शराब और धूम्रपान भी व्रत के समय वर्जित होते हैं।

नवरात्रि की सजावट (Navaratri decorations)

जब बात नवरात्रि की सजावट की आती है तो आपके पास ऐसे कई विकल्प होते हैं जो हर राज्य एवं सभ्यता के अनुसार अलग अलग होते हैं। जहां देश के कुछ भागों में सारे घर को ताज़े फूलों और मालाओं से सजाने की परंपरा है, वहीँ कई अन्य राज्यों में नवरात्रि के मौके पर सुन्दर रंगोलियाँ बनाने का चलन है। कई लोग अपने घरों को सुन्दर रोशनी एवं अन्य तरह की सजावटों से सुन्दर बनाते हैं जिससे आपके घर को एक नया स्वरुप मिलता है।

एक चीज़ जो हर नवरात्रि सजावट में मुख्य होती है वह है स्वच्छता, अतः सजावट शुरू करने से पहले इस बात को सुनिश्चित करें कि आपके घर का हर कोना स्वच्छ और चमकदार हो जिससे कि आप माता का आशीर्वाद प्राप्त कर सकें।

नीचे नवरात्रि की कुछ सजावटों के बारे में बताया गया है जो आप घर बैठे प्राप्त कर सकते हैं और अपने घर को एक नया स्वरुप प्रदान कर सकते हैं।

एलेप्रो सोलर लाइट पॉवर्ड येलो LED फ्लावर फेयरी स्ट्रिंग लाइट्स (Elepro Solar Light Powered Yellow LED Flower Fairy String Lights)

elepro-solar-light-powered-yellow-led-flower-fairy-string-lights-768x768

[इसे आनलाइन खरीदें]

इस नवरात्रि अपने पूजा के कमरे या अपने घर को इन खूबसूरत पर्यावरण रक्षक फ्लावर फेयरी स्ट्रिंग लाइट्स से सजाएं और देखें कि किस तरह आपके घर का स्वरुप बदल जाता है। ये लाइट्स लगाने में काफी आसान हैं और इनमें किसी तार की आवश्यकता भी नहीं होती। इनको चलने के लिए बिजली की दरकार भी नहीं होती क्योंकि ये 1200Mah क्षमता का सोलर पैनल (solar panel) इस्तेमाल करते हैं और दिन में खुद ही चार्ज (charge) होते हैं। ये लाइट्स वाटरप्रूफ (waterproof) होते हैं और आप इनका प्रयोग अपने घर के बाहरी भाग या बगीचे को सजाने में भी कर सकते हैं।

हाथ से बनाया हुआ डिज़ाइनर लाल लक्ष्मी चरण (Hand Crafted Designer Red LaxmiCharan)

hand-crafted-designer-red-laxmicharan-768x768

[इसे आनलाइन खरीदें]

नवरात्रि के व्रत के दौरान अपने पूजा के कमरे और घर के दरवाजों पर सुन्दर और बेहतरीन रूप से बनाये गए लक्ष्मी चरण को लगाना एक प्रथा माना जाता है। आप पत्थरों से जड़ित ऐक्रेलिक (acrylic) से बने हाथों के काम से सज्जित देवी चरण के ये स्टीकर (stickers) अपने घर की सुंदरता को बढ़ाने के लिए प्रयोग में ला सकते हैं। हर पैरों की ये जोड़ी 2 *2 इंच के आकार   आप यह उम्मीद कर सकते हैं की इनकी गुणवत्ता बेहतरीन होगी।

गैजेट बकेट गोल्डन दिया सेट (Gadgetbucket Golden Diya Set)

gadgetbucket-golden-diya-set

[इसे आनलाइन खरीदें]

नवरात्रि की सजावट दियों के बिना बिल्कुल पूरी नहीं होती और यह ख़ास सुनहरा दिया देवी के मंदिर, पूजा के कमरे और आपके घर को नवरात्रि के दौरान सजाने के लिए काफी बेहतरीन विकल्प साबित होता है। दिए की इन बत्तियों का स्वरुप बिल्कुल असली दियों जैसा होता है और अगर आप लाइटिंग एवं दीयों की कतार लगाने से आसान विकल्पों की तलाश में हैं तो यह दिया बत्ती काफी अच्छा विकल्प सिद्ध हो सकती है। खूबसूरत दिए के आकार की यह सजावट वाली बत्तियां नवरात्रि की सजावट के लिए बिल्कुल उत्तम हैं।

कलेक्टिबल इंडिया 11 इंच बड़ी दुर्गा की मूर्ति (Collectible India 11″ Large Durga Idol)

collectible-india-11-large-durga-idol-768x768

[इसे आनलाइन खरीदें]

अगर नवरात्रि के शुभ अवसर पर आप ख़ास सजावट तो दुर्गा माँ की इस बड़ी मूर्ति पर पैसे खर्च करें, जो आपके घर के सम्पूर्ण स्वरुप में चार चाँद लगाने का काम करती है। यह मूर्ति शुद्ध पीतल से बनी हुई है और पीढ़ियों तक आपका साथ देगी। पीतल की इस मूर्ति पर रंगीन पत्थरों का काम इसे काफी ख़ास बनाता है। इस मूर्ति का वज़न 4 किलोग्राम है। यह इस नवरात्रि आपके द्वारा खरीदी गयी घर सजाने की सबसे बेहतरीन वस्तु होगी।

हाथ से बनी हुई खूबसूरत फेस्टिव डेकॉर क्रिस्टल फ्लोटिंग दिया होल्डर (Exquisite Hand Crafted Festive Decor Crystal Floating Diya Holder)

exquisite-hand-crafted-festive-decor-crystal-floating-diya-holder-768x768

[इसे आनलाइन खरीदें]

तैरता हुआ यह दिया होल्डर आपकी नवरात्रि की सजावट को एक नया स्वरुप प्रदान कर सकता है। इसकी खूबसूरत डिजाईन और बेहतरीन रंगों के प्रयोग से यह नवरात्रि के समय सजावट के लिए पयोग में लाई जाने वाली आदर्श वस्तु है। इस सुन्दर दिया होल्डर की मदद से आप अपने पूजा के कमरे या फिर घर के किसी भी कोने को सजा सकते हैं। क्रिस्टल्स से बना होने की वजह से यह रोशनी परावर्तित करता है, जिससे इसे एक खूबसूरत स्वरुप प्राप्त होता है।

गठबंधन पीतल की बनी दुर्गा माँ के चेहरे की वाल हैंगिंग (GATHBANDHAN Brass Durga Maa Face Wall Hanging)

gathbandhan-brass-durgamaa-face-wall-hanging-768x753

[इसे आनलाइन खरीदें]

इस नवरात्रि अपने घर को इस खूबसूरत वाल हैंगिंग से सजाएं जिसमें देवी दुर्गा का चेहरा बना हुआ है। यह वाल हैंगिंग पीतल से बनी है और आपके पूजा के कमरे या घर की सजावट के लिए काफी अच्छा तत्व सिद्ध हो सकती है। यह वाल हैंगिंग 11.4 x 2.5 x 14 सेंटीमीटर के आकार में आती है और इसका वज़न 472 ग्राम है। यह वाल हैंगिंग पीढ़ियों तक आपका साथ देगी और नवरात्रि के दौरान भी काफी अच्छा तोहफा साबित होगी।

हाथ से बनी हुई डिज़ाइनर पूजा चौकी (Hand Crafted Designer Puja Chowki)

hand-crafted-designer-puja-chowki-768x778

[इसे आनलाइन खरीदें]

एक खूबसूरत एवं आकर्षक पूजा चौकी आपके पूजा के कमरे की  सजावट में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। हाथ से बनी यह सजावटी पूजा चौकी 10×10 इंच के आकार में आती है और विभिन्न प्रकार के रंग बिरंगे पत्थरों को एक मज़बूत लकड़ी की नींव पर सजाकर बनाई जाती है। इसका निर्माण भारत के बेहतरीन कारीगरों द्वारा किया गया है और आप इसे बनाने में लगी ख़ास मेहनत देख सकते हैं। इस नवरात्रि इस पूजा चौकी को अपने पूजा घर में शामिल करें।

स्टोर इंडया ॐ डिजाईन के साथ 2 पारम्परिक डोर हैंगिंग का सेट (Store Indya Set of Two Traditional Door Hanging with OM Design)

store-indya-set-of-two-traditional-door-hanging-with-om-design-651x1024

  [इसे आनलाइन खरीदें]

अपने घर के दरवाजों को इन पारम्परिक ॐ डिजाईन की डोर हैंगिंग से सजाएं जो नवरात्रि के उत्सव से मेल खाते हैं। दरवाज़े की ये हैंगिंग्स 2 के सेट में आती है और इनकी लंबाई 8 इंच होती है। इन हैंगिंग्स की फिनिश (finish) पीतल की है और इस नवरात्रि आपके घर को सजाने में इनका अहम् योगदान हो सकता है।

loading...