How to Cleanse Lymphatic System – Hindi Tips to improve the lymphatic system – लिम्फेटिक सिस्टम को दुरुस्त करने के नुस्खे

लिम्फेटिक सिस्टम (lymphatic system) या लसीका प्रणाली हमारे शरीर की ऐसी प्रणाली है जो ग्रंथियों, लिम्फ नोड्स (lymph nodes), स्प्लीन (spleen), थाइमस ग्रंथियों (thymus gland) और टॉन्सिल्स (tonsils) से बनी होती है। ये रक्त की कोशिकाओं को दुरुस्त करते हैं तथा इनसे गन्दगी निकालकर खून को शुद्ध करने वाले अंगों – लीवर तथा किडनी (liver and kidneys) की मदद करते हैं। यह गन्दगी टोक्सिन (toxin), ड्रग्स (drugs), अतिरिक्त पदार्थ, कीटनाशक या शरीर की विभिन्न प्रक्रियाओं से निकली गन्दगी हो सकती है।

लसीका तंत्र के कार्य करने का तरीका (How does the lymphatic system work? – lasika system ke liye tips)

यह प्रणाली शरीर की गन्दगी निकालने का कार्य करती है। इस प्रणाली का सही प्रकार से कार्य करना काफी आवश्यक है। इस प्रणाली में किसी प्रकार के अवरोध की  संभावनाएं होती हैं, और ये गन्दगी कई बार कई सालों तक इनमें जमा पड़ी रहती है। लिम्फ (lymph) रक्त के साथ साथ ही चलते हैं और ये शरीर की हर कोशिका द्वारा छोड़ी गयी गन्दगी बाहर निकालने के लिए ज़िम्मेदार होते हैं। यह आपकी प्रतिरोधक क्षमता (immune system) को दुरुस्त करने का कार्य करती है तथा शरीर को स्वस्थ बनाने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

लिम्फेटिक सिस्टम में गन्दगी जमने का कारण (Causes and symptoms of lymphatic congestion or lasika parnali)

ह्रदय के स्वास्थ्य को सुधारने के प्रभावी नुस्खे

इस प्रणाली में गन्दगी और अशुद्धियाँ जमने का मुख्य कारण तनाव होता है। तनाव से लिम्फ (lymph) में डीजनरेशन कंजेशन (degeneration congestion) हो जाता है। हाजमे की गंभीर समस्या से भी आँतों की दीवारें (intestinal walls) बुरी तरह प्रभावित हो जाती हैं और लिम्फ में गन्दगी फंसकर रह जाती है। इस समस्या का एक और मुख्य कारण शरीर में आयोडीन (iodine) की कमी होना है।

लिम्फेटिक कंजेशन (lymphatic congestion) के मुख्य लक्षण हैं सुबह सुबह शरीर में दर्द और अकड़न का अनुभव। इस अवस्था अमें आपको हमेशा ही थकान तथा सूजन की समस्या रहती है। इसमें त्वचा रूखी हो जाती है। और हाथ पाँव ठन्डे पड़ जाते हैं।

लसीका प्रणाली को सुचारू रूप से चलाने के तरीके (Ways to make the lymphatic system (lasika tantra) work smoothly)

  • लिम्फेटिक सिस्टम लम्बी सांस लेने से शुरू हुए पम्पिंग की प्रणाली (pumping action) की मदद से रक्त में अशुद्धियाँ ले आता है, जिन्हें लीवर शुद्ध कर देता है। लम्बी और गहरी सांसें बाहर छोड़कर अशुद्धियों को बाहर निकालने का प्रयास करें।
  • व्यायाम से भी लिम्फ सिस्टम को सुचारू रूप से चला सकते हैं। ट्राम्पोलीन (trampoline) पर कूदकर, स्ट्रेचिंग (stretching) करके या एरोबिक व्यायाम (aerobic exercises) करके आप लिम्फ का प्रवाह काफी बढ़ा सकते हैं।
  • पानी और अन्य रसों का सेवन करने से लिम्फ द्रव्य को बहने में काफी मदद मिलेगी।
  • अगर कच्चे फल और सब्जियों का सेवन अगर सुबह सुबह खाली पेट किया जाए तो इनमें मौजूद एंजाइम्स (enzymes) लिम्फ को साफ़ करने में काफी मदद करते हैं।
  • हरी सब्जियों से प्राप्त हुआ क्लोरोफिल (Chlorophyll), लिम्फ तथा रक्त को अच्छे से शुद्ध कर देता है।
  • बिना नमक वाले नट्स (nuts) तथा बीज जैसे अखरोट, बादाम, ब्राज़ील नट्स (Brazil nuts), अलसी (flaxseed) और लौकी के बीज अपने में मौजूद फैटी एसिड्स (fatty acids) की मात्रा के कारण लिम्फ को शक्ति प्रदान करते हैं।

त्वचा की देखभाल तथा सौंदर्य की देखभाल के लिए विटामिन्स

  • स्नान करने से पहले अपने शरीर तथा बालों को गोलाकार मुद्रा में ब्रश (brush) करने से लिम्फ को दिल की तरफ बढ़ने में सहायता मिलेगी।
  • कुछ समय के लिए बारी बारी से गर्म और ठन्डे पानी से नहाने पर लिम्फेटिक सिस्टम की कार्यशीलता बढ़ती है। परन्तु गर्भवती महिलाओं तथा दिल की बीमारी से ग्रस्त व्यक्तियों द्वारा इस विधि का प्रयोग सही नहीं है।
  • एक हलके मसाज (massage) से एक जगह अटका हुआ लिम्फ दोबारा से सक्रिय हो जाता है।

लसीका तंत्र को साफ़ करना – सुस्त लिम्फेटिक सिस्टम को शक्ति देने के उपाय (Natural ways to boost a sluggish lymphatic system – lasika tantra ko saaf karna)

व्यायाम न करने, आयोडीन की कमी तथा हाजमे की दिक्कतों की वजह से लिम्फेटिक सिस्टम सुस्त पड़ जाता है और इससे कई स्वास्थ्य समस्याएं पैदा होती हैं। सौभाग्य से इसे साफ़ करने के कई तरीके हैं। इसके साफ होने से आपको त्वचा की तकलीफ, आर्थराइटिस (arthritis), सेल्युलाईट (cellulite), कोलेस्ट्रोल (cholesterol) तथा हाजमे की समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।

  1. वैकल्पिक थेरेपी (Alternative Therapies)

  • लिम्फ ड्रेनेज मसाज (Lymph drainage massage) जो लिम्फ की कार्यशीलता बढ़ाता है तथा कोशिकाओं से अशुद्धियाँ निकालता है।
  • एक्युपंक्चर (Acupuncture) से भी काफी लाभ होता है।
  • सॉना (sauna) तथा स्टीम बाथ (steam bath) से भी शरीर की अशुद्धियाँ त्वचा से निकल जाती हैं।

कैंसर कीमोथेरेपी के फायदे एवं नुकसान

  1. व्यायाम से भी लिम्फेटिक सिस्टम अच्छे से चलता है।
  2. स्वस्थ खानपान से शरीर में टोक्सिन (toxin) तथा अन्य अशुद्धियाँ कम बनती हैं।

4. ढीले कपड़े पहनें। चुस्त कपड़ों से लिम्फ में अवरोध उत्पन्न होता है।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday