Best pedicure tips in Hindi for women – महिलाओं के लिए पेडीक्योर टिप्स- घर पर आसानी से खुद करें पेडीक्योर

आपकी एड़ियों को पोषण मिलने में काफी समय लगता है क्योंकि वे दिन में 10 घंटे से भी ज़्यादा समय तक जूतों के अंदर रहते हैं। ठण्ड के दिनों में एड़ियां जूतों के अंदर अटकी रहती हैं। अब आप घर पर ही अपने पैरों की अच्छे से देखभाल कर सकते हैं। एक बार पेडिक्योर करवा लेने के बाद आपके पैरों में सैंडल भी काफी अच्छे लगेंगे। आपको शो रूम से सैंडल खरीदते वक़्त अपने पैर दिखाते हुए शर्म नहीं आएगी। आप ब्यूटी पार्लर में जाकर पेडीक्योर करवा सकती हैं, पर ये काफी महंगे होते हैं।

पेडीक्योर पैरों तथा पैरों के नाखूनों की देखभाल की एक प्रक्रिया है। पेडीक्योर शब्द लैटिन (latin) भाषा के दो शब्दों  पेडी (pedi) अर्थात पैर तथा क्यूरा (cura) अर्थात देखभाल शब्द से आया है। पेडीक्योर का कारण सौंदर्य से लेकर चिकित्सा सम्बन्धी भी हो सकता है। यह पैरों और इनके नाखून सम्बन्धी सारी समस्याओं को दूर करता है। यह एक ऐसी सौंदर्य विधि है जिसका प्रयोग दुनियाभर की महिलाएं करती हैं। इस प्रक्रिया के अंतर्गत पैरों के नाखून काटना,  एड़ियों से मृत कोशिकाएं निकालना तथा पैरों की मालिश मुख्य है। गर्मियों में पैरों को अतिरिक्त देखभाल की ज़रुरत होती है।

पैरों के लिये तरह-तरह के पेडीक्‍योर (Types of pedicures in Hindi)

सामान्य पेडीक्योर (Regular Pedicure)

गर्मियों के दौरान सौंदर्य की देखभाल के सर्वोत्तम सुझाव

यह घर या सलून (salon) में महिलाओं द्वारा किया जाने वाला सबसे साधारण तरह का पेडीक्योर है। इसमें पैर भिगोना, पैरों की स्क्रबिंग, नाखून काटना, उन्हें अच्छा आकार देना, पैरों तथा पिंडलियों (calves) की मालिश, मॉइस्चराइज़र तथा नेल पोलिश का प्रयोग शामिल नहीं होता।

मिनी पेडीक्योर कैसे करे (Mini Pedicure)

इसमें मुख्य रूप से पैर के नाखून, उन्हें आकार देने तथा उनमें नेल पॉलिश का प्रयोग करने पर ही ध्यान दिया जाता है। इसमें पैरों को लम्बे समय तक भिगोने तथा पैरों की मालिश की प्रक्रिया नहीं की जाती। इस पेडीक्योर का प्रयोग आमतौर पर सामान्य पेडीक्योर के बीच में पैरों की देखभाल के लिए किया जाता है।

पेडीक्योर करने का तरीका, स्पा पेडीक्योर (Spa Pedicure)

यह पेडीक्योर मुख्यतः सैलून में किया जाता है। इसमें सामान्य पेडीक्योर की सारी प्रक्रिया के अलावा पैरों में पैराफिन डिप, मास्क्स, मड या समुद्री शैवालों का उपचार (paraffin dip, masks, mud or seaweed treatment) शामिल है।

पैराफिन पेडीक्योर (Paraffin Pedicure)

यह पैरों का ऐसा उपचार है जिसके अंतर्गत पैरों को नमी प्रदान करने के लिए पैराफिन वैक्स (paraffin wax) का प्रयोग किया जाता है। यह सलून या घर में सामान्य पेडीक्योर की प्रक्रिया को पूरा करने के बाद किया जाता है।

पेडीक्योर कैसे करे – महिलाओं के पैरों के पेडिक्योर के नुस्खे (Tips for best pedicure for ladies feet in Hindi – pedicure karne ka tarika)

सामग्री (Ingredients needed)

गोरा चेहरा पाने के लिये शीर्ष घरेलू सौंदर्य टिप्स

पेडिक्योर की प्रक्रिया शुरू करने के लिए आपके पास कुछ चीज़ें होनी चाहिए। इनमें मुख्य है नेल पोलिश रिमूवर, उपत्वचा का तेल, नहाने का तौलिया, एक बड़ी कटोरी, पैरों की मृत कोशिकाएं निकालने का स्क्रब, नाखूनों का क्लिपर, हाथ पोंछने का तौलिया, एक पैर घिसने का यंत्र, बेस कोट, फुट लोशन, एक अच्छा नाख़ून साफ़ करने का यंत्र आदि।

रिमूवर का प्रयोग (Remover usage)

आमतौर पर महिलाएं लम्बे समय तक नाखूनों में नेल पोलिश लगाकर रखती हैं और उन्हें निकालना भूल जाती हैं। ये पुरानी नेल पोलिश नाखूनों पर अच्छी नहीं लगती। एक सौम्य एसीटोन नेल पोलिश रिमूवर को रुई के फाहों में लगाएं तथा नाखूनों पर लगाएं। नॉन एसीटोन रिमूवर की तुलना में एसीटोन रिमूवर ज़्यादा अच्छे होते हैं क्योंकि ये आपके नाखूनों को नुकसान नहीं पहुंचाते।

घरेलू पेडीक्योर – पैर डुबोना (Gharelu Pedicure in Hindi by Soaking the legs)

पेडिक्योर के एक और चरण के अंतर्गत महिलाओं को एक बड़े बर्तन में रखे गुनगुने पानी में अपने पैर डुबोने पड़ते हैं। अगर आप गर्म पानी में नमक डालती हैं तो ये और ज़्यादा फायदेमंद होगा। इससे पैरों का दर्द चला जाएगा जो कि अतिरिक्त दबाव या चलने की वजह से होता है। इस प्रक्रिया के समय पैरों के तौलिये को नीचे ही रखें जिससे यह पेडिक्योर के फलस्वरूप निकली गन्दगी को साफ़ कर सके।

क्यूटिकल – उपत्वचा (Cuticle)

पेडीक्योर का अगला कदम होता है पैर को गर्म पानी से निकालकर उसपर उपत्वचा के तेल की कुछ बूँदें डालना। आप एक लकड़ी की छड़ी की सहायता से अपने नाखूनों पर इस तेल की मालिश कर सकती हैं। इससे आप पैरों के नाखूनों की मृत कोशिकाओं को आसानी से हटा सकती हैं।

एक्सफोलिएशन (Exfoliate se pedicure karna)

तेल से मालिश करने के बाद ना सिर्फ अपनी एड़ियों पर, बल्कि अपने पूरे पैरों पर स्क्रबर का प्रयोग करें। अगर आप दानेदार फुट स्क्रब का प्रयोग कर रही हैं तो इससे और ज़्यादा प्रभाव पडेगा। एड़ियों के नीचे से लेकर घुटने तक स्क्रब करें। जिस जगह पर सूखी त्वचा ज़्यादा हो, वहां पर ज़्यादा दबाव दें।

सौंदर्य के लिए मुल्तानी मिटटी के उपयोग

फाइलिंग और हाइड्रेटिंग (Filing and hydrating)

अपने पैरों के नाखूनों को अच्छा आकार देने के लिए अच्छा फाइलर प्रयोग में लाएं। नाखून के पास से फाइलिंग की प्रक्रिया शुरू करें और बीच में ऊँगली रखकर पूरे नाखून को ढक दें। पेडिक्योर के उपचार में पैरों को हाइड्रेट करने का भी अपना महत्त्व होता है। आप पुदीने के तेल की मदद से ये प्रक्रिया पूरी कर सकती हैं।

पेडीक्योर करने के देसी नुस्खे (Desi Steps for proper Pedicure in Hindi)

पहला कदम (Step 1 mei pedicure karna)

सबसे पहले पैरों से नेल पोलिश (nail polish) हटाएं तथा पैरों को 20 मिनट तक गर्म पानी से भरे हुए टब में, जिसमें तरल साबुन मिला हुआ हो, डुबोकर रखें। इस टब में एक चुटकी नमक, अमोनिया एसिड (ammonia acid) तथा बेकिंग पाउडर (baking powder) भी मिलाएं तथा आराम से पैर डुबोकर रखें।

दूसरा कदम (Steps 2)

पैरों की मृत कोशिकायें निकालने के लिए इनके कठोर भागों को किसी बेहतरीन एक्सफोलिएट (exfoliate) से रगड़ें। आप नमक या चीनी के दानों का प्रयोग स्क्रबिंग (scrubbing) के लिए कर सकती हैं। ये प्रक्रिया पैरों की उँगलियों से शुरू करके टखनों तक तथा और ऊपर तक गोलाकार मुद्रा में की जानी चाहिए। बचे हुए पदार्थ को गर्म पानी से हटा लें।

तीसरा कदम (Step 3)

पैरों के ज़्यादातर खुरदुरे भाग इतने देर में टब में डूबे रहने के कारण नर्म हो जाते हैं। इन्हें चिकना करने के लिए प्युमिस स्टोन या लावा रॉक (pumice stone or lava rock) का प्रयोग करें। स्क्रबिंग करने की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए एड़ियों के नीचे के भाग तथा अंगूठे के बीच के हिस्से को घिसने के समय आगे और पीछे वाली मुद्रा का प्रयोग करें।

चौथा कदम (Step 4)

आपके रोज़ाना के मेकअप के सौंदर्य उत्पाद

इसके बाद अपने नाखूनों को स्टील के क्लिपर (steel clipper) की मदद से ट्रिम (trim) कर लें। नाखूनों को सीधा ट्रिम करें और इसके बाद इनके किनारों को नर्म बनाने के लिए इनकी फाइलिंग (filing) करें। नाखूनों को काटते समय काफी सावधानी बरतना आवश्यक है, क्योंकि कोई भी भूल अंदरूनी रूप से उगे पैरों के नाखूनों की समस्या को जन्म दे सकती है।

पांचवा कदम (Step 5)

पैरों के सोल्स (soles) को अच्छी मालिश प्रदान करते हुए गोलाकार मुद्रा में एक अच्छे मॉइस्चराइसिंग लोशन (moisturizing lotion) का प्रयोग करें। इस मालिश का प्रयोग पैरों के सारे निचले हिस्से में अच्छे से करें। इससे पैरों को आराम मिलेगा और रक्त संचार में वृद्धि होगी।

छठवां कदम (Step 6)

पेडीक्योर के अंतिम भाग में अपने नाखूनों को अपने मनपसंद नेल पॉलिश के रंगों से रंगें। रोल्ड टिश्यू पेपर (rolled tissue paper) कॉटन वूल (cotton wool) या फोम पैड्स (foam pads) की मदद से फिंगर सेपरेटर (finger separators) बनाकर इसे डालें और इसके बाद नेल पॉलिश लगाएं। हमेशा नेल पॉलिश का अंतिम कोट (coat) लगाने से पहले एक बेस कोट (base coat) लगाएं। इस पॉलिश को कम से कम 20 मिनट तक सूखने के लिए छोड़ दें।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday