Acne causes, types & treat acne tips in Hindi – एक्ने क्या है? मुँहासे के प्रकार क्या हैं? कैसे मुँहासे का इलाज करे?

एक्ने को डॉक्टरी भाषा में एक्ने वल्गारिस (acne vulgaris) कहा जाता है। यह त्वचा की एक बीमारी है जो बालों के फॉलिकल्स (follicles) के नीचे की तैलीय ग्रंथियों से सम्बंधित है। यह समस्या किशोरावस्था में उत्पन्न होती है जब तैलीय ग्रंथियों में जान आ जाती है। ये ग्रंथियां पुरुष और महिलाओं की एड्रेनल ग्रंथियों (adrenal glands) द्वारा उत्पादित पुरुष हॉर्मोन्स (hormones) द्वारा प्रभावित होते हैं। मानव शरीर में रोमछिद्र (pores) होते हैं जो त्वचा के नीचे स्थित तैलीय ग्रंथियों से फॉलिकल्स की मदद से जुड़े हुए होते हैं। तैलीय ग्रंथियों द्वारा सीबम (sebum) नामक तैलीय द्रव्य उत्पादित किया जाता है, जिसकी वजह से मृत कोशिकाएं त्वचा की ऊपरी सतह पर आ जाती हैं। इन फॉलिकल्स पर छोटे बाल उगते हैं। इन फॉलिकल्स के बंद हो जाने पर मुहांसे होते हैं और फिर तेल त्वचा के नीचे जमा होने लगता है।

मुहांसे एक त्वचा की बीमारी हैं जो की बालों की जड़ों में तेल ग्रंथियों की वजह से होती हैं। इन्हें ज्यादातर लाल रंग’ के दानों से जोड़ा जाता हैं। यह किशोरवास्था के लोगों में बहुत आम बात हैं। अगर आपकी त्वचा तैलीय है तो उसमें काले या सफ़ेद तिल होना आम बात हैं।

मुहांसे होने का कारण (Why is acne caused?)

आपकी जो त्वचा हैं वो पसीना, बाल और तेल उत्पन्न करती हैं जब त्वचा की कोशिकाएं गन्दगी, तेल और बैक्टीरिया से बंद हो जाती हैं और मुहांसे हो जाते हैं। मुहांसे होने के और भी कई कारण हैं जैसे की पसीने की ग्रंथियों या होर्मोनेस का जरुरत से ज्यादा निकलना। लेकिन ज्यादातर मुहांसे कोशिकाओं के बंद हो जाने से ही होते हैं।

मुहांसे के प्रकार (What are the types of acne?)

मुहांसे ज्यादातर चेहरे, छाती और पीठ में निकलते हैं। मुहांसे कई प्रकार के होते हैं : सादे, मध्यम और कठोर मुहांसे।

  • सादे मुहांसे : काले और सफ़ेद तिल को सादे मुहांसे कहते हैं। यह ग्रंथियों के बंद हो जाने से पैदा होते हैं।
  • मध्यम मुहांसे : 10-40 मुहांसों का निकलने से और उनमें मवाद जम जाने से हो जाते हैं तो उन्हें मध्यम मुहांसे कहते हैं।
  • कठोर मुहांसे : यह मुहांसे बहुत ही कठोर होते हैं। और इनमें मवाद भर जाता हैं फिर यह अपने चारों तरफ सीस्ट बना लेते हैं। यह त्वचा में बहुत अंदर तक चलें जातें हैं और इन्हें तुरंत इलाज की जरुरत होती हैं।

सूखी त्वचा को मुलायम बनाये रखने के लिए सौंदर्य टिप्स

एक्ने का उपचार और मुहांसों का इलाज कैसे करें (How to treat the acne? )

मुहांसों का पूरी तरीके से इलाज संभव नहीं हैं। इसका इलाज ना करने से यह सन्क्रमण, सुजन और निशाँ पड़ सकते हैं।इसके लिए विभिन्न इलाज इस प्रकार हैं :

  • सामायिक उपचार : पिम्पल के उपाय, सामायिक उपचार में आपकी त्वचा के ऊपर दवाइयों का इस्तेमाल होता हैं।इसमें क्रीम, जेल और क्लेंसेर्स हैं जो की बाज़ार में आसानी से मिल जाते हैं।
  • एंटीबायोटिक्स : यह दवाइयाँ बैक्टीरिया का संक्रमण ख़त्म करती हैं। मुहासे से छुटकारा, आप इसके इलाज के लिए तेल और दवाई का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • एसिड : चिरायता एसिड बैक्टीरिया को खत्म करता हैं।
  • हार्मोन: : हार्मोन का असुंतलन से त्वचा का तेल सूखने का डर रहता हैं।
  • रेटिनोइड्स : यह गंभीर मुहांसे के लिए उचित उपचार हैं। इसका उपचार क्रीम और तेल से संभव हैं। ग्राभावस्था में इस उपचार को करने की सलाह नहीं दी जाती हैं।
  • स्टेरॉयड : यह उपचार सुजन को कम करता हैं। यह सुई के रूप से शरीर में लिए जाते हैं।
  • सर्जरी : यह बहुत कम इस्तेमाल की जाती हैं। ज्यादातर यह त्वचा में मुहांसों के छोड़े हुए निशानों को खत्म करने के लिए इस्तेमाल होता हैं।

कील मुंहासे का इलाज और मुहांसों का उपचार (Treatment of acne or kil muhase ka gharelu ilaj)

मुहांसों का उपचार बहुत गंभीर हालत में ही संभव हैं ज्यादातर लोगों को माध्यम तरीके के ही मुहांसे होते हैं। जो की क्रीम और जैल से उपचार संभव होता हैं।

ज्यादातर मुहांसों का उपचार (muhase se chutkara) सामायिक तरीके से संभव हैं। यह सामायिक उपचार बैक्टीरिया को खत्म करता हैं और त्वचा में जरुरत से ज्यादा तेल को बहने से रोकता हैं। अगर लाल रंग के मुहांसे हैं तो जिसमें सीस्ट बन जात आहें वोह बढ़ जाने पिन पुरे शारीर में फैल सकता हैं अप ऐसे समय में एंटीबायोटिक्स का सहारा ले सकते हैं।

मुहांसों के इलाज के लिए कुछ और उपचार (Some other procedures to treat acne)

त्वचा और बालों की देखभाल के लिए कपूर

  • लेज़र और लाइट से एक्ने दाग, मुहांसों का उपचार : इन उपकरणों के इस्तेमाल से बैक्टीरिया खत्म हो जाता हैं।
  • रासायनिक उपचार : डॉक्टर आपकी त्वचा के काले तिल का इलाज करने के लिए रासायनिक उपचार का सहारा लेता हैं।
  • मुहांसों को जड़ से हटाना : इस उपचार का इस्तेमाल तब करना चाहिए जब मुहांसों में सीस्ट बन चुके हैं।

जब सारे इलाज विफल हो जाते हैं तब यह प्रक्रिया का इस्तेमाल किया जाता हैं। यह मुहांसे में होने वाले दर्द को तुरंत खत्म कर देता हैं पर यह त्वचा पे जरुर निशाँन छोड़ता हैं।

मुहांसों को खत्म करने के घरेलु उपचार (Home remedies to treat acne)

  • एक्ने का इलाज, बेकिंग सोडा और सोडियम बिकारबोनिट यह कोशिकाओं को खोल देता हैं और मृत त्वचा को हटाते हैं। यह त्वचा को संतुलित रखता हैं और इसमें एन्टी एन्टी इन्फ्लेमेटरी और एंटीसेप्टिक तत्व हैं जो की मुहांसों को हटाने में बहुत ही असरदार हैं। सोडा और पानी को मिलाकर मुहांसों में लगायें फिर ठन्डे पानी से मुह धो लें।
  • एक्ने का आयुर्वेदिक उपचार, दलिया कील मुंहासे को खत्म करता हैं, कोशिकाओं को खोलता हैं और तेल को त्वचः से सोख लेता हैं। एक कटोरी में पका हुआ दलिया लें उसमें नीम्बू और शहद मिलाएं और अपनी त्वचा पे रगड़ लें। फिर इसे 30 मिनट के बाद ठन्डे पानी से धो लें।
  • पिम्पल्स का इलाज, मुल्तानी मिटटी मुहांसे वाली त्वचा के लिए सर्वोत्तम होती हैं। यह तेल सोखती हैं, कोशिकाओं को खोलती हैं और चेहरे को सुन्दर बनाती हैं। मुल्तानी मिटटी, चन्दन पाउडर और गुलाब जल मिलाकर मिश्रण बना लें। फिर लगायें और सूखने पर ठन्डे पानी से धो लें।

मुहांसों के प्रकार (Types of pimples)

सफ़ेद दाग (Whiteheads)

ये त्वचा के नीचे होते हैं और काफी छोटे भी होते हैं।

चिकनी और कोमल त्वचा के लिए टिप्स और घरेलू उपचार

काले दाग (Blackheads)

ये काले होने की वजह से साफ़ दिखते हैं और त्वचा की ऊपरी परत में ही पैदा होते हैं।

पैप्यूल (Papules)

ये छोटे गुलाबी रंग के दाने होते हैं जो त्वचा पर दिखते रहते हैं।

फुंसी (Pustules)

ये त्वचा पर पस भरे लाल दानों के रूप में पैदा होते हैं और साफ साफ दिखते हैं।

नोड्यूल्स (Nodules)

ये बड़े और ठोस मुहांसे होते हैं जो त्वचा की परत पर आसानी से देखे जा सकते हैं। ये दर्दभरे होते हैं और इनकी जड़ें त्वचा के अंदरूनी भाग तक होती है।

सिस्ट्स (Cysts)

ये दर्दनाक और पस से भरपूर होते हैं। ये त्वचा की ऊपरी परत पर ही साफ़ दिखते रहते हैं। इनसे आसानी से दाग हो जाते हैं।

एक्ने के कारण (Causes of Acne)

  • एक्ने के कारण अभी पूरी तरह पता नहीं चल पाए हैं। कई विशेषज्ञों का मानना है कि एक्ने होने का मुख्य कारण एण्ड्रोजन (androgen) हॉर्मोन के स्तर में बढ़ोत्तरी है, जो कि आमतौर पर किशोरावस्था में ही होती है। इस स्तर के बढ़ जाने से त्वचा के नीचे स्थित तेल की ग्रंथियां बड़ी हो जाती हैं और ज़्यादा तेल उत्पादित करने लगती हैं। अतिरिक्त तेल से रोमछिद्रों की कोशिकाओं की दीवारें टूटने लगती हैं और इससे बैक्टीरिया (bacteria) को बढ़ने में मदद मिलती है।

बंद स्किन पोर्स को खोलने के लिये घरेलू उपचार

  • आनुवांशिकता भी एक्ने की बढ़ोत्तरी में काफी बड़ी भूमिका अदा करती है।
  • एण्ड्रोजन और लिथियम (androgen and lithium) से युक्त दवाइयों से भी एक्ने हो सकता है।
  • चिपचिपे सौंदर्य उत्पादों का प्रयोग करने से संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को एक्ने हो सकता है।
  • गर्भावस्था के दौरान हॉर्मोन में होने वाले परिवर्तनों की वजह से एक्ने पहली बार या दोबारा हो सकता है।

एक्ने ठीक करने के घरेलू नुस्खे (Home remedies to treat acne)

बेकिंग सोडा रोमछिद्र खोलता है और मृत त्वचा को हटाता है। यह त्वचा के ph स्तर को भी नियंत्रित रखता है और इसमें मौजूद जलनरोधी और एंटीसेप्टिक (antiseptic) गुण एक्ने को प्रभावी रूप से ठीक करते हैं। बेकिंग सोडा और पानी का एक पेस्ट बनाएं तथा इसे एक्ने पर लगाएं। कुछ देर के बाद धो लें।

ओटमील (Oatmeal se pimple ka ilaj)

यह त्वचा के रोमछिद्रों को साफ करके तथा अतिरिक्त तेल हटाकर एक्ने को दूर करता है। यह त्वचा की मृत कोशिकाएं निकालने में भी काफी कारगर साबित होता है। पके हुए ओटमील, शहद और नीम्बू के रस का मिश्रण तैयार करें और चेहरे पर लगाएं। इसे आधे घंटे के लिए छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से धो लें।

मुल्तानी मिट्टी (Fuller’s earth se acne ka ilaj)

यह चिपचिपी और एक्ने से प्रभावित त्वचा के लिए काफी फायदेमंद साबित होती है। यह चेहरे के अतिरिक्त तेल को सोखती है, बंद रोमछिदों को खोलती है तथा रंग गोरा करती है। मुल्तानी मिट्टी, चन्दन के पाउडर और गुलाबजल का एक पेस्ट तैयार करें। इसे चेहरे पर लगाएं और धोने से पहले सूखने के लिए छोड़ दें।

नीम्बू का रस (Lemon juice se muhase se chutkara)

घरेलू उपायों से निखरी त्वचा पाने के नुस्खे

नीम्बू के रस में अम्लीय गुण होते हैं, जिसकी वजह से यह एक्ने का काफी अच्छा इलाज साबित होता है। नीम्बू का रस आपके रोमछिद्रों में जमी गन्दगी को साफ़ करता है और सीबम (sebum) को कठोर बनाता है। इसका रोज़ प्रयोग करके आप काफी जल्दी एक्ने से छुटकारा पा सकते हैं। लेकिन अगर आपकी त्वचा काफी ज़्यादा सूख जाती है तो इसका प्रयोग हर दूसरे दिन भी किया जा सकता है।

  • नीम्बू को आधा काटें
  • इस आधे भाग का प्रयोग प्रभावित भाग पर सीधे रूप में करें
  • इसे कुछ घंटों के लिए इसी तरह छोड़ दें
  • सादे पानी से चेहरा धो लें।

वैकल्पिक तौर पर

  • नीम्बू के रस और गुलाबजल को बराबर रूप में मिश्रित करें
  • इस मिश्रण से चेहरे को अच्छी तरह धो लें।

टूथपेस्ट (Toothpaste for pimple treatment in hindi)

आप टूथपेस्ट की मदद से भी एक्ने को दूर कर सकते हैं। यह काफी आसान और प्रभावी घरेलू नुस्खों में से एक है।

  • प्रभावित भाग पर थोड़ा सा टूथपेस्ट लगाएं और फिर सोने चले जाएँ।
  • टूथपेस्ट सूजन कम करता है और एक्ने को दूर करता है।
  • आपको दो दिनों में ही काफी संतोषजनक परिणाम प्राप्त होंगे।
  • ध्यान रखें कि टूथपेस्ट जेल (gel) के रुप में ना हो।

टी ट्री ऑइल (Tea tree oil)

सुंदरता बढ़ाने के लिए मुल्तानी मिटटी का प्रयोग कैसे करे

इस तेल में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जिसकी मदद से कई समस्याएं हल हो सकती हैं। यह आपको एक्ने के बैक्टीरिया को मारने में भी सहायता करता है।

  • प्रभावित भाग में टी ट्री ऑइल की एक बूँद का प्रयोग करें।
  • इस प्रक्रिया का पालन दिन में 3 बार करें।

शुद्ध टी ट्री ऑइल के प्रयोग से त्वचा में जलन, अत्याधिक सूखेपन और लालपन की समस्या सामने आती है। इस मिश्रण का 5% प्रयोग में लाएं और संवेदनशील त्वचा होने पर छोड़ दें।

संतरे का छिलका (Orange peel)

इसमें अम्लीय गुण और विटामिन सी (vitamin C) होता है। ये दोनों तत्व मिलकर एक्ने को ठीक करते हैं। आप छिलकों से भी रस निकाल सकते हैं, पर छिलकों का सीहे प्रयोग करना ज़्यादा प्रभावी रहता है।

  • संतरे के छिलकों को सूरज की रोशनी में सुखाएं।
  • इसे पीसकर पाउडर का रूप दें और इसमें पानी मिलाकर एक पेस्ट बनाएं।
  • अपनी त्वचा को हल्के गर्म पानी से धो लें।

एलोवेरा जेल (Aloe vera gel)

एलोवेरा में आपकी त्वचा को सुकून देने के गुण होते हैं और इसमें जलनरोधी तत्वों का भी मिश्रण होता है। इस विधि के प्रयोग से आपकी एक्ने की समस्या कुछ दिनों में ही ठीक हो जाएगी। ये एक्ने सूखने के बाद के दागों को भी हटाने में मदद करता है।

  • एलो वेरा की पत्ती बाज़ार से खरीदें।
  • इसके मोटे भाग को काटकर जेल निकालें।
  • इसे निचोड़ें और सीधे एक्ने पर लगाएं।
  • इसका प्रयोग दिन में दो बार करें और साफ़ त्वचा पाएं।

रोज़ाना त्वचा की देखभाल के नुस्खे

मेथी (Fenugreek)

मेथी में जलनरोधी तथा एंटीसेप्टिक गुण होने के साथ ही एंटीऑक्सीडेंट (antioxidants) भी पाया जाता है, जिसकी वजह से ये एक्ने से लड़ने में काफी प्रभावी सिद्ध होता है।

  • मेथी की ताज़ा पत्तियां लें।
  • थोड़ा सा पानी डालें।
  • इन्हें पीसकर इनका रस निकालें।
  • इस रस का प्रयोग प्रभावित भाग पर करें।
  • इसे 10 से 15 मिनट तक सूखने दें।
  • इसके बाद चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें।
  • इस उपचार को अच्छे परिणामों के लिए 4 दिनों तक दोहराएं।

वैकल्पिक तौर पर

  • एक चम्मच मेथी के बीज लें।
  • इन्हें पीसकर पाउडर का रूप दें।
  • इनमें थोड़ा गर्म पानी मिलाएं जिससे ये पाउडर बन जाए।
  • इस पेस्ट का प्रयोग प्रभावित भाग पर करें।
  • इसे 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • इसके बाद पानी से इसे धो लें।
  • इस प्रक्रिया का प्रयोग हफ्ते में 2 से 3 बार करें।

नीम (Indian lilac)

नीम में एंटी माइक्रोबियल (antimicrobial) तथा एंटीसेप्टिक गुण होते हैं,जिसकी मदद से एक्ने के बैक्टीरिया को ख़त्म करने में आसानी होती है। यह लालपन और जलन को भी दूर करता है।

ठण्ड में त्वचा की देखभाल के नुस्खे

  • मुट्ठीभर नीम की पत्तियों में पानी डालकर पेस्ट बनाएं।
  • इस निकाले हुए रस में थोड़ी सी हल्दी मिश्रित करें।
  • इसका प्रयोग एक्ने पर करें और 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • पानी से धो लें।
  • इसका प्रयोग हफ्ते में दो बार करें।

ये आसान प्राकृतिक उपाय सौंदर्य उत्पादों पर लाखों खर्च करने से कहीं बेहतर हैं। इनका धैर्य से पालन करें और फर्क देखें।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday