Hair re-bonding tips in Hindi – बालों का रेबोंडिंग करने से पहले और बाद के लिए सुझाव

महिलाएं मशीनों से या मानवी तरीके से अद्भुत बाल शैली प्राप्त करना चाहती हैं। लेकिन रसायन और सौंदर्य प्रसाधन से बाल गिरने या टूटने का हानिकारक प्रभाव महसूस किया जा सकता है। कुछ महिलाएं बालों को सुंदर करने के लिए रिबोंडिंग के तकनीकों का इस्तेमाल करती हैं। रिबोंडिंग उचित तरीके (rebonding balo ki care) से न हो तो यह एक बार फिर से बेजान बालों को जन्म दे सकता हैं। एक समय था जब लोगों को घने बालों की चाह थी पर आज महिलाओं को पतले बाल पाने की चाहत है। इसके लिए कुछ सुझाव इस्तमाल किये जा सकते हैं।

बालों की रिबॉन्डिंग एक रासायनिक प्रक्रिया है, जिसके अंतर्गत घुंघराले बालों को सीधा किया जाता है। यह उन महिलाओं द्वारा प्रयोग में लाया जाता है, जिनके बाल इतने घने होते हैं कि उन्हें सम्भालना मुश्किल होता है। इस प्रक्रिया के अंतर्गत बालों की अंदरूनी परत को रसायनों की सहायता से बदल दिया जाता है। बालों की सही प्रकार से रिबॉन्डिंग करवाने के लिए किसी अनुभवी व्यक्ति के ही पास जाएँ।

हेयर रिबॉन्डिंग की प्रक्रिया (Process for hair rebonding)

लोगों के बाल कई तरह के होते हैं जैसे वेवी (wavy), घुंघराले या सीधे। इनके ऐसे होने का कारण प्रोटीन मॉलिक्यूल्स (protein molecules) के बीच का बंधन होता है। रिबॉन्डिंग के अंतर्गत इस बंधन को बदलकर बालों को सीधा किया जाता है।

इसके लिए 2 रसायनों की सहायता ली जाती है।

  • एक क्रीम सॉफ़्नर या रिलैक्सेन्ट (cream softener or relaxant) की मदद से बालों की बॉन्डिंग (bonding) को पहले तोड़ा जाता है और इससे यह अन्य किसी भी आकार में ढलने के लिए तैयार हो जाते हैं।
  • इसके बाद बालों में एक न्यूट्रलाइजर (neutralizer) का प्रयोग किया जाता है, जिससे एक नया बांड बनता है जो बालों को सीधा करता है।

महिलाओं में हेलमेट के कारण बाल झड़ने की परेशानी से ऐसे पाएं निजात

रिबॉन्डिंग के कदम (Steps of rebonding)

  • सबसे पहले एक सौम्य शैम्पू (shampoo) की मदद से बालों को साफ़ किया जाता है।
  • इसके बाद क्रीम सॉफ़्नर या रिलैक्सेन्ट को बालों की जड़ों से कुछ ही दूरी पर लगाया जाता है। इसे आधे घंटे तक इसी प्रकार रखकर इसपर स्टीम आयरन (steam iron) का प्रयोग किया जाता है, जिससे कि बांड टूट जाए। अगले कदम के रूप में क्रीम को धो दिया जाता है।
  • बालों को कई भागों में विभाजित करके उन्हें सीधा किया जाता है।
  • अब इन सीधे बालों पर न्यूट्रलाइजर लगाकर बांड्स को दोबारा बनाया जाता है।
  • कुछ देर में न्यूट्रलाइजर को धोकर बालों को ब्लो ड्राई (blow dry) कर दिया जाता है।

इस पूरी प्रक्रिया में करीब 5 से 6 घंटे लगते हैं। अगर सही रूप से नियमों के अनुरूप इसे अंजाम दिया जाए तो यह प्रक्रिया काफी सुरक्षित होती है। परन्तु कई लोगों को इन रसायनों से परेशानी हो सकती है। इसके लिए आपको पहले बालों की कुछ लटों पर यह प्रयोग किया जाता है कि उनको कोई नुकसान तो नहीं हो रहा। इसके बाद ही सारे बालों की रिबॉन्डिंग करवाई जाती है।

रेबोंडिंग किये हुए बालों के लिए सुझाव (hair rebonding in Hindi)

  • रिबोंडिंग के बाद बालों को गीले न करें (Do not wet after rebonding)

रिबोंडिंग की प्रक्रिया समाप्त हो जाने के बाद आप सावधानी बरतें की आपके बाल गीले ना हो। तीन दिनों तक अपने बालों को गीला करना उचित नहीं है। इन तीन दिनों में रसायन आपके सिर की त्वचा में सोख लिए जायेंगे और आपको लम्बे समय तक उनका असर दिखेगा। किसी पार्टी या सामाजिक समारोहों में न जाएँ जहाँ आपके बाल गीले हो सकते हैं।

  • बालों को बांधकर न रखें (Do not tie)

बालों को बनाने वाले सर्वश्रेष्ठ फाइबर

एक और महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि बालों को बांधकर न रखा जाये। तीन दिनों की अवधि के लिए अपने बालों को बिल्कुल खुला छोड़ दीजिये। यहां तक कि अपने बालों को अपने कानो के पीछे भी न करें।

  • सोने का तरीका (Procedure of sleeping)

इन तीन दिनों में जब भी आप सोना चाहे तब भी आपको बहुत सावधान रहना होगा। आपके बालों को बिस्तर पर सीधे रखें या फर्श पर सीधे छोड़ दें। यह सुनिश्चित करना चाहिए की आपके बाल कहीं अटक न जाएँ।

  • रेबोंडिंग टिप्स – शैम्पू और कंडीशनर (Shampoo and conditioner)

इन तीन दिनों के बाद एक अच्छे ब्रांड का शैम्पू और कंडीशनर का प्रयोग बहुत महत्वपूर्ण है। एक ही कंपनी का शैम्पू और कंडीशनर का उपयोग करना महत्वपूर्ण है। ५ मिनट के लिए पुरे बालों को उनकी नोक तक कंडीशनर लगाये रखना आवश्यक है। उसके बाद आप अपने बालों को धो लें और कोई कंडीशनर के अवशेष बचे नहीं है यह देख लें।

  • सप्ताह में एक बार अपने बालों को कंडीशन करें (Condition your hair once in a week)

अपने बालों को हफ्ते में एक बार कंडीशन करना महत्वपूर्ण है। हेयर मास्क इस्तेमाल करके बालों की चमक बढ़ा सकते हैं। मास्क कुछ समय तक रखना आवश्यक है। अब आप आसानी से इसे धो लें और तौलिया से बाल सुखाये। हेयर कंडीशनर और हेयर मास्क बालों के लिए बहुत जरूरी है। यह एक बार फिर बालों में अपनी चमक वापस लायेगा।

सिर की तैलीय त्वचा के लिए सर्वश्रेष्ठ सीरम

  • रेबोंडिंग बालों की केयर – किसी बिजली के उपकरण का प्रयोग न करें (No electric instrument)

बिजली के उपकरण के साथ अपने बालों को गर्म करना बिल्कुल अच्छा नहीं है। हेयर ड्रायर का उपयोग करना भी उचित नहीं है। ठंड हवा के स्रोत का उपयोग आप अपने बालों को सुखाने के लिए कर सकते हैं। आप धुप में अपने बाल सुखा सकते हैं। कम समय के लिए और धीरे से ब्रश का उपयोग करने से आपके रिबोंडिंग किये हुए बाल (rebonding hair ki care) कई वर्षों तक सही रहते हैं। बालों में अधिक हलचल उनमे अनचाहा तनाव पैदा कर सकती है।

बालों की रिबॉन्डिंग के पहले और बाद के नुस्खे (Hair care tips before and after rebonding hair)

रिबॉन्डिंग के दौरान बालों में रसायनों के प्रयोग से इनकी प्राकृतिक व्यवस्था में बाधा उत्पन्न होती है। अतः बालों को नुकसान से बचाने के लिए रोज़ाना इनकी अतिरिक्त देखभाल की ज़रुरत होती है।

  • रसायनों को बालों में समाने में थोड़ा समय लगता है। अतः बालों को सीधा करने के बाद इनपर 3 दिनों तक पानी का प्रयोग ना करें।
  • बालों को कानों के पीछे रखने या बाँधने का प्रयास ना करें।
  • सोते समय बालों को सीधा रखें।
  • 3 दिनों तक बालों को ठन्डे पानी से शैम्पू और कंडीशन (condition) करें। गर्म पानी का प्रयोग ना करें, क्योंकि इससे सिर की त्वचा रूखी हो जाती है।
  • ब्लो ड्रायर जैसे ताप वाले उपकरणों का प्रयोग ना करें।
  • सबसे ज़्यादा इस बात का ध्यान रखें कि रिबॉन्डिंग के बाद बालों का स्टाइल (style) 6 महीनों तक बदलने का प्रयास ना करें।
  • रिबॉन्डिंग के पहले एक बार बालों को काटें। रिबॉन्डिंग के बाद दोमुंहे बालों की समस्या से दूर रहने के लिए निरन्तर बालों की ट्रिमिंग (trimming) करवाते रहें।
  • बालों की उलझनें सुलझाने के लिए एक ख़ास चौड़ी कंघी का प्रयोग करें।

हेयर कलर उड़ने से रोकने के उपाय

  • अगर बाल तैलीय या फ्रिज़ी (frizzy) ना बन जाएँ तो एक निश्चित अंतराल पर ही बालों में शैम्पू का प्रयोग करें।
  • रिबॉन्डिंग के बाद अपने बालों को छाते या टोपी से हमेशा ढककर रखें, जिससे वे सूरज की तेज़ किरणों, बारिश और ठंडी हवाओं से बचे रहें।
  • पर्यावरण के कारकों से बालों को बचाने के लिए इनपर एक सुरक्षा कवच के तौर पर सीरम (serum) का प्रयोग करें।
  • बालों के मास्क इन्हें नमी और पोषण युक्त बनाए रखने में काफी कारगर साबित होते हैं।
  • फल, सब्ज़ियों और प्रोटीन (proteins) से युक्त संतुलित आहार ग्रहण करें। बालों के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए तैलीय या तले हुए भोजन से परहेज करें। काजू बादाम आदि को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाकर बालों को स्वस्थ रखें।

बालों की रिबॉन्डिंग के फायदे और नुकसान (Advantages and disadvantages of rebonding hair)

रिबॉन्डिंग से बाल नरम, मुलायम और सीधे होते हैं। इससे बालों को एक खूबसूरत स्वरुप मिलता है और उन्हें सम्भालना भी आसान हो जाता है।

रिबॉन्डिंग का प्रभाव 6 महीने या इससे ज़्यादा समय तक भी बना रहता है। अगर घुंघरालापन बालों की जड़ों से शुरू हो तो टच अप (Touch up) भी करवाया जा सकता है।

रिबॉन्डिंग रसायनों की मदद से की जाती है, जिससे बाल नाज़ुक और कमज़ोर बन जाते हैं। इससे जड़ें कमज़ोर हो जाती हैं और बाल झड़ने लगते हैं। इन बालों को बाँधने पर मनाही होती है, अतः इन्हें हमेशा खोलकर रखना पड़ता है। एक बार रिबॉन्डिंग करवाने के बाद आप अन्य किसी शैली में बालों को स्टाइल नहीं कर सकती। बार बार रिबॉन्डिंग करवाने से बाल काफी कमज़ोर हो जाते हैं। बारिश का पानी बालों में गिरने से और भी नुकसान पहुंचा सकता है, क्योंकि इसमें नमक की मात्रा होती है। रिबॉन्डिंग के बाद बाल रूखे और कठोर हो जाते हैं। रोजाने कंडीशनिंग (conditioning) करने से बाल काफी स्वस्थ रहते हैं।

रिबॉन्डिंग करवाने के पहले और बाद के नुस्खे (Hair rebonding tips for before and after rebonding hair)

हेयर एक्सटेंशन्स के प्रकार तथा आप पर अच्छे लगने वाले एक्सटेंशन्स

एलर्जी टेस्ट (Allergy test)

बालों की रिबॉन्डिंग की तकनीक का प्रभाव आपकी त्वचा पर भी पड़ता है,क्योंकि सिर का भाग भी त्वचा ही होती है। इस प्रक्रिया के अंतर्गत प्रयोग किये गए रसायन सबके ऊपर एक तरह काम नहीं करते हैं और कई लोगों को इनसे परेशानी भी हो सकती है। अतः एलर्जी टेस्ट किया जाता है, जिससे कि ये पता चल सके कि यह तकनीक आपकी त्वचा के लिए सही है या नहीं।

हेयर रिबॉन्डिंग क्रीम का प्रयोग (Application of hair rebonding cream)

रिबॉन्डिंग क्रीम इस प्रक्रिया में काफी ज़रूरी है, क्योंकि यह एक मुख्य उत्पाद है जिसकी मदद से यह प्रक्रिया पूरी की जाती है। इस क्रीम का प्रयोग बालों की जड़ों पर ना करें। इससे बालों के फॉलिकल्स (follicles) पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

रिबॉन्डिंग के बाद की देखभाल (Care after rebonding)

एक बार जब आपके बालों की रिबॉन्डिंग हो जाती है तो अगला कदम इसकी देखभाल करने का होता है। सामान्य तौर पर हम अपने बालों की देखभाल अच्छे से नहीं कर पाते। इससे बालों की कई तरह की समस्याओं जैसे बालों के झड़ने, रूखे होने तथा बालों के टूटने का जन्म होता है। इसी के साथ, जब बालों की रिबॉन्डिंग होती है तो ऐसे बालों की अलग से देखभाल काफी ज़रूरी होती है।

बालों को ना बांधें (No tiding hair)

रिबॉन्डिंग के तुरंत बाद इस बात को सुनिश्चित करें कि बालों को ना बांधा जाए। एक बार रिबॉन्डिंग की तकनीक का प्रयोग करने के बाद आपको अपने बालों के प्रति काफी सावधान रहना पड़ेगा। यह वह समय होता है जब आपके बाल आकार लेते हैं, अतः इस समय उन्हें बाँधना सही नहीं होता।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday