What is milk diet? Does milk diet help you lose weight? – दुग्ध आहार क्या है? दूध आहार से वज़न कम करना कैसे संभव है ?

प्रसिद्ध सर्च इंजनों (search engines) पर “दुग्ध आहार” की खोज में अकस्मात् एवं काफी अधिक बढ़ोत्तरी हुई है। इससे पता चलता है कि या तो लोग इस आहार को अपनाने पर विचार कर रहे हैं या कम से कम इस आहार के बारे में और भी अधिक जानना चाहते हैं। पाठकों के लिए हम दुग्ध आहार के इस लेख की शुरुआत में ही एक बात कहना चाहेंगे कि बिना किसी खाद्य विशेषज्ञ की सलाह के कभी भी कठोर से रूप से दूध आहार ना अपनाएं। दूध आहार को एक स्वस्थ आकार प्रदान किया जा सकता है एवं इसके बाद ही यह अपनाने योग्य होता है, अन्यथा दुग्ध आहार के बारे में अधिक जानकारी ना होने के बावजूद इसे अपनाने से आपके स्वास्थ्य को क्षति पहुँचती है एवं आपकी प्रतिरोधक क्षमता काफी कमज़ोर हो जाती है।

Details about Milk Diet – दूध आहार का विवरण

जैसा कि नाम से ही पता चलता है, दुग्ध आहार एक तरह का आहार है जिसके अंतर्गत आपको अपने नियमित खानपान में काफी मात्रा में दूध को शामिल करना पड़ता है।  जहां इस आहार का शुद्ध स्वरुप कहता है कि आप अपने आहार में दूध के अलावा और कुछ ना लें, वहीँ इस आहार के अधिक प्रायोगिक स्वरूपों के अनुसार आपको अपने द्वारा नियमित रूप से ग्रहण किये गए खाद्य पदार्थों के पूरक के रूप में अधिक से अधिक दूध अपने खानपान में शामिल करना चाहिए। इस आहार के एक कम गंभीर स्वरुप के अनुसार आपको वज़न कम करने के फायदों को प्राप्त करने के लिए हर आहार से पहले कम से कम एक गिलास दूध अवश्य पीना चाहिए।

दूध, खासतौर पर कम वसा वाला मलाईरहित दूध, वसा कम करने में काफी लाभदायक होते हैं एवं अन्य स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करते हैं।  दूध आपका वज़न कम करने में कई तरीकों से मदद कर सकता है। आइये देखें कि किस तरह वज़न कम करने में दूध आपका पूर्ण रूप से साथ देता है।

Milk diet boosts fat burning – दूध आहार चर्बी जलाने में मददगार

दूध कैल्शियम (calcium) से भरपूर होता है जो ना सिर्फ हमारी हड्डियों एवं न्यूरल माध्यमों (neural channels) के लिए आवश्यक होता है बल्कि हमारी कोशिकाओं में मौजूद वसा को जलाने के लिए काफी अच्छा होता है। जब आप अपने नियमित आहार में काफी मात्रा में दूध को शामिल करते हैं तो प्राकृतिक रूप से आपके शरीर में कैल्शियम की अधिकता हो जाती है  जिससे आपके शरीर में जमा वसा जलता है एवं आपका वज़न तेज़ी से कम होता है।

Milk diet reduces your total calorie consumption – दुग्ध आहार आपकी कुल कैलोरी खपत को कम करता है

जहां दूध कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है, इसमें कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है।  दूध में भूख से लड़ने वाला एक हॉर्मोन (hormone) होता है जो सुनिश्चित करता है कि आपको भूख कम लगे।  अतः जब आप दूध को अपने आहार में अधिक मात्रा में शामिल करते हैं तो आपको कैलोरी का कम सेवन करते हुए भी पूर्ण रूप से पेट भरने का अनुभव होता है। कैलोरी की कम खपत प्राकृतिक रूप से शरीर में जमी वसा को जलाती है जिससे प्रभावी रूप से वज़न घटता है।

दूध आहार का मूल विचार वज़न घटाने के दो सिद्धांतों पर आधारित है। लेकिन उपरोक्त बातों के तुरंत वज़न के घटने में पूर्ण रूप से कारगर रहने पर भी एक ऐसे आहार का पालन करना, जिसके अंतर्गत केवल दूध या दिन में 4 गिलास दूध का ही सेवन किया जाना हो, अपने आप में काफी जोखिम भरा होता है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,328 other subscribers

Risks of a true milk diet – what you need to know – शुद्ध दुग्ध आहार के जोखिम – आपके जानने योग्य बातें

एक शुद्ध दुग्ध आहार आपके स्वास्थ्य के लिए काफी गंभीर समस्याएं खड़ी कर सकता है। यह कई तरह से आपके लिए जोखिम भरा होता है। अपने रोजाना के आहार मेंदूध के 4 गिलास भी शामिल करना कई लोगों के लिए काफी मुश्किलें खड़ी कर सकता है।  अतः, इससे पहले कि आप इस आहार का पालन करें, इससे जुड़े जोखिमों के बारे में जानना सही होगा।

Weakness and Anemia – कमजोरी एवं एनीमिया

जो लोग विशुद्ध रूप से दुग्ध आहार पर निर्भर रहना चाहते हैं, उनके लिए कमजोरी एवं एनीमिया रास्ते में आने वाले पहले जोखिम के रूप में सामने होते हैं। दूध पोषक तत्वों से अवश्य भरा होता है पर इसमें वे सारे पोषक तत्व नहीं होते जिनकी एक शरीर को ज़रुरत होती है। क्योंकि इसमें कैलोरी की मात्रा कम होती है, अतः केवल दूध का सेवन करने से आप शरीर के लिए आवश्यक कैलोरी की पूर्ति नहीं कर सकते, जिससे शरीर में जमी हुई वसा जलेगी ज़रूर, पर इससे आप निश्चित रूप से काफी कमज़ोर भी हो जाएंगे। दूध आयरन (iron) का भी अच्छा स्त्रोत नहीं होता, जो शरीर के लिए एक अनिवार्य पोषक तत्व है। अतः पूर्ण रूप से दूध पर निर्भर रहने से शरीर में आयरन की कमी एवं एनीमिया हो सकता है, जिसके फलस्वरूप दिल का दौरा भी पड़ सकता है।

Constipation and stomach problems – कब्ज़ एवं पेट की परेशानियां

यदि आपको कब्ज़ की समस्या सताती रहती है एवं आप दुग्ध आहार अपनाने के बारे में सोच रहे हैं तो आपके लिए यही अच्छा होगा कि इससे परहेज करें। दूध में किसी प्रकार का खाद्य फाइबर (fiber) नहीं होता जो गूदे के माध्यम से आँतों की उत्पत्ति एवं गतिविधियों में काफी प्रमुख भूमिका अदा करते हैं। केवल दूध का सेवन करने पर आँतों की उत्पत्ति में समस्या आती है, जिसके फलस्वरूप कब्ज़ एवं हाजमे की अन्य परेशानियां होती हैं जिससे आपके स्वास्थ्य, प्रतिरोधी क्षमता एवं सौन्दर्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

यदि आप केवल दूध का आहार ग्रहण करने के बारे में सोच नहीं भी रहे हैं, पर आप अन्य स्वास्थ्यकर वसामुक्त खाद्य पदार्थों के साथ अपने रोजाना के भोजन में 3 से 4 गिलास दूध शामिल करना चाहते हैं, फिर भी आपके लिए यह जानना आवश्यक है कि आपके पेट के लिए इस तरह के नए आहार के सामंजस्य बैठाना एक नया कार्य होगा। भले ही आपको दूध काफी पसंद हो, पर इस बात की संभावना, कि आपके पेट पर आपके अचानक ही दिन में 4 गिलास दूध पीना शुरू करने का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा, ना के बराबर है।  इसके फलस्वरूप कम कठोर दूध के आहार का पालन करने पर भी आप दस्त, बदहजमी, गैस (gas) बनने एवं अन्य समस्याओं का सामना कर सकते हैं।

अतः अब आपको पता है कि दूध आहार क्या होता है एवं किस तरह यह आपके लिए फायदेमंद या हानिकारक है। लेकिन यदि आप गंभीर रूप से दुग्ध आहार लेने का विचार कर रहे हैं तो आपके लिए श्रेयस्कर यह होगा कि इसके हल्के स्वरुप का पालन करें एवं शुरुआत में अपने नियमित आहार में 3 गिलस से अधिक दूध शामिल ना करें। एक बार जब आपको लगे कि आपके पेट को नए आहार की आदत पड़ चुकी है तो अपने नियमित आहार में एक गिलास दूध और जोड़ लें।

यहाँ आपके लिए हमने एक नवीनीकृत दुग्ध आहार का स्वरुप शामिल किया जो ना सिर्फ पालन करने में आसान है, बल्कि वज़न कम करने की एक आसान प्रक्रिया भी है। एक महीने में वज़न घटाने हेतु यह दुग्ध आहार आपका अतिरिक्त वज़न कम करने में सहायक होता है, पर सही आहार के साथ नियमित व्यायाम करने के अलावा ऐसा कोई उपाय नहीं है जिसके अंतर्गत बिना आपके स्वास्थ्य एवं त्वचा को क्षति पहुंचाए बिना वज़न घटाया जा सके। यदि आपको मधुमेह या रक्तचाप की समस्या है तो अपने डॉक्टर से सलाह करके ही अपने आहार में किसी परिवर्तन का विचार करें। अतः परिणाम प्राप्त करने के लिए इस दुग्ध आहार का पालन करें एवं दिन में कम से कम 2 घंटे व्यायाम करें।

A sustainable 4 week milk diet for weight loss – वज़न घटने के लिए 4 सप्ताह का संवहनीय दुग्ध आहार

इस दूध आहार योजना के अंतर्गत आपको 4 सप्ताह तक हर सप्ताह एक अलग आहार तालिका का पालन करना होगा।  इससे ना सिर्फ यह सुनिश्चित होगा कि आपके शरीर को एक विशेष आहार के साथ सामंजस्य स्थापित करने का मौक़ा ना मिले, बल्कि आप रोजाना एक ही आहार ग्रहण करने के फलस्वरूप नहीं उकताएंगे और ना ही इस आहार को बीच में ही छोड़ना चाहेंगे। इस आहार योजना की शुरुआत करने के लिए अपने भोजन को छोटे खण्डों में बाँट लें एवं सुनिश्चित करें कि अधिक भोजन ना करें। हालांकि भूख लगे रहने तक भोजन करना ठीक है।

Your milk diet plan for first week should look like – आपके पहले सप्ताह की आहार योजना कुछ इस प्रकार दिखेगी:

Early morning drink – सुबह का पेय पदार्थ

सुबह चाय या कॉफ़ी (coffee) की बजाय अपने दिन की शुरुआत एक कप गर्म पानी से करें, जिसमें एक चम्मच शहद एवं आधे नींबू का रस मिश्रित हो।

Breakfast – नाश्ता

सुबह के पेय पदार्थ का सेवन करने के 1 से 1।30 घंटे के बाद नाश्ता करें।  1 गिलास वसामुक्त डबल टोंड (double toned) दूध से शुरुआत करें।  नाश्ते का अंत 1 उबले अंडे एवं 1 बिना मक्खन के मल्टीग्रेन ब्रेड (multi grain bread) के साथ करें।

Lunch – दोपहर का भोजन

दोपहर का भोजन 12 – 12।30 बजे के पहले ही कर लें एवं आपके नाश्ते एवं दोपहर के भोजन के बीच कम से कम 3 से 4 घंटे का अंतर होना चाहिए।  आपके दोपहर के भोजन में 1 गिलास वेजिटेबल स्मूदी (vegetable smoothie) तथा काफी कम जैतून के तेल की मदद से बना चिकन या टूना सलाद (chicken or tuna salad) शामिल होगा।

Evening refreshment- शाम का नाश्ता

शाम को करीब 3-3।30 बजे एक गिलास वसामुक्त दूध का सेवन करें।

Dinner – रात का भोजन

रात का भोजन शाम के 7।30 बजे तक कर लें। किसी भी वज़न घटाने के कार्यक्रम के लिए जल्दी एवं हल्का भोजन करना काफी महत्वपूर्ण होता है। आपके रात के भोजन में कम तेल में निर्मित या ग्रिल्ड (grilled) सब्जियां या मछली का कोई साधारण तेलरहित स्वरुप शामिल होना चाहिए।

Before bedtime – सोने से पहले

सोने से आधा घंटा पहले डबल टोंड दूध के एक और गिलास का सेवन करके अपने दिन के आहार को समाप्त करें।

Milk diet plan for 2nd week – दूसरे सप्ताह के लिए दुग्ध आहार योजना :

Early morning drink – सुबह का पेय पदार्थ

चीनी एवं आधा चम्मच दालचीनी पाउडर के साथ ग्रीन टी (Green tea) । ग्रीन टी में चर्बी जलाने के गुण होते हैं एवं दालचीनी में मौजूद कार्यशील उत्पाद भी चर्बी जलाने में आपकी सहायता करते हैं।

Breakfast – नाश्ता

आपके नाश्ते में एक गिलास डबल टोंड दूध, एक केला एवं 1 उबला अंडा या कम तेल में बनी अंडे की भुर्जी शामिल होनी चाहिए।

Pre-lunch drink – दोपहर के भोजन के पूर्व का पेय पदार्थ 

यदि आपने सुबह 7:30 बजे नाश्ता किया है एवं आप 12:30 बजे दोपहर का भोजन करने का विचार कर रहे हैं तो सुबह 11:30 बजे के करीब एक गिलास ताज़े फलों के रस का सेवन करें जिसमें अतिरिक्त चीनी या नमक का मिश्रण ना हो। इससे यह सुनिश्चित होगा कि आप दोपहर के भोजन के समय तक भूखे पेट ना रहें ।

Lunch – दोपहर का भोजन

भुनी हुई मछली एवं 2 रोटियां आपकी आहार योजना के दूसरे सप्ताह के लिए दोपहर का उपयुक्त भोजन है।


Post lunch – दोपहर के भोजन के बाद

शाम 4 बजे के करीब एक गिलास दूध का सेवन करें।

Dinner – रात का भोजन

बिना मक्खन या सब्जियों के 1 कटोरी चिकन सूप आपके लिए रात का भोजन होगा। यदि आप चाहें तो अधिक सब्जियों का सेवन कर सकते हैं।

Pre-bedtime drink –सोने से पूर्व का पेय पदार्थ

अपने दिन का अंत एक गिलास डबल टोंड दूध के साथ करें।

Milk Diet plan for 3rd Week – तीसरे सप्ताह के लिए दूध आहार योजना:

Early morning drink – सुबह का पेय पदार्थ

अपने दिन की शुरुआत चीनीरहित एलो वेरा (Aloe Vera) के शुद्ध रस के एक गिलास के साथ करें।  एलो वेरा हाजमे में सुधार लाता है एवं वज़न कम करने में भी फायदेमंद साबित होता है क्योंकि यह आपके शरीर में किसी अतिरिक्त कैलोरी का संचार किये बिना ही आपका पेट भरने में सहायता करता है।

Breakfast – नाश्ता

तीसरे हफ्ते नाश्ते के रूप में 1 गिलास टोंड दूध, आधा कटोरी दलिया एवं एक चम्मच शहद का सेवन करें।

Pre-lunch – दोपहर के भोजन से पूर्व

दोपहर के भोजन से 1 घंटे पहले एक गिलास वसारहित दूध का सेवन करें।

Lunch – दोपहर का भोजन

आपके दोपहर के भोजन में वसारहित प्रोटीन (protein) जैसे ग्रिल्ड मछली एवं फलों का सलाद शामिल हो सकता है।

Evening refreshment – शाम का नाश्ता

एक गिलास वसारहित दूध में भिगोये गए 3 से 4 बादाम इस समय शाम के नाश्ते का सबसे बेहतरीन विकल्प रहेंगे।

Dinner – रात का भोजन

अपने आहार के तीसरे सप्ताह से शाम को 7 बजे से पहले ही रात का भोजन कर लें।  आपके खाने में उबली सब्जियां, मशरुम या टोफू (mushrooms or tofu) शामिल किये जा सकते हैं।

Before bed – सोने से पहले

सोने से 1 घंटा पहले 1 कप (1 गिलास नहीं) वसारहित दूध का सेवन करें।

Milk diet plan for 4th week – चौथे सप्ताह की दुग्ध आहार योजना

Early morning drink – सुबह का पेय पदार्थ

शहद एवं आधे नींबू का रस मिश्रित ग्रीन टी।

Breakfast – नाश्ता

इस चरण के दौरान आपके नाश्ते के अंतर्गत 1 गिलास दूध एवं 1 फल शामिल होना चाहिए।  आहार में विविधता लाने के लिए फल को रोजाना बदलें।

Pre-lunch – दोपहर के भोजन से पूर्व

12:00 या 12:30 बजे दोपहर का भोजन करने से पहले खीरे, गाजर, चुकंदर एवं अन्य पत्तों से बने 1 प्लेट (plate) सलाद का सेवन करें।

Lunch – दोपहर का भोजन

आदर्श रूप से आपके दोपहर के भोजन में आधे कप दूध के साथ कुछ ग्रिल्ड मछलियाँ या एक उबला अंडा शामिल होना चाहिए।

Post lunch – दोपहर के भोजन के बाद

अपने शाम के नाश्ते में दूध की बजाय एक गिलास ताज़े फलों के रस का सेवन करें। इसके लिए तरबूज या साइट्रस (citrus ) फलों का रस श्रेष्ठ होता है।

Dinner – रात का भोजन

रात के भोजन में एक कप सब्जियों का सूप एवं ग्रिल्ड चिकन के 2 टुकड़े लें एवं भोजन शाम 7 बजे से पहले ही कर लें।

Bedtime drink – सोने से पूर्व पेय पदार्थ

सोने जाने से एक घंटे पहले 1 गिलास डबल टोंड दूध का सेवन करें।

यदि एक महीने तक लगातार एवं उपयुक्त व्यायाम के साथ उपरोक्त दूध आहार को बरकरार रख पाते हैं तो चार सप्ताह की समाप्ति पर आपका वज़न निश्चित रूप से 1 से 3 किलो कम हो जाएगा।

loading...