Vomiting in babies – बच्चों में उल्टी की समस्या

Why is my baby vomiting? – मेरे बच्चे को उल्टियां क्यों हो रही हैं?

इसके लिए मुख्य रूप से वायरल (viral) बीमारियां ज़िम्मेदार हैं, हालांकि ऐसे अन्य कारण हो सकते हैं जिनकी वजह से आपके बच्चे को उल्टियां हो रही हैं।  हालांकि यह आपके लिए काफी परेशानी भरा एवं आपके बच्चे के लिए डरावना हो सकता है – एवं उसे रूला भी सकता है – पर उल्टियां आमतौर पर इतनी गंभीर समस्या नहीं होती।  (इस लेख के अंत में इस बात की जानकारी है कि इस स्थिति में डॉक्टर को कब दिखाएं या आपातकालीन देखभाल की सहायता कब लें)

यदि आपका बच्चा उल्टियां कर रहा है तो आप अवश्य यह जानना चाहेंगी कि इसका कारण क्या है, जिससे कि आप यह सुनिश्चित कर सकें कि वह ठीक है एवं उसे आराम प्रदान कर सकें।  उल्टियों के मुख्य कारण निम्नलिखित हैं :

Feeding problems – खानपान की समस्या

आपके बच्चे के पहले कुछ महीनों के दौरान, उल्टी खानपान की समस्याओं, जैसे अतिरिक्त खानपान, से जुड़ी होती है।  एक और कारण जो इतना सामान्य नहीं है, आपके स्तन के दूध या फार्मूला (formula) में मौजूद प्रोटीन (protein) से एलर्जी (allergy) होता है।

Viral or bacterial infection – वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण

संकुलन या श्वसन संक्रमण, जैसे ठण्ड, खासकर काफी तेज़ खांसी के दौरे के समय, उल्टी का कारण हो सकता है। ठण्ड के दौरान निर्मित म्यूकस (mucus) गले से नीचे प्रवेश करता है एवं पेट की समस्या पैदा कर सकता है।  कुछ बच्चे अपने शरीर से म्यूकस निकालने के लिए उल्टियां करते हैं।

पेट का फ्लू (flu) या आँतों से जुड़ी कोई अन्य बीमारी भी उल्टियों का एक सामान्य कारण हो सकती है।  यदि किसी वायरस या बैक्टीरिया ने आपके बच्चे के पेट या आँतों की रेखा को संक्रमित कर दिया है तो अन्य लक्षणों में दस्त, भूख ना लगना, पेट में दर्द एवं बुखार शामिल होता है।  उल्टियां आमतौर पर 12 से 24 घंटों में बंद हो जाती हैं।

मूत्राशय का संक्रमण, गले की समस्या, निमोनिया (pneumonia), मैनिंजाइटिस (meningitis) एवं कान के संक्रमण से भी

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

मतली एवं उल्टी हो सकती है।

Excessive crying – काफी ज़्यादा रोना

काफी लम्बे समय तक रोने से दम घुटने की स्थिति उत्पन्न हो जाती है एवं इससे आपके बच्चे को उल्टियों की समस्या होती है। हालाँकि यह आप दोनों  भरा होता है, रोते हुए उल्टियां करने से आपके बच्चे को शारीरिक रूप से कोई नुकसान नहीं पहुंचता है।  यदि वह अन्य सभी प्रकार से स्वस्थ प्रतीत हो रहा है तो चिंता करने की कोई बात नहीं है।

Motion sickness – मोशन सिकनेस

कुछ बच्चों को मोशन सिकनेस की समस्या परेशान करती है, जो उस स्थिति में समस्या का कारण है यदि आपकी रोज़ाना की दिनचर्या में कार से यात्रा करना शामिल है।  विशेषज्ञों का मानना है कि मोशन सिकनेस की समस्या तब उत्पन्न होती है जब आपके बच्चे द्वारा देखी गयी चीज़ों एवं उसके शरीर के गति संवेदनशील भागों, जैसे कान के अंदरूनी भाग एवं कुछ नसें,  द्वारा महसूस किये जाने वाली चीज़ों के बीच सामंजस्य ना बैठे।

Poisonous substance- विषैली वस्तुएं

यदि आपके बच्चे ने कोई विषैली वस्तु निगल ली हो, जैसे कोई दवा, पौधा या रसायन, तो उसे उल्टियों की समस्या हो सकती है। उसे विषाक्त भोजन या पानी के सेवन से फ़ूड पोइज़निंग (food poisoning) की समस्या भी हो सकती है। (नीचे देखें , “यदि मुझे ऐसा महसूस हो कि मेरे बच्चे ने कोई विषाक्त वस्तु निगल ली है तो मुझे क्या करना चाहिए ?”)

Intestinal obstructions – आँतों का अवरोधन

अचानक एवं निरंतर उल्टियां करना कुछ विशेष स्थितियों जैसे आँतों का अवरोधन, जैसे इन्टस्ससेप्शन (intussusception) (जब आँतों का एक भाग दूसरे भाग में प्रवेश कर जाता है), मालरोटेशन (malrotation) (आँतों का मुड़ जाना) या हिर्शप्रंग (Hirschprung) रोग  (आँतों में मांसपेशियों की हलचल प्रभावित होने के फलस्वरूप बना अवरोध) के लक्षण होते हैं।

क्योंकि अवरोधों के फलस्वरूप कुपोषण, पानी की कमी एवं अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, अतः इन्हें तुरंत चिकित्सकीय ध्यान एवं शल्य क्रिया की आवश्यकता होती है।

Pyloric stenosis – पाइलोरिक स्टेनोसिस

यह विशेष समस्या आमतौर पर जन्म होने के पहले कुछ सप्ताह में ही विकसित होती है।  पाइलोरिक स्टेनोसिस से ग्रस्त बच्चे इसलिए उल्टियां करते हैं क्योंकि उनके पेट से आँतों तक जाने वाली मांसपेशी इतनी मोटी हो जाती है कि इससे भोजन की आवाजाही संभव नहीं होती।  इससे आमतौर पर उग्र प्रक्षेपी उल्टी की स्थिति उत्पन्न होती है।

क्योंकि यह समस्या कुपोषण, पानी की  कमी एवं अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण हो सकती है, अतः इसे तुरंत चिकित्सकीय उपचार की आवश्यकता होती है। यदि आपको प्रतीत होता है कि आपके बच्चे को यह समस्या है तो उसके डॉक्टर से तुरंत संपर्क करने का प्रयास करें।  पाइरोलिक स्टेनोसिस को शल्य क्रिया द्वारा ठीक किया जा सकता है।

How can I tell if my baby is spitting up or vomiting? – मुझे कैसा पता चलेगा कि मेरे बच्चे के मुंह से लार बह रही है या वह उल्टी कर रहा है ?

उल्टी एवं मुंह से लार टपकने (गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स (gastroesophageal reflux) के बीच अंतर बता पाना काफी कठिन है क्योंकि दोनों एक समान होते हैं एवं दोनों स्थितियां आमतौर पर भोजन करने के बाद ही उत्पन्न होती हैं, पर इसका पता लगाने के कुछ नुस्खे मौजूद हैं।

जब आपका बच्चा थूकता है तो यह बिना किसी मेहनत के बाहर आता है तथा इसमें ऐसा कोई बल नहीं लगता जिससे उसके पेट पर कोई असर पड़े।  ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपके बच्चे की भोजन नली एवं पेट के बीच की मांसपेशी विकास की स्थिति में होती है एवं ठीक से काम नहीं कर रही होती, जिससे पेट के अंदर की सामाग्री कई बार गले तक आ जाती है। आपका बच्चा भोजन करते समय हवा निगल सकता है एवं जब वह हवा ऊपर डकार के रूप में आती है तो इसके साथ थोड़ा सा तरल पदार्थ भी आ जाता है। यह बच्चों में सामान्य है एवं इसमें चिंता की कोई बात नहीं है।

पर जब आपका बच्चा उल्टियां करता है तो पेट के अंदर की सामग्री बलपूर्वक बाहर आ जाती है जिससे उसे काफी परेशानी होती है। एक बच्चे द्वारा की गयी उल्टी की मात्रा उसके मुंह से निकलने वाली लार की तुलना में कहीं ज़्यादा होती है। उसमें अन्य लक्षण, जैसे बुखार या चिड़चिड़ापन भी दिख सकते हैं।

What should I do if my baby is vomiting? – मेरे बच्चे के उल्टियां करते समय मुझे क्या करना चाहिए?

अधिकतर मामलों में आपके बच्चे की उल्टियां बिना किसी इलाज के ही ठीक हो जाती हैं, पर नीचे कुछ उपाय बताये गए हैं जिनका प्रयोग आप उसे सुरक्षित एवं आरामदायक बनाए रखने के लिए कर सकते हैं :

  • जब वह उल्टियां कर रहा हो तो उसे सीधी मुद्रा में या पेट या कमर के बल रखें जिससे वह उल्टी को ऊपरी श्वसन नली तथा फेफड़ों में ना खींच पाए।
  • सोते समय, हमेशा अपने बच्चे को एक समतल एवं ठोस सतह पर, जिसके आसपास कोई नर्म बिस्तर ना हो, उसकी पीठ के बल रखें। चिंता ना करें – उसका पीठ के बल सोते हुए अपनी उल्टी से दम नहीं घुटेगा। यदि वह उल्टी करता है या उसके मुंह से लार निकलती है तो उसका शरीर खुद ब खुद शरीर के तरल पदार्थों को बाहर निकालकर श्वसन नली को सुरक्षित रखता है।  सुरक्षा कारणों से, अपने बच्चे के पालने के सिर के भाग को ऊंचा ना उठाएं जब तक डॉक्टर ने ऐसा विशेष तौर पर ना कहा हो।
  • यदि आपके बच्चे ने ठोस आहार लेना शुरू कर दिया है तो उसके उल्टी करना शुरू करने के पहले 24 घंटों में उसे ठोस आहार ना खिलाएं।
  • सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे को पानी की कमी से बचाने के लिए पर्याप्त तरल पदार्थ प्राप्त हों।

How can I keep my baby from getting dehydrated after vomiting? – उल्टी के बाद मैं अपने बच्चे के शरीर में पानी की कमी होने से कैसे रोक सकता हूँ ?

अपने बच्चे के शरीर में पानी की कमी ना होने देने का दृष्टिकोण इस बात पर निर्भर करता है कि वह उल्टी किस मात्रा में एवं कितनी बार कर रहा है।  शरीर में पानी की कमी बच्चों के लिए एक गंभीर समस्या हो सकती है क्योंकि उल्टी के माध्यम से आपके बच्चे के शरीर से मूलयवान तरल पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। (बुखार एवं दस्त के माध्यम से भी शरीर में पानी की कमी हो सकती है)

अपने बच्चे के शरीर में पानी की कमी ना होने देने का सुझाव प्राप्त करने हेतु अपने बच्चे के डॉक्टर से संपर्क करें। अगर वह काफी मात्रा में उल्टियां कर रहा है तो डॉक्टर उसके शरीर से निकले द्रव्यों, नमक एवं खनिज पदार्थों की भरपाई करने के लिए एक ओवर द काउंटर ओरल इलेक्ट्रोलाइट सलूशन (over-the-counter oral electrolyte solution) प्रस्तावित करता है।  डॉक्टर एक विशेष सुझाव दे सकता है एवं आपके बच्चे के अपने वज़न एवं उम्र के अनुरूप पेय पदार्थ का सेवन करने से जुड़ी जानकारी भी प्रदान करता है।

यदि आपका बच्चा काफी निरंतर रूप से (हर 5 से 10 मिनट में) उल्टियां कर रहा है तो उसे बलपूर्वक इलेक्ट्रोलाइट का घोल ना पिलाएं। एक बार जब आधे घंटे के बाद उसके पेट को थोड़ी राहत मिले तो उससे छोटे छोटे घूँट भरवाएं। शुरूआती 2 घंटों में प्रति 10 मिनट 1 चम्मच (5 सीसी) पिलाएं। यदि वह इसे अच्छे से सह लेता है तो इस मात्रा को प्रति पांच मिनट में 2 चम्मच (10 सीसी) तक बढ़ाएं। यह मात्रा तब तक धीरे धीरे बढ़ाते रहें जब तक उल्टियां होनी बंद नहीं हो जाती।  यदि आपका बच्चा इलेक्ट्रोलाइट के घोल को भी उल्टी के माध्यम से बाहर निकाल देता है तो उसके डॉक्टर से संपर्क करें।

पानी, चिकन का सूप या कार्बोनेटेड (carbonated) पेय पदार्थ जैसे साफ तरल पदार्थ ना दें – ये आपके निर्जलित बच्चे को किसी भी प्रकार के पोषक तत्व प्रदान नहीं करते।

कई बार फलों के रस नुकसान पहुंचाते हैं (खासकर तब जब आपके बच्चे को दस्त भी हो), परन्तु वह फलों का रस पीने योग्य है एवं यह उसके शरीर में पानी की कमी पूरी करने का श्रेष्ठ विकल्प है तो आप इसका प्रयोग कर सकती हैं।  उसे दिन की उसकी सामान्य खुराक से अधिक रस ना दें, पर आप इसमें पानी मिश्रित करके उसे पिला सकते हैं। (उदाहरणस्वरूप, यदि वह दिन में 3 से 4 औंस फलों के रस का सेवन कर रहा है तो इसमें पानी मिश्रित करके 6 से 8 औंस कर दें)

एक बार आपके बच्चे के पेट के ठीक हो जाने पर आप फार्मूला का सेवन या स्तनपान दोबारा शुरू कर सकती हैं। (कुछ माएं अपने बच्चे को इलेक्ट्रोलाइट का घोल पिलाते हुए स्तनपान करवाती हैं, जबकि अन्य माएं प्रतीक्षा करती हैं। अपने बच्चे की प्रतिक्रया भांपकर ही कोई कदम उठाएं।)

Should I give my baby medication to treat vomiting? – क्या मुझे अपने बच्चे की उल्टियों का उपचार करने के लिए उसे दवाइयां देनी चाहिए?

अपने बच्चे को पर्चे पर लिखी या ओवर द काउंटर (over-the-counter) मतलीरोधी दवाइयां तब तक ना दें जब तक यह उसके डॉक्टर ने प्रस्तावित ना की हो।

कभी भी एस्पिरिन (aspirin) युक्त दवाइयां अपने बच्चे (या किशोर) को ना दें। एस्पिरिन से बच्चे रेयेस सिंड्रोम (Reye’s syndrome) से प्रभावित हो सकते हैं, जो कि एक असामान्य परन्तु जानलेवा बीमारी है।

Can I do anything to prevent my baby from vomiting or spitting up? – क्या मैं अपने बच्चे की उल्टी या लार टपकने पर नियंत्रण प्राप्त कर सकता हूँ ?

आप शायद हमेशा अपने बच्चे को उन बीमारियों से बचा नहीं पाएंगे जिससे उल्टी की समस्या होती है, पर कुछ सामान्य स्थितियों के लिए मददगार उपाय नीचे दिए गए हैं ।

यदि आपका बच्चा खाना खिलाने के बाद इन्हें मुंह से निकाल देता है, तो उसे छोटा निवाला दें एवं उसे बार बार डकार दिलवाएं ।  उसे अपने घुटनों पर ना झुलाएं, किसी उछलने वाली कुर्सी पर ना बैठाएं, या उसे भोजन करवाने के बाद ज़्यादा कार्यशील ना होने दें – भोजन को उसके पेट में स्थिर होने के लिए समय की आवश्यकता होती है । एक बार उसके भोजन समाप्त कर लेने के बाद उसे करीब आधे घंटे तक सीधी मुद्रा में रखना भी काफी फायदेमंद साबित होता है।

मोशन सिकनेस को कम करने के लिए, अपनी यात्राओं के दौरान बार बार रूकें जिससे आपके बच्चे को ताज़ी हवा प्राप्त करने का मौक़ा मिले और उसके पेट को भी आराम मिले। यदि वह ठोस आहार का सेवन कर रहा है तो उसे यात्रा शुरू करने से पहले थोड़ा सा भोजन करवाएं – पेट में कुछ होने से सहायता प्राप्त होती है।  उसके शरीर में पानी की कमी होने से बचाने के लिए उसे काफी मात्रा में द्रव्य दें; अन्यथा उसके सिर में दर्द होने या चक्कर आने या कमजोरी की समस्या होती है, जिससे उसे सिर्फ परेशानी ही होगी।
यदि किसी श्वसन संक्रमण की वजह से आपके बच्चे के शरीर में काफी मात्रा में कफ एवं बलगम जम गया है, तो उसकी नाक को साफ़ करने के लिए एल बल्ब सिरिंज (bulb syringe) का प्रयोग करने का प्रयास करें । उसे शायद यह अच्छा नहीं लगेगा, पर यह पीड़ादायक नहीं होता एवं इससे उसे काफी आराम मिलेगा।

After vomiting, when can my baby eat solids again? – उल्टी करने के बाद क्या मेरा शिशु ठोस आहार ग्रहण कर सकता है? डॉक्टर आमतौर पर बच्चों को किसी ऐसी बीमारी, जिसके फलस्वरूप उल्टियाँ होती हैं, के 24 घंटों के बाद तक ठोस आहार लेने से मना करते हैं। इसके बाद, यदि आपके बच्चे की उल्टियां कम या बंद हो जाती हैं एवं उसे भूख लगने लगती है तो आप धीरे धीरे इसे अन्य तरल पदार्थ या स्वास्थ्यकर भोजन करवा सकते हैं। (यदि वह ठोस आहार पर है)

अमेरिकन अकादमी ऑफ़ पीडियाट्रिक्स (The American Academy of Pediatrics (AAP) प्रस्तावित करता है कि पेट की अमस्याओं से उबार रहे बच्चे का सामान्य आहार जितनी जल्दी हो सके शुरू किया जाना चाहिए। आपके बच्चे द्वारा ग्रहण किये जाने वाले सामान्य आहार उसे दें, जिनमें काम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट्स (complex carbohydrates), जिनमें अनाज एवं चावल शामिल हो, लीन मीट (lean meats), योगर्ट (yogurt), फल एवं सब्जियां शामिल हों । परन्तु वसायुक्त भोजन से दूर रहें क्योंकि ये पचाने में  मुश्किल होते हैं ।

यह उस BRAT (केले, चावल, एप्पलसॉस एवं टोस्ट (applesauce, and toast) आहार से अलग होता है जो डॉक्टर द्वारा प्रस्तावित  किया जाता है। शोधों से साबित हुआ है कि एक मानक आहार को दोबारा शुरू करने से उबरने वाले समय को आधे दिन से कम करने में सहायता मिलती है क्योंकि यह उन आवश्यक पोषक तत्वों का संचार करता है जिनकी शरीर को संक्रमणों से लड़ने के लिए आवश्यकता होती है।

When should I call my baby’s doctor? – मुझे अपने बच्चे के डॉक्टर को कब बुलाना चाहिए? अपने बच्चे के डॉक्टर को बुलाएं यदि:

  • आपका बच्चा24 घंटों से अधिक समय से उल्टियां कर रहा है। कुछ बीमारियों की स्थिति में यह पूर्णतः सामान्य है, पर फिर भी खुद को तसल्ली देने के लिए डॉक्टर से संपर्क कर लें।
  • आपके बच्चे की आयु3 महीने से कम है एवं उसका रेक्टल (rectal) तापमान 100।4 डिग्री फ़ारेनहाइट (degrees Fahrenheit) या इससे अधिक है । उसका डॉक्टर उसकी तुरंत जांच करना चाहेगा।
  • यदिउसके शरीर में पानी की कमी होने के संकेत दिख रहे हैं।इसमें मूत्र में कमी (डायपर (diaper) गीला किये बिना छः से आठ घंटों से भी अधिक समय होना), सूखे होंठ एवं चेहरा, यदि उसकी आयु दो हफ़्तों से ज़्यादा है तो बिना आंसुओं के रोना (बच्चे को आंसू निकालने में दो से तीन हफ्ते लगते हैं), थकान एवं गहरे पीले रंग का मूत्र शामिल है।
  • वहअसामान्य रूप से चिडचिडा है।
  • उल्टीमें रक्त की मात्रा हो।खून में थोड़ा सा रक्त आमतौर पर चिंता का कारण नहीं है क्योंकि उल्टी का बल भोजन नली के पास की रक्त की धम यों में छोटी खरोंचें उत्पन्न करता है ।आपके बच्चे की उल्टी में भी रक्त की मात्रा हो सकती है यदि उसने पिछले छः घंटों में नाक से निकलने वाले या मुंह के न्दर आई खंरोच से निकलने वाले रक्त को निगल लिया हो।परन्तु यदि आपके बच्चे की उल्टी में रक्त की मात्रा कायम रहती है या इसकी मात्रा में बढ़ोत्तरी होती है तो डॉक्टर को बुलाएं।यदि रक्त पिसी डार्क कॉफ़ी (dark coffee) के रंग का है तो सीधे आपातकालीन कक्ष में चले जाएं।
  • यदिभोजन करने के आधे घंटे के अन्दर वह काफी बलपूर्वक एवम काफी मात्रा में उल्टियाँ करे।यह पाइलोरिक स्टेनोसिस का संकेत हो सकता है। जितनी जल्दी हो सके अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
    यदि आपके बच्चे की त्वचा या आँखों का सफ़ेद भाग पीला लगे, जो जौंडिस (jaundice) की निशानी होती है।

What are signs that my baby needs emergency care? – वह कौन से संकेत हैं कि आपके बच्चे को आपातकालीन देखभाल की आवश्यकता है ?

911 को तुरंत कॉल करें यदि :

  • आपके बच्चे को साँस लेने में समस्या हो रही है।
  • उसके शरीर में पानी की कमी होने के गंभीर लक्षण दिखते हैं, जैसे धंसी हुई आँखें, ठन्डे धब्बेदार हाथ एवं पैर, या धंसे फोंटानेल्स (fontanels), जो उसके सिर का नर्म हिस्सा होते हैं।

Take your baby to the emergency room if –  अपने बच्चे को आपातकालीन कक्ष में ले जाएं यदि :

  • वह गंभीर पीड़ा में हो। ज़ाहिर तौर पर आपका बच्चा इस बात को व्यक्त नहीं कर सकता कि उसके साथ क्या हो रहा है, पर आप उसे सबसे अच्छे से जानते हैं एवं उसके पीड़ा में होने की स्थिति को समझ सकते हैं। हो सकता है कि वह आँतों में अवरोध या ऐसी किसी अन्य समस्या का शिकार हो जिसके लिए उसे त्वरित देखभाल की आवश्यकता है।
  • उसकी उल्टी में पित्त की मात्रा (जो कि एक हरा पदार्थ होता है) या रक्त हो जो पिसी हुई कॉफ़ी की तरह प्रतीत होता हो। यदि उल्टी में पित्त या रक्त की मात्रा है तो डॉक्टर इसका एक सैंपल (sample) देखना चाहेगा, अतः किसी प्लास्टिक (plastic) के बैग में इसे थोड़ा सा रख दें। हरा पित्त इस बात का संकेत है कि उसकी आँतों में अवरोध है, जो एक ऐसी स्थिति है जिसकी विशेष देखभाल की आवश्यकता है।
  • उसका पेट सूजा हुआ तथा नर्म हो। यह पेट में द्रव्य या गैस (gas), अवरोध युक्त आंत, हर्निया (hernia) या पाचन प्रणाली की किसी समस्या के होने का संकेत है। अवरोध असामान्य पर गंभीर होते हैं।
  • वह सिर की किसी चोट के बाद एक से अधिक बार उल्टी करता है, जो मस्तिष्क में लगी किसी चोट का संकेत है।

What should I do if I think my baby has swallowed something poisonous? – यदि मुझे ऐसा लगे कि मेरे बच्चे ने कोई विषैली वस्तु निगल ली है तो मुझे क्या करना चाहिए ?

यदि आपको शंका है कि आपके बच्चे ने किसी विषैली वस्तु का सेवन कर लिया है तो तुरंत अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ़ पाइजन कण्ट्रोल सेंटर (American Association of Poison Control Center) के आपातकालीन हॉटलाइन (hotline) नंबर (800) 222-1222 पर संपर्क करें।  यदि आपको यह पता चल जाए कि उसने क्या निगला है – उदाहरणस्वरुप आपको एक दवा की खाली शीशी प्राप्त हो – तो चिकित्सकीय विशेषज्ञों को बताएँ कि यह क्या है एवं वे आपको आगे की कार्यवाही का सुझाव देंगे।

पहले विशेषज्ञ अभिभावकों को विष से जुड़ी आपातकालीन स्थिति उत्पन्न होने पर आईपीकाक सिरप (ipecac syrup) या कार्यशील चारकोल (charcoal) रखने की सलाह देते थे।  पर अब स्थिति बिल्कुल अलग है।  आईपीकाक विष का इलाज करने का प्रभावी उपचार नहीं है, एवं कार्यशील चारकोल घर पर बच्चों को देने के लिए सुरक्षित या प्रभावी उपचार नहीं समझा जाता।

यदि आपके घर में आईपीकाक है तो एएपी (AAP) यह प्रस्तावित करता है कि आप इसे तुरंत एवं सुरक्षित रूप से फेंक दें।(कभी भी किसी ऐसे कूड़ेदान में दवाइयां ना फेंकें जहां तक आपके बच्चे की पहुँच हो)

loading...