How to stop breastfeeding and when? – स्तनपान कब और कैसे बंद करें?

क्या आप अपने बच्चे को स्तनपान करना बंद करने के लिए तैयार हैं? यह आपके जीवन की एक प्राकृतिक प्रक्रिया है और एक निश्चित समय के बाद स्तनपान कैसे बंद करें, इसके लिए आपको कुछ उपाय करने पड़ते हैं। स्तनपान बंद करने का उचित समय तब होता है जब आपका बच्चा या बच्ची लगभग एक साल का हो गया हो।

वैसे तो विशेषज्ञों का कहना है कि, अगर बच्चा अपने आप ही स्तनपान करना छोड़ दे तो यह बहुत ही अच्छा होता है लेकिन अगर वो ऐसा नहीं करता तो माँ को ही प्रारम्भिक कदम उठाने होंगे। एक साल कि उम्र पूरी कर लेने के बाद केवल माँ का दूध बच्चे के विकास के लिए पर्याप्त नहीं होता है। यह बच्चे के जन्म के बाद 6 महीने तक उसके सम्पूर्ण आहार कि पूर्ति का सबसे बेहतर स्रोत है। आप अपने बच्चे के डॉक्टर से सलाह लेकर उसे माँ के दूध के साथ कुछ अतिरिक्त आहार भी दे सकते हैं।

पहले रात में स्तनपान करना बंद करें (Stop breastfeeding at night first)

बच्चे के पालन पोषण के दौरान किसी भी माँ के लिए सबसे परेशानी भरा समय रात के वक़्त बच्चे को दूध पिलाने का समय होता है। दिन के समय का स्तनपान बंद करने के पहले आप रात का स्तनपान बंद करने पर ध्यान दें। जब आप बच्चे को सुला रही हों और बच्चे को अब तक चूसने कि आदत है तब आप उसे सांत्वना दे सकतीं हैं, पर सिर्फ बच्चे के लिए आपको रात का स्तनपान बंद करने कि ज़रूरत नहीं है बल्कि आपके लिए भी गहरी नींद ज़रूरी है।

थोड़ी खोजबीन कि कोशिश करें (You need to do some research on it)

बिना किसी अच्छे उपाय के अपने बच्चे का स्तनपान बंद ना करें। यह बिलकुल सच बात है कि, एक माँ ही अपने बच्चे कि सबसे अच्छी विशेषज्ञ होती है पर थोड़ी खोजबीन और अन्य बातें आपको स्तनपान के बारे में और अधिक जानकारी दे सकते हैं। हमेशा अपने डॉक्टर या अपने से बड़ों कि सलाह लें और पूछें कि स्तनपान कैसे बंद कर सकते हैं। इस बारे में आपके दोस्त, रिश्तेदार ,पड़ोसी और पालन-पोषण पर आधारित पत्र पत्रिकाएँ तथा ऑनलाइन रिसर्च (online research) आपको अच्छे उपाय बताने में मदद कर सकते हैं।

दिन के वक़्त ज़्यादा स्तनपान कराएं (Feed more at day)

अपने बच्चे के स्वास्थ्य से संबन्धित एक बात का ध्यान अपने दिमाग में हर वक़्त रखें कि स्तनपान बंद कराने के चक्कर में कहीं आपके बच्चे का पोषण अधूरा ना रह जाए। ऐसे में बच्चे के स्वास्थ्य के उचित और संतुलित आहार के लिए दिन के समय ज़्यादा बार दूध पिलाना आवश्यक है। दिन में तीन कि जगह दो- दो घंटों के अंतराल में स्तनपान कराएं। इससे आपके बच्चे को सही पोषण भी मिलता रहेगा और इस तरह रात के वक़्त स्तनपान कि आदत कम होती जाएगी।

 दिन में स्तनपान में कम से कम बाधा हो (Distractions should be minimized at daytime)

कोशिश करें कि बच्चे को बिना किसी बेचैनी या व्याकुलता के दिन के समय माँ का दूध मिलता रहे। एक कमरे को पर्दों कि मदद से बिलकुल अंधेरा कर दें ताकि कहीं से रोशनी या प्रकाश बाधा उत्पन्न ना करे। दरवाज़ा बंद कर बिलकुल शांति बनाए रखें। अपने बच्चे को गोद में लिटाकर स्तनपान कराएं और बिलकुल धीमी और सौम्य आवाज़ में उससे बात करें।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

एक बार में बच्चे का पेट हो भरा (Full the tummy with one feed)

आपको हमेशा इस बात कि अच्छी तरह जांच कर लेनी चाहिए कि, स्तनपान के बाद आपके बच्चे का पेट ठीक तरह से भर गया है। यह प्राकृतिक रूप से देखा जा सकता है कि जब एक बार आप बच्चे का स्तनपान रोक देतीं हैं तो उस वक़्त तो बच्चा एक बार में ही आसानी से छोड़ देता है पर यह इस बात का प्रमाण नहीं है कि उसका पेट भर गया है। विशेषज्ञों कि सलाह है कि, जब बच्चा एक बार में छोड़ दे तो उसे दोबारा स्तनपान कराने की कोशिश करें। एक बार में ही बच्चे का पेट ठीक तरह से भर जाने पर वह थोड़े ज़्यादा समय तक अगले स्तनपान से दूर रह सकता है।

loading...