Hazelnut in Hindi – हेजलनट खाने के फायदे

हेजलनट (Hazelnut) में मिठास की वजह से यह आजकल व्यंजनों के साथ काफी लोकप्रिय हो रहा है। चॉकलेट से बनने वाली कई मिठाईयों में इसका प्रयोग किया जाता है। अपने बेहतरीन स्वाद की वजह से इसका प्रयोग कॉफी के अलावा अन्य कई डिंक्स और पकाकर बनाए जाने वाले व्यंजनों में भी किया जाता है। स्वाद के अलावा भी हेजलनट के कुछ खास गुण भी हैं जिनकी वजह से इसे खाना फायदेमंद हो सकता है।

हेज़लनट के फायदे और नुकसान (Hazelnut ke fayde aur nuksan)

हृदय के लिए हेजलनट के फायदे हिन्दी में (Good for Cardiovascular health)

हेजलनट को पहाड़ी बादाम भी कहते हैं जो अनसेचुरेटेड फैट से भरपूर होता है। एक खास ओलीक एसिड नामक अनसेचुरेटेड फैट जो हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम कर अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ावा देता है, इसमें पाया जाता है। अगर आप आधे कप हेजलनट का सेवन करते हैं तो यह दिन भर के लिए ज़रूरी मैंगनीशियम का लगभग आधा हिस्सा होता है। यह शरीर में कैल्शियम के स्तर को भी सही रखता है और दिल से संबंधित सभी क्रियाओं को संतुलन प्रदान करता है।

नर्वस सिस्टम (Nervous system)

नर्वस सिस्टम को सही रखने में मददगार एमिनो एसिड हेज़लनट में बेहतरीन मात्रा में पाया जाता है, इसमें विटामिन बी6 की कमी भी पूरी की जा सकती है जो संसलेशण, सिरेटोनिन, न्यूरोट्रांसमीटर आदि के लिए ज़रूरी होता है।

मसल्स (Muscles)

मैंगनीशियम शरीर में मसल्स की मजबूती और उनके सही क्रियान्वयन के लिए बहुत ज़रूरी होता है, जो की पहाड़ी बादाम की मदद से आसानी से प्राप्त हो सकता है। इसके अलावा मैंगनीशियम मसल्स में होने वाले संकुचन को भी सही रखता है और मसल्स में तनाव, खिंचाव या मरोड़ आदि से बचाने में मदद करता है।

कैंसर से बचाव (Prevents cancer)

हेज़लनट में अल्फा टोपोफेरल किस्म का विटामिन ई पाया जाता है जो कैंसर जैसी बिमारी से बचाव का काम करता है। यह ब्लेडर में होने वाले कैंसर की संभावना को भी काफी हद तक कम करने में सक्षम है।

पाचन क्रिया को करे बेहतर (improves the health of digestive health)

हेज़लनट में अतिरिक्त मात्रा में फाइबर या रेशे होते हैं जो पाचन को सही रखते हैं और आंतों को नियमित रूप से संचालित करने हेतू प्रेरित करते हैं। पाचन तंत्र को सही रखने के लिए इसका सेवन किया जाना चाहिए।

आइरन के लिए (Provides Iron)

शरीर में आइरन की कमी को पूरा करने के लिए पहाड़ी बादाम का सेवन करना फायदेमंद होता है जो आयरन की कमी को पूरा करता है। नियमित रूप से मुट्ठीभर पहाड़ी बादाम रोजाना खाने से आयरन की कमी की समस्या काफी हद तक दूर हो जाती है।

हड्डी और जोड़ों के लिए हेज़लनट (Bone and joint health)

यह आपको हम पहले ही बता चुके हैं कि, हड्डियों के लिए मैंगनीशियम की प्रमुख भूमिका होती है जो शरीर की हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए ज़रूरी है। हड्डियों और जोड़ों से संबंधित रोगों में यह बहुत फायदेमंद है।

इन सभी लाभों को जानने के बाद आप समझ ही गए होंगे कि हेज़लनट या पहाड़ी बादाम का प्रयोग खाने में करने से क्या फायदे मिल सकते हैं, तो आज से ही मीठे के रूप में या सॉस, सूप, अथवा अन्य व्यंजनों के साथ इसका प्रयोग शुरू कर दें।

Subscribe to Blog via Email

Join 44,891 other subscribers

loading...