Winter foot care tips in Hindi for men & women – पुरुषों, महिलाओं के लिए शीतकालीन में पैरों की देखभाल की युक्तियाँ – अपनी शीतकालीन त्वचा दरार मुक्त बनायें।

हर मौसम का एक अच्छा और एक बुरा पक्ष होता है, तथा फटी एड़ियां ठण्ड के मौसम में होने वाले कई नुकसानों में से एक है। ठण्ड में अपनी एड़ियों को स्वस्थ अवस्था में रखने के लिए लोग कई तरह के बचाव के उपाय करते हैं। रूखी त्वचा से कई तरह की समस्याएं उत्पन्न होती हैं, जैसे दरारें, त्वचा का नर्म हो जाना (tenderness) और खून का निकलना। आपकी एड़ियों के दोनों तरफ ही दरारें पड़ सकती हैं, जो ठण्ड के मौसम में काफी हानिकारक सिद्ध हो सकता है। आपको ठण्ड में इस तरह अपनी एड़ियों को फटने से बचाना और उनमें नरमाहट का अहसास करवाना होगा। इस लेख में पुरुष और महिलाओं दोनों के लिए ठण्ड में पैरों की देखभाल के कुछ नुस्खे दिए जा रहे हैं।

जैसे ही सर्दियाँ आती हैं , लोग अपनी त्वचा और शारीरिक स्वास्थ्य के बारे में बहुत सतर्क हो जाते हैं । कई लोगों को सर्दियों के मौसम के दौरान विशेष रूप से पैरों में दरार (fati edi) होने की प्रवृत्ति होती है। अगर आप इसके बारे में परवाह नहीं करते हैं, तो यह गंभीर समस्याओं को जन्म दे सकता है। कुछ लोगों की  दरारों से खून भी बहता है। आप अपनी इच्छा के अनुसार सुंदर जूते नहीं पहन सकते। इसलिए, सर्दी के मौसम में आपको अपने पैरों का अतिरिक्त ध्यान रखना जरूरी है।

सर्दियों के दौरान पैर की देखभाल की युक्तियाँ (Foot care tips during winter)

फटे पैर – मोजे का प्रयोग (Using socks)

पैरों को संरक्षित रखने के लिए महत्वपूर्ण तरीकों में से एक है, मोजे (socks) का प्रयोग। सर्दियों में सिर्फ टोपी और दस्ताने के बाद, मोजे (socks) भी समान रूप से महत्वपूर्ण हैं। यदि एड़ी के  पास की त्वचा गीला हो जाती है तो, नरम त्वचा आसानी से ख़राब हो सकती है। यहां तक कि, फफोले वाली , कटी हुई और खरोंचो  वाली त्वचा भी इस स्थिति में बहुत आम हैं। अगर व्यक्ति किसी भी सुरक्षा के बिना चरम जलवायु मे हैं तो शीतदंश का खतरा भी है। इस प्रकार, सर्दियों के दिनों के दौरान पुरुष और महिला दोनों के लिए मोजे (socks) का उपयोग करना बहुत महत्वपूर्ण है।

बरसात के मौसम में पैरों की देखभाल कर उन्हें इंफेक्शन से बचाने के टिप्स जाने

फटे पैरों – चाप (आर्च या आर्क) की सहायता लेना (Getting arch support)

महिलाओं में गर्भावस्था या गर्भावस्था के बाद यह काफी आम है।वजन बढ़ना एक सामान्य प्रक्रिया है। ऐसी स्थिति में, मेहराब में तनाव होना काफी आम है। आर्क उपयोग एक महत्वपूर्ण विचार है। जैसे ही महिला का अतिरिक्त वजन बढ़ता है , मेहराब पर तनाव हो सकता है। सर्दी आने पर बहुत गंभीर हो जाती है। आपको  इससे अपने जूते में एक बेहतरीन कवरेज पाने के लिए जोड़ना चाहिए। यह बाजार में उपलब्ध कई ब्रांडेड जूतों में उपलब्ध है।

पैर फटना – जरूरत के हिसाब से जूते (Shoes according to needs)

सर्दियों के लिए विशेष जूते जो आपके पैरों को आरामदायक और गर्म रखने के लिए  होते हैं, बनाए जाते हैं। ठंडी हवा आपके पैरों को स्पर्श नहीं करना चाहिए। इस प्रकार, आप अपनी जरूरतों के हिसाब से जूते का चयन करें। आरामदायक और गर्म रहना, सर्दियों के दौरान एक महत्वपूर्ण उद्देश्य होना चाहिए। अगर आपके पैर बहुत ही संवेदनशील हैं और चोटों से ग्रस्त हैं, तो अपनी जरूरत के अनुसार सही प्रकार के जूते का चयन करना महत्वपूर्ण है।

एड़ी फटना – नमी प्रदान करना (मॉइस्चराइजिंग / Moisturizing)

सर्दियों के मौसम के दौरान रात को बिस्तर पर जाने से पहले, बहुत अच्छी तरह से अपने पैरों को मॉइस्चराइज  करना एक महत्वपूर्ण कदम होगा। इस सर्दियों के दिनों के दौरान फर्श पर पैर ना रखे और इस तरह की स्थिति से सावधान रहे।

फटी एड़ियां – पैरों को आराम दें (Give break to your feet – fati adiya)

अगर आप दिन भर में कई गतिविधियों में पैरों का उपयोग कर रहे हैं, तो अपने पैरों को थोड़ा आराम दें। ऊँची एड़ी के जूते, टखने की स्थिति को नुकसान पहुँचा सकते हैं। पैरों को थोड़ा आराम देने के लिए कुछ समय के लिए फ्लैट जूते और सैंडल पहनना चाहिए। आप अपने लिए लचीले कपड़े के जूते, जो अच्छी तरह से बिना किसी भी जटिलताओं के साथ फिट हों। यहां तक कि अगर आप पूरे दिन के लिए चल रहे हैं, तो कुछ समय के लिए आराम करें।

एडी फटना – नियमित पादचिकित्सा (पेडीक्योर / Regular Pedicure)

विशेष रूप से सर्दियों के मौसम के दौरान आपको , अच्छे , पेशेवर पार्लर में साप्ताहिक या पाक्षिक पेडीक्योर करना आवश्यक है। अधिक संभावना है कि मृत त्वचा आपके टखने पर दिखाई दे और आपको विफटित टखनें मिल सकते हैं। ऐसे मामलों में आप एक पेडीक्योर लेकर अपने पैरों को नरम और जीवंत करें। यदि आप पेशेवर सेवा करवाने में सक्षम नहीं हैं, तो आप घर पर खुद कर सकते हैं। पानी में हाइड्रोजन पेरोक्साइड मिलकर पैरों को इसमें डुबा के रखें। कुछ ही मिनटों के बाद मृत त्वचा को रगड़ें और इसे सुखा लें। अपने पैर के नाखूनों को काट दीजिए और कोमल त्वचा के लिए चिकई लगाइए।

इन प्राकृतिक घरेलू उपचारों का इस्तेमाल कर पैरों के दर्द से पाएं छुटकारा

फटी एड़ियों का इलाज – अपने पैर के अंगूठों के नाखूनों को ट्रिम कर दीजिए (Trim Your Toe Nails)

अपने पैरों में अल्सर और संक्रमण का एक कारण अक्सर न कटा हुआ या संक्रमित अंगूठा है। पानी में नाखूनों को डुबाकर, उन्हें काट लेने से आप अपने पैरों को संक्रमण के किसी भी जोखिम से बचा सकते हैं।

फटी बिवाई – छिलका उतारने वाला मास्क (Peel Masks)

आपके चेहरे की तरह,पैरों को भी छील मास्क की जरूरत है। ग्लाइकोलिक तेजाब युक्त छील मास्क का प्रयोग करें। यह मृत त्वचा कोशिकाओं या टूट त्वचा को हटाने में मदद करता है। मास्क (मुखौटा) लगाएं और थोड़ी देर के लिए अपने जूते पहनें। फिर अपने पैरों को धो लें। चिकने और नरम पैर मिलेंगे।

पैर फटना – पैरों का एक्सफ़ोलिएशन (Foot exfoliate)

इस मौसम में पैरों का एक्सफ़ोलिएशन (exfoliation) करें और अपनी एड़ियों के आसपास की मृत त्वचा को प्रभावी रूप से निकालें। ऐसी कुछ घरेलू विधियाँ हैं, जिनसे आपका एक्सफ़ोलिएशन प्राकृतिक रूप से हो जाएगा। चीनी और ओलिव ऑइल (olive oil) का एक्सफोलिएट आपकी त्वचा से मृत त्वचा को दूर करने का एक प्रसिद्ध और प्रभावी तरीका है। इसके लिए सिर्फ एक सेपरेटर (separator) लें तथा इसमें थोड़ा ओलिव ऑइल और एक चम्मच चीनी डाल दें। अब इसे अपने पैरों  और एड़ियों पर लगाएं तथा धीरे धीरे अपनी उंगलियाँ एड़ियों पर रगड़ते रहें। इससे मृत त्वचा निकल जाएगी तथा आपके पैरों की दरारें ठीक हो जाएंगी।

एड़ी फटना – घरेलू स्पा (Home spa)

आप घर बैठे ही अपने पैरों को स्पा का उपचार भी प्रदान कर सकते हैं। सबसे पहले एक पात्र की व्यवस्था करें जिसमें आप अपने पैर डुबो सकें। इसमें हल्का गर्म पानी (Luke warm water) डालें और इसमें अपने पैर 10 मिनट तक डुबोये रखें। इस विधि के प्रयोग से आपकी मृत त्वचा काफी मुलायम तथा आसानी से निकलने लायक बन जाएगी। इसके बाद एक प्युमिस स्टोन (pumice stone) का प्रयोग करें तथा इसे अपनी एड़ियों पर रगड़कर इससे मृत त्वचा को निकाल लें। इसके बाद इसे धोकर मृत त्वचा को निकाल लें। पैरों को एक तौलिये से पोंछें तथा बटर मिल्क मॉइस्चराइज़र (butter milk moisturizer) लगाएं।

पैरों के लिए सर्वश्रेष्ठ दुल्हन मेहंदी डिजाइन / मेहंदी डिजाइन

फटे पैर – पैरों को हाइड्रेट करें (Hydration of feet)

सिर्फ आपके शरीर को ही नहीं, बल्कि आपके पैरों को भी सही प्रकार से हाइड्रेट रहने की आवश्यकता होती है, जिससे फटी एड़ियों तथा नरमाहट की समस्या से बचाव किया जा सके। कुछ लोगों की काफी गर्म पानी से नहाने की आदत होती है जो कि काफी हानिकारक होती है, क्योंकि इससे हमारे शरीर में डिहाइड्रेशन (dehydration) के समस्या उत्पन्न हो जाती है। अगर आप अपनी त्वचा को हाइड्रेट रखना चाहते हैं तो रोजाना काफी मात्रा में पानी पीने की आदत डालें। रोजाना सिर्फ 3 से 4 गिलास पानी पीना शरीर को हाइड्रेट करने के लिए पर्याप्त नहीं है। अगर आप अपने शरीर में सही मायनों में पानी की कमी होने देना नहीं चाहती हैं तो आपको इससे दोगुनी मात्रा में पानी का सेवन करे की आवश्यकता पड़ेगी।

फटे पैरों – नारियल के तेल से मसाज (Coconut oil massage)

पैरों की मसाज से वे लम्बे समय तक हाइड्रेट रहते हैं और उन्हें पोषण भी मिलता रहता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि त्वचा के रोमछिद्र (pores) मसाज के तेल को खुद में सोख लेते हैं तथा और आपको पर्याप्त मात्रा में नमी प्रदान करने की क्षमता रखते हैं। नारियल का तेल एक बेहतरीन तेल है, जो आपके पैरों की मसाज करने के सबसे फायदेमंद तेलों में से एक है। 2 चम्मच नारियल का तेल लें और इससे अपने पैरों पर तब तक धीरे धीरे मसाज करें, जब तक आपकी त्वचा सारे तेल को अपने में सोख ना ले। इससे आपके पैर काफी मुलायम और आकर्षक बन जाएंगे।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday